एस्ट्रोस्वामीजी की ओर से नववर्ष 2020 की हार्दिक शुभकामनाये! अभी साइन-अप करे और पायें 100 रु का मुफ्त टॉक-टाइम ऑनलाइन ज्योतिष परामर्श पर!

सूर्य ग्रहण 2020 - Surya Grahan 2020


ग्रह गोचर में सूर्य ग्रहण को एक आश्चर्यजनक खगोलीय घटना मानी जाती है। सूर्य ग्रहण गोचर कि वह स्थिति है, जिसको कि हम लोग अपनी आँखों के माध्यम से प्रत्यक्ष देख सकते हैं। सूर्य ग्रहण की घटना से मानव जाति हमेशा ही प्रभावित होती रही है। यहाँ तक कि प्राचीन ग्रंथो वेदो, में और महाभारत काल में भी सूर्य ग्रहण के विषय में बातें आयी है। आज के समय में भी सूर्य ग्रहण प्रासंगिक है। पुराणों के अनुसार महाभारत काल में जब महाभारत का युद्ध चल रहा था उस समय जयद्रथ वध का एक प्रसंग मिलता है। इस प्रसंग के अनुसार जयद्रथ वध करने के समय, दिन में ही सूर्य अस्तांचल की ओर चले गए तथा कुरुक्षेत्र की धरती में चारों तरफ अंधकार हो गया और कुछ समय बाद फिर सुर्य उदय हुआ, बाद में गणित शास्त्रों के माध्यम से पता लगा की वो घटना सूर्य ग्रहण की ही स्थिति के कारण हुई थी। पौराणिक शास्त्रों के अनुसार समुद्र मंथन के समय जब देवताओं और असुरों के मध्य में अमृतपान के लिए युद्ध हुआ तो उस समय राहु नामक असुर ने छल से अमृत का पान किया, उसी समय सूर्य तथा चन्द्रमा देवताओं ने राहु दैत्य को पहचाना, इस कारण राहु क्रोधित हो गया, क्योंकि वह अमृत पी चुका था इसलिए वह अमर हो गया तो उसने सूर्य और चंद्रमा के ऊपर आक्रमण किया। भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से उस दैत्य के सिर को धड़ से अलग कर दिया उससे राहु और केतु ये 2 ग्रह उत्पन्न हुए और यही दोनों ग्रह सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण का कारण हैं।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य ग्रहण

वैसे तो प्रत्येक अमावास्या को ग्रहण होता है परंतु गणित शास्त्र के अनुसार जब भी पृथ्वी और सूर्य के बीच चंद्र उपस्थित हो जाता है तथा चंद्रमा की जो छाया पृथ्वी के ऊपर पड़ती है उसी को सूर्य ग्रहण कहा जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य ग्रहण की घटना संसार के लिए शुभ नहीं मानी जाती क्योंकि सूर्य आत्मा एवं जीवन के कारक हैं सभी प्राणी जीव जगत सूर्य से ही ऊर्जा लेते हैं। सूर्य को ग्रहण होने के समय जो छाया पृथ्वी के ऊपर आती है उस समय नकारात्मक ऊर्जा का उत्सर्जन होता है निश्चित रूप से ही जिसमें जिस समय जिस राशि पर या नक्षत्रों के ऊपर ग्रहण होता है वह उनके लिए शुभ नहीं होता हैं।

सूर्य ग्रहण के प्रकार

सूर्य ग्रहण के बहुत से प्रकार ज्योतिष शास्त्र में बताये गए है जिसमे खंडग्रास ग्रहण, खग्रास ग्रहण, कंकण ग्रहण, पूर्ण ग्रहण, आंशिक ग्रहण आदि कई प्रकार के भेद अवस्था अनुसार होते हैं। इसके अलावा ग्रहणों में ग्रहण का प्रारम्भ काल जब ग्रहण शुरू होता है। मध्य काल, ग्रहण के बीच का समय और ग्रहण मोक्ष, समाप्तिकाल के समय का महत्वा होता है। इसको पुण्यकाल भी कहते है ग्रहण के बारे में कहा जाता है ग्रहण की शुरुआत में स्नान करना चाहिए। सूर्य ग्रहण के मध्य काल में जप, हवन और देवताओं की पूजा करनी चाहिए तथा समाप्ति पर श्राद्ध, अन्न आदि का दान करने के बाद स्नान करना चाहिए।

सूर्य ग्रहण के दौरान बरते ये सावधानियां

  • शास्त्रों में कहा गया है कि सूर्य ग्रहण के समय खास कर जिस राशि पर ग्रहण हो रहा हो उस राशी के लोगों को ग्रहण नहीं देखना चहिये।
  • सूर्य ग्रहण के समय खुले आकाश के नीचे नहीं रहना चाहिए।
  • इसके साथ ही जो गर्भवती स्त्रियां होती हैं उनके लिए तो विशेष बातें कहीं गई है उनको उस समय में किसी धार्मिक पुस्तक का या फिर शुभ मंत्रों का जाप करना चाहिए।
  •  सूर्य ग्रहण गर्भवती स्त्रियों को धातु से संबंधित वस्तुओं नुकीली चीज़ों और आलस्य निद्रा आदि का त्याग कर देना चाहिए।
  • सूर्य ग्रहण के दौरान इस मंत्र का करे जाप -ॐ आदित्याय विदमहे दिवाकराय धीमहि तन्न: सूर्य: प्रचोदयात

सूर्य ग्रहण 2020 सूतक काल

सूर्य ग्रहण के विषय में अन्य भी कई प्रकार की बातें शास्त्रों में बतायी गई है परंतु महत्वपूर्ण यही है की ग्रहण के कुछ समय पूर्व ही सूतक प्रारंभ हो जाता है। ग्रहण से शुरू होने से 12 घंटे पहले से सूतक प्रारंभ होता है। उस समय भोजन इत्यादि का परित्याग कर देना चाहिए। बच्चों एवं बुजुर्गों के लिए गंगाजल, तुलसी इत्यादि मिलाकर ही भोजन देना चाहिए।

जानिए आपकी कुंडली पर सूर्य ग्रहण की स्तिथि और प्रभाव, अभी एस्ट्रोस्वामीजी के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यो से परामर्श करें।

सूर्य ग्रहण 2020 तिथि व समय

सूर्यग्रहण तिथि
कंकड़ सूर्या गुरुवार, 26 दिसंबर 2019
कंकड़ सूर्यग्रहण रविवार, 21 जून, 2020
खग्रास, सूर्यग्रहण सोमवार, 14 दिसंबर, 2020
खग्रास, सूर्यग्रहण बुधवार, 26 मई 2021
कंकड़ सूर्यग्रहण 10 जून 2021 गुरुवार
खग्रास, सूर्यग्रहण शनिवार, 04 दिसंबर, 2021

मंगल गोचर

मंगल गोचर 2020

मंगल ग्रह ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रह गोचर में अपना तीसरा स्थान रखते हैं। मंगल ग्रह को भौम या भूमिपुत्र भी कहा गया है। मंगल अग्नि तत्व और क्रोध के देवता....

बुध गोचर

बुध गोचर 2020

ग्रह गोचर में बुध ग्रह का स्थान चतुर्थ स्थान पर आता है। बुध को ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बुद्धि का तथा प्रखरता का स्वामी माना जाता है। पौराणिक शास्त्रों....

बृहस्पति गोचर

बृहस्पति गोचर 2020

गोचर में बृहस्पति ग्रह को ज्ञान का देवता कहा गया है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बृहस्पति, ग्रह मंडल में मुख्य ग्रह के रूप में माने जाते है। वह विद्वता और....

शुक्र गोचर

शुक्र गोचर 2020

ग्रह गोचर में छटठा स्थान शुक्र ग्रह का है। शुक्र ग्रह हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार दैत्यगुरु के रूप में भी जाने जाते हैं | ग्रह गोचर में शुक्र को जीवन का कारक ग्रह ....

शनि गोचर

शनि गोचर 2020

गृह गोचर में शनि ग्रह का क्रम सातवें स्थान पर आता है। पौराणिक शास्त्रों के अनुसार शनि, सूर्य के पुत्र हैं। इसके साथ ही शनि को न्याय का देवता भी कहा जाता है। शनि का रंग....

राहु गोचर

राहु गोचर 2020

ग्रह गोचर में राहु का क्रमांक आठवें स्थान पर आता है। राहु ग्रह को बल कारक भी माना जाता है। इसके साथ ही मति भ्रामकता का भी एक कारण राहु ग्रह को....

केतु गोचर

केतु गोचर 2020

ग्रह गोचर के क्रम अनुसार केतु का स्थान नवाँ हैं। केतु को कृष्ण वर्ण वाला ग्रह माना जाता है। साथ ही केतु की आकृति ध्वजा के जैसी मानी जाती है। केतु को ....

सूर्य गोचर

सूर्य गोचर 2020

सूर्य ग्रह, ग्रहों में अपना सबसे पहला स्थान रखते हैं। तो यदि हम ग्रह गोचर की बात करें तो विशेषकर सूर्य 14 अप्रैल से लेकर 15 मई के बीच....

चंद्र ग्रहण

चंद्र ग्रहण 2020

ग्रह गोचर में सूर्य और चंद्र के बीच जब पृथ्वी आ जाती है और पृथ्वी की छाया चंद्र ग्रहण के ऊपर पड़ती है तो चंद्र ग्रहण का परिदृश्य सामने होता है। यह एक अद्भुत....

चंद्र गोचर

चंद्र गोचर 2020

ग्रह गोचर में चंद्र ग्रह कि बहुत ही बड़ी भूमिका मानी जाती है। भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्र नवग्रहों में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। वेद शास्त्रों में....