आज के ऑफर : 300Rs तक के रिचार्ज पर 10% EXTRA और 500Rs या उससे ऊपर के रिचार्ज पर 15% EXTRA प्राप्त करें।

गोचर 2020 - Grah Gochar 2020


भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य आदि ग्रह अपने परिभ्रमण पथ पर निरंतर गतिमान रहते हैं। अर्थात वे सदैव आगे बढ़ते रहते हैं, इसी गतिविधि को ग्रहों का गोचर (Gochar) कहते हैं जिसे संस्कृत भाषा के अनुसार गमन करना, या ग्रहो की चाल कहा गया है। हमारे सौर मंडल में जब नवग्रह प्रति क्षण गोचर करते रहते हैं। उनके गति करने के या परिभ्रमण करने से हमारे जीवन के ऊपर और समस्त जीवन जगत ही नहीं बल्कि समस्त ब्रह्मांड प्रभावित होता हैं। ग्रहों के लिए प्रतिक्षण गोचर करने से समस्त प्राणियों का, यहाँ तक कि मनुष्य एवं सभी जीव संसार का जीवन प्रभावित होता है।

ग्रहों का राशि परिवर्तन क्या हैं?

क्योंकि सभी ग्रहों की गति भिन्न होती है। जिस प्रकार से चंद्रमा मात्र सवा दो दिन में एक राशि को गोचर करते हैं, वहीं सूर्य ग्रह के 30 दिनों में, (30 डिग्री कोण) एक राशि का गोचर ही करते हैं। वहीं अगर हम मंगल और बृहस्पति ग्रह की बात करे तो वो सवा साल (वर्ष) में अपनी राशि को परिवर्तित करते हैं। इसी प्रकार से शनि ग्रह पूरे ढाई वर्ष में अपनी राशि को परिवर्तित एवं प्रभावित करते हैं। जीवन ही नहीं जीव मात्र का वर्तमान एव भविष्य प्रभावित होता है | इसके अलावा ग्रहों के प्रभाव से मनुष्य की पीढ़ियां भी प्रभावित होती रहीं हैं। इनको समझने के लिए हम इसे एक उदाहरण से भी समझ सकते हैं। जिस प्रकार से एक विशेष समय में ईस्ट इंडिया कम्पनी का पूरे विश्व के ऊपर राज्य रहा है, एवं उनका वर्चस्व बड़ी ही प्रभावी स्तिथि में एक लम्बे दौर तक रहा। इसके अलावा इतिहास की बहुत सारी ऐसी घटनाएँ भी हुई हैं जो दर्शाती है कि एक विशिष्ट समय में कुछ विशेष प्रकार के कुछ कार्य अथवा घटनाक्रम घटते चले गए, जैसे की एच. आई. वी. वाइरस, प्लैग या कैंसर का फैलना भी ग्रहों के गोचर से ही प्रभावित होता है।

जानिए आपकी कुंडली पर ग्रहों के गोचर की स्तिथि और उनका प्रभाव, अभी एस्ट्रोस्वामीजी के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यो से परामर्श करें।

ज्योतिष शास्त्र में ग्रह गोचर का महत्व

ग्रह गोचर, वैदिक ज्योतिष की गणित (सिधांत) और फलित शाखा का एक अभिन्न अंग है। जिस प्रकार से शरीर में रक्त का प्रवाह होता है, जो की जीवन का कारक है। जिस प्रकार से यातायात की व्यवस्था से देश और राज्य चलते है, ठीक उसी प्रकार से वैदिक ज्योतिष में ग्रहों का गोचर है। जब ग्रह आकाश में अपने परिभ्रमण पथ पर नियमित रूप से अग्रसित होते हैं तो उसी भ्रमण की अवस्था को गोचर कहा गया है। ज्योतिष शास्त्र में मन गया हैं की ग्रहो और नक्षत्रों का प्रभाव सीधा मनुष्य की जीवन पर होता हैं। ग्रहों के गोचर की गति के कारण ही संसार गतिमान हैं। वैदिक ज्योतिष में कहा गया हैं की संसरति इति संसाराअर्थात जो लगातार गतिमान है वही संसार है। सूर्य, चन्द्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु, और केतु के द्वारा नित्य जो मेष आदि बारह राशियों में परिक्रमा की जाती है और उसी के कारण जो उनकी अलग-अलग प्रकार की गति अलग-अलग प्रकार के सम्बन्ध व अलग-अलग प्रकार की स्तिथियाँ ही ज्योतिषीयो के गणना का आधार है। ग्रह गोचर सभी प्राणी जगत की लगातार परिवर्तित होने वाली अवस्था का कारण है। हम कह सकते है की ग्रह गोचर के बिना हम ज्योतिष शास्त्र और यहां तक की इस ब्रह्मांड की कल्पना भी नहीं कर सकते है। आइये जानते हैं की कब और किस राशि में किस ग्रह का आगमन हो रहा हैं। ग्रहो के इस गोचर 2020 का आपकी राशि पर क्या प्रभाव होगा। जानिए सम्पूर्ण जानकारी ग्रहो के राशि परिवर्तन को लेके।

2020 में ग्रहो का राशि परिवर्तन


मंगल गोचर

मंगल गोचर 2020

मंगल ग्रह ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रह गोचर में अपना तीसरा स्थान रखते हैं। मंगल ग्रह को भौम या भूमिपुत्र भी कहा गया है। मंगल अग्नि....

बुध गोचर

बुध गोचर 2020

ग्रह गोचर में बुध ग्रह का स्थान चतुर्थ स्थान पर आता है। बुध को ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बुद्धि का तथा प्रखरता का स्वामी माना....

बृहस्पति गोचर

बृहस्पति गोचर 2020

गोचर में बृहस्पति ग्रह को ज्ञान का देवता कहा गया है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बृहस्पति, ग्रह मंडल में मुख्य ग्रह के रूप....

शुक्र गोचर

शुक्र गोचर 2020

ग्रह गोचर में छटठा स्थान शुक्र ग्रह का है। शुक्र ग्रह हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार दैत्यगुरु के रूप में भी जाने जाते हैं | ग्रह गोचर में....

शनि गोचर

शनि गोचर 2020

गृह गोचर में शनि ग्रह का क्रम सातवें स्थान पर आता है। पौराणिक शास्त्रों के अनुसार शनि, सूर्य के पुत्र हैं। इसके साथ ही शनि को....

राहु गोचर

राहु गोचर 2020

ग्रह गोचर में राहु का क्रमांक आठवें स्थान पर आता है। राहु ग्रह को बल कारक भी माना जाता है। इसके साथ ही मति भ्रामकता का....

केतु गोचर

केतु गोचर 2020

ग्रह गोचर के क्रम अनुसार केतु का स्थान नवाँ हैं। केतु को कृष्ण वर्ण वाला ग्रह माना जाता है। साथ ही केतु की आकृति ध्वजा के जैसी....

सूर्य ग्रहण

सूर्य ग्रहण 2020

ग्रह गोचर में सूर्य ग्रहण को एक आश्चर्यजनक खगोलीय घटना मानी जाती है। सूर्य ग्रहण गोचर कि वह स्थिति है, जिसको कि हम....

सूर्य गोचर

सूर्य गोचर 2020

सूर्य ग्रह, ग्रहों में अपना सबसे पहला स्थान रखते हैं। तो यदि हम ग्रह गोचर की बात करें तो विशेषकर सूर्य 14 अप्रैल से लेकर 15 मई के बीच....

चंद्र ग्रहण

चंद्र ग्रहण 2020

ग्रह गोचर में सूर्य और चंद्र के बीच जब पृथ्वी आ जाती है और पृथ्वी की छाया चंद्र ग्रहण के ऊपर पड़ती है तो चंद्र ग्रहण का....

चंद्र गोचर

चंद्र गोचर 2020

ग्रह गोचर में चंद्र ग्रह कि बहुत ही बड़ी भूमिका मानी जाती है। भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्र नवग्रहों में....

2020 आपका साल है! अब अपनी पूरी रिपोर्ट प्राप्त करें और जानें कि 2020 में आपके लिए कौन से नियम छिपे हैं
पहले से ही एक खाता है लॉग इन करें

QUERY NOW !

Get Free Quote!

Submit details and our representative will get back to you shortly.

No Spam Communication. 100% Confidentiality!!