एस्ट्रोस्वामीजी की ओर से नववर्ष 2020 की हार्दिक शुभकामनाये! अभी साइन-अप करे और पायें 100 रु का मुफ्त टॉक-टाइम ऑनलाइन ज्योतिष परामर्श पर!

मंगल गोचर 2020 - Mangal Gochar 2020


मंगल ग्रह ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रह गोचर में अपना तीसरा स्थान रखते हैं। मंगल ग्रह को भौम या भूमिपुत्र भी कहा गया है। मंगल अग्नि तत्व और क्रोध के देवता भी माने जाते हैं। इनका रंग शास्त्रों में लाल वर्ण का बताया गया है। साथ में इन्हें युद्ध और उत्साह का देवता भी माना जाता रहा है। जन्म कुंडली में मंगल प्रथम भाव यानी के लग्न के स्वामी ग्रह मानें जाते है। यह हमारें शरीर के कारक ग्रह भी होते हैं। कुंडली में मंगल ग्रह की स्थिति यह बता देती है की जातक की शरीर शारीरिक सरंचना किस प्रकार है, वह दुबला पतला है अथवा सुडौल और बलिष्ठ शरीर वाला है। यह सब मंगल ग्रह के ऊपर ही निर्भर करता है। हमारे शरीर के मुख्य कारक तत्व रक्त का कारक भी मंगल ग्रह ही है अर्थात शारीरिक दृष्टि से मंगल का जन्म पत्रिका में बहुत महत्वपूर्ण स्थान है।

मंगल गोचर अवस्था

यदि गोचर की बात करें तो मंगल ग्रह लगभग 45 दिनों के भीतर अपनी राशि गोचर परिवर्तित करते हैं। मंगल ग्रह मकर राशि में 28 डिग्री तक परम् उच्च की अवस्था में होते हैं उस समय मंगल ग्रह अपना सबसे अच्छा प्रभाव देते हैं। जबकि कर्क राशि के 28 डिग्री तक नीचस्थ होते हैं उस समय उनका प्रभाव थोड़ा परेशानी वाला हो सकता है। नवग्रह मंडल में मंगल ग्रह के सूर्य, चंद्रमा, और बृहस्पति मित्र ग्रह हैं और साथ ही बुध शत्रु ग्रह हैं तथा शुक्र एवं शनि सम अवस्था के कहे जाते हैं।

मित्र सम शत्रु उच्च नीच स्वराशि कारक राशि परिवर्तन समय
सूर्या, चन्द्र, गुरु शुक्र, शनि बुध मकर 28° कर्क 28° मेष, वृश्चिक सहज 45 दिन

मंगल गोचर प्रभाव

मित्र ग्रहों की राशियों में मंगल का प्रभाव बहुत शुभ माना जाता है व समान ग्रहों के साथ मंगल का प्रभाव सामान्य होता है। शत्रु ग्रहों के साथ मंगल का प्रभाव कष्टदायक कहा गया है। शुक्र के साथ मंगल की युति होने पर व्यभिचार तथा शनि के साथ होने पर क्लेश होता है। गृह गोचर के अनुसार मंगल दक्षिण दिशा के स्वामी, रक्त वर्ण तथा धैर्य और पराक्रम के कारक ग्रह हैं। जन्मकुंडली के तीसरे और छठे स्थान में मंगल बली माने जाते हैं। दुसरे स्थान में मंगल निष्फल होते हैं। दसवें और आठवें स्थान में भी विशेष प्रभावी तथा चंद्रमा के साथ श्रेष्ठबलि माने जाते हैं। मंगल ग्रह को कुंडली में बहन एवं भाइयों का कारक भी माना जाता है। यदि किसी जातक की पत्रिका में मंगल की स्थिति और लग्न चतुर्थ भाव, सप्तम, आठवें या बारहवें भाव में हो तो वह मांगलिक भी माना जाता है। आइये जानते हैं की कब और किस राशि में मंगल ग्रह का राशि परिवर्तन हो रहा हैं। मंगल ग्रह का गोचर आपकी राशि पर क्या परिवर्तन लायेगा? जानिए सम्पूर्ण जानकारी मंगल ग्रह के राशि परिवर्तन को लेके।

जानिए आपकी कुंडली पर ग्रहों के गोचर की स्तिथि और उनका प्रभाव, अभी एस्ट्रोस्वामीजी के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यो से परामर्श करें।

ग्रह मंगल राशि परिवर्तन 2020 तिथि व समय

मंगल का राशि परिवर्तन तिथि समय
तुला से वृश्चिक राशि में बुधवार, 25 दिसंबर 2019 9:27 PM
वृश्चिक से धनु राशि में शुक्रवार, 07 फरवरी, 2020 3:50 AM
धनु से मकर राशि में रविवार, 22 मार्च, 2020 2:39 PM
मकर से कुम्भ राशि में सोमवार, 04 मई, 2020 8:39 PM
कुम्भ से मीन राशि में गुरुवार, 18 जून, 2020 8:15 PM
मीन से मेष राशि में रविवार, 16 अगस्त, 2020 6:31 PM
मेष राशि, वक्री गुरुवार, 10 सितंबर, 2020 3:30 AM
मीन में, वक्री रविवार, 04 अक्टूबर, 2020 10:06 AM
मीन में, मार्गी शनिवार, 14 नवंबर, 2020 6:06 AM
मेष राशि, वक्री गुरुवार, 24 दिसंबर, 2020 10:18 AM
वृष राशि में सोमवार, 22 फरवरी, 2021 4:35 AM
वृष से मिथुन राशि में मंगलवार, 13 अप्रैल, 2021 1:12 AM
बुध गोचर

बुध गोचर 2020

ग्रह गोचर में बुध ग्रह का स्थान चतुर्थ स्थान पर आता है। बुध को ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बुद्धि का तथा प्रखरता का स्वामी माना जाता है। पौराणिक शास्त्रों....

बृहस्पति गोचर

बृहस्पति गोचर 2020

गोचर में बृहस्पति ग्रह को ज्ञान का देवता कहा गया है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बृहस्पति, ग्रह मंडल में मुख्य ग्रह के रूप में माने जाते है। वह विद्वता और....

शुक्र गोचर

शुक्र गोचर 2020

ग्रह गोचर में छटठा स्थान शुक्र ग्रह का है। शुक्र ग्रह हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार दैत्यगुरु के रूप में भी जाने जाते हैं | ग्रह गोचर में शुक्र को जीवन का कारक ग्रह ....

शनि गोचर

शनि गोचर 2020

गृह गोचर में शनि ग्रह का क्रम सातवें स्थान पर आता है। पौराणिक शास्त्रों के अनुसार शनि, सूर्य के पुत्र हैं। इसके साथ ही शनि को न्याय का देवता भी कहा जाता है। शनि का रंग....

राहु गोचर

राहु गोचर 2020

ग्रह गोचर में राहु का क्रमांक आठवें स्थान पर आता है। राहु ग्रह को बल कारक भी माना जाता है। इसके साथ ही मति भ्रामकता का भी एक कारण राहु ग्रह को....

केतु गोचर

केतु गोचर 2020

ग्रह गोचर के क्रम अनुसार केतु का स्थान नवाँ हैं। केतु को कृष्ण वर्ण वाला ग्रह माना जाता है। साथ ही केतु की आकृति ध्वजा के जैसी मानी जाती है। केतु को ....

सूर्य ग्रहण

सूर्य ग्रहण 2020

ग्रह गोचर में सूर्य ग्रहण को एक आश्चर्यजनक खगोलीय घटना मानी जाती है। सूर्य ग्रहण गोचर कि वह स्थिति है, जिसको कि हम लोग अपनी आँखों के माध्यम....

सूर्य गोचर

सूर्य गोचर 2020

सूर्य ग्रह, ग्रहों में अपना सबसे पहला स्थान रखते हैं। तो यदि हम ग्रह गोचर की बात करें तो विशेषकर सूर्य 14 अप्रैल से लेकर 15 मई के बीच....

चंद्र ग्रहण

चंद्र ग्रहण 2020

ग्रह गोचर में सूर्य और चंद्र के बीच जब पृथ्वी आ जाती है और पृथ्वी की छाया चंद्र ग्रहण के ऊपर पड़ती है तो चंद्र ग्रहण का परिदृश्य सामने होता है। यह एक अद्भुत....

चंद्र गोचर

चंद्र गोचर 2020

ग्रह गोचर में चंद्र ग्रह कि बहुत ही बड़ी भूमिका मानी जाती है। भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्र नवग्रहों में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। वेद शास्त्रों में....