Nirjala Ekadashi 2023 - निर्जला एकादशी 2023 व्रत, तिथि शुभ मुहूर्त

निर्जला एकादशी हिंदुओं की एक ऐसी एकादशी है जो भगवान विष्णु को समर्पित है। यह 'ज्येष्ठ'के चंद्र माह के दौरान शुक्ल पक्ष में आती है। इसी कारण से इस एकादशी को 'ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी'के नाम से भी जाना जाता है। आमतौर पर निर्जला एकादशी 'गंगा दशहरा'के बाद आती है, लेकिन कभी-कभी एक ही तिथि पर मेल खाती हैं। यदि धार्मिक रूप से देखा जाए, तो निर्जला एकादशी व्यक्ति के सभी पापों को धो देना माना जाता है। इस एकादशी को पांच पांडव भाइयों के कारण 'पांडव निर्जला एकादशी'या 'पांडव भीम एकादशी'के नाम से भी जाना जाता है। 'निर्जला'शब्द का अर्थ है 'बिना पानी के'और इसलिए इस एकादशी का व्रत बिना पानी और भोजन के साथ मनाया जाता है। निर्जला एकादशी सबसे कठिन और महत्वपूर्ण एकादशी है जो कट्टर विष्णु भक्तों द्वारा की जाती है।

कब है 2023 में निर्जला एकादशी

अब हम यह जानेंगे कि इस वर्ष अर्थात 2023 में यह पवित्र निर्जला एकादशी कब पड़ने वाली है। तो जानकारी के अनुसार आपको बता दें कि 2023 में निर्जला एकादशी पूरे भारतवर्ष में 31 मई को पड़ने वाली है। मतलब इस दिन लोग बिना पानी पिए और कुछ खाये इसका पालन करेंगे।

क्या है शुभ मुहूर्त, Significants of 2023 Nirjala Ekadashi

निर्जला एकादशी व्रत 2023 के शुभ मुहूर्त की बात करें तो इसके पारणा का मुहूर्त 10 जून 2021 को 05:22:47 से 08:10:11 तक रहने वाला है। इसकी अवधि 2 घंटे 47 मिनट है।

निर्जला एकादशी व्रत 2023 के अनुष्ठान

1) जैसा कि नाम से पता चलता है कि निर्जला एकादशी व्रत 2023 को पानी की एक बूंद भी नहीं पीनी चाहिए। इसलिए यह व्रत सबसे सख्त और पवित्र है। गर्मी के मौसम में भी यह व्रत पड़ता है, भोजन से पूरी तरह परहेज करना कोई आसान काम नहीं है। निर्जला एकादशी व्रत 24 घंटे तक रहता है, जो एकादशी तिथि के सूर्योदय से शुरू होकर द्वादशी तिथि के सूर्योदय तक होता है। किसी प्रकार की व्याधियों से पीड़ित या दवाई खाने वालों को निर्जला एकादशी का व्रत नहीं रखना चाहिए। ऐसे भक्तों के लिए, आंशिक उपवास को मंजूरी दी जाती है, क्योंकि कठोर उपवास नियमों की तुलना में भगवान की भक्ति अधिक आवश्यक है।

2) निर्जला एकादशी व्रत की शुरुआत दशमी से हो जाती है। इस प्रार्थना को पूरा करने के बाद, भक्तजन सूर्यास्त से पहले भोजन (चावल के बिना) करते है। पूरी निर्जला एकादशी के दिन व्रत जारी रहता है। व्रत का पालन करने वाला 12वें दिन भगवान विष्णु की पूजा और ब्राह्मणों को भोजन कराने के बाद उपवास तोड़ता है।

3) निर्जला एकादशी के दिन, भगवान विष्णु की पूरे समर्पण के साथ पूजा की जाती है। भक्त अपने स्वामी को तुलसी के पत्ते, फूल, फल और मिठाई चढ़ाते हैं। भगवान विष्णु की मूर्ति को सुंदर रूप से सजाया जाता है और शाम को ढोल और अगरबत्ती के साथ पूजा की जाती है।

4) निर्जला एकादशी व्रत के पालनकर्ता को पूरी रात जागते रहना चाहिए और इसलिए वे इस अवसर के लिए आयोजित भजन और कीर्तन में भाग लेने के लिए भगवान विष्णु के मंदिरों में जाते हैं।

5) इस दिन भगवान विष्णु को समर्पित 'विष्णु सहस्त्रनाम'और अन्य वैदिक मंत्रों को पढ़ना शुभ माना जाता है। निर्जला एकादशी पर गरीबों और जरूरतमंदों को कपड़े, भोजन, पानी और अन्य आवश्यक वस्तुओं का दान करना एक अच्छा कार्य है।

निर्जला एकादशी 2023 के राशि प्रभाव के बारे में जानने के लिए हमारे बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से बात करे । अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


Recently Added Articles