>

कुज दोष - वैवाहिक जीवन में उत्त्पन्न करता हैं बाधाएँ

कुज दोष - वैवाहिक जीवन में उत्त्पन्न करता हैं बाधाएँ

यदि आप भी परेशान है कि आपकी शादी नहीं हो पा रही है या शादी हो गई है तो भी खुशी से आप अपना वैवाहिक जीवन नहीं जी पा रहे है। इसके पीछे एक बड़ा कारण छिपा हो सकता है। वो कारण कोई साधारण कारण नहीं है। नहीं ही किसी साधारण बात आपके जीवन के इतने अहम हिस्सों को प्रभावित कर सकती है। चलिए आपको बता देते है कि क्या कारण है कि हमारे विवाह में अड़चन आ रही है। आप क्यों अपने वैवाहिक जीवन सहीं से नहीं जा पा रहे है। दरअसल इसके पीछे वजह है कि आपकी कुंडली में कुज योग है। यह योग मंगल लग्न, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम या द्वादश भाव में होने से बनता है। मंगल ग्रह कुज योग का बनने का मुख्य कारण है। इसलिए इस योग को मांगलिक योग भी कहा जाता है।

कुज योग / कुज दोष के प्रभाव

कुज योग के प्रभाव से स्त्री और पुरूष की कुंडली में मंगल बैठ जाता है। जिसके प्रभाव कुछ ऐसा होता है कि कुंवारे जीवन में भी इसका असर दिखता है।

1.  यदि आपकी कुंडली में इस योग के भाव हैं तो आप मांगलिक है। आपकी शादी भी किसी मांगलिक से ही करनी होगी।

 

2.  मांगलिक कुंडली वाले किसी मांगलिक के साथ ही जीवन यापन कर सकते है।

3.  जब किसी कुज दोष वाले या मांगलिक की शादी किसी दूसरे कुंडली भाव वाले से हो जाती है तो वह जीवन भर दुखी रहता है।

4.  इस दोष के प्रभाव में जातक को क्रोध ज्यादा आता है, वह हमेंशा गुस्से के भाव में रहता है।

5.  इस प्रकार के दोष के प्रभाव का असर सीधा वैवाहिक जीवन पर पड़ता है।

कुज दोष से बचने के उपाय

1.  इस दोष से बचने के लिए हनुमान जी का पूजन करना चाहिए, हर मंगलवार को बन्दरों को चने खिलाए।

2.  हर रोज मंदिर जाए और मंगलवार के दिन हनुमान चालिसा का जाप करें।

3.  अपने घर में मंगल ग्रह को शांत करने के लिए हवन और पूजन कराए।

4.  साथ ही पीपल और वटवृक्ष को जल अर्पित करें और पीपल की परिक्रमा करें।

5.  यदि शादी के पहले ही कुज योग के बारें में पता चल जाए तो मांगलिक से ही शादी करनी चाहिए।

6.  गरीबों की सेवा करें और ज्यादा से अन्न दान करें। 

7.  कलयुग के देवता हनुमान जी ही इस योग से छुटकारा दिला सकते है, इसलिए उन्हें प्रसन्न करने के लिए हर अथक प्रयास करें।

8.  महामृत्युजय मंत्र का जाप करें क्योंकि अस मंत्र से हर प्रकार के दुख से छुटकारा पाया जा सकता है।

9.  यदि कोई लड़की मांगलिक है, तो लड़की की शादी पहले शास्त्रीय विधि के द्वारा भगवान विष्णु प्रतिमा से विवाह कराए।

दम्पति में यदि इस योग के प्रभाव है तो लालवस्त्र धारण कर तांबे के पात्र को चावल से भरकर श्री हनुमान मंदिर में भगवान की प्रतिमा के पास रख आए। इससे आपको जरूर इस योग से होने वाले कष्टों से मुक्ति मिलेगी।

 

यहाँ पढे कुज योग का अँग्रेजी अनुवाद

 


Recently Added Articles
लोकसभा चुनाव 2024 ज्योतिषी भविष्यवाणी
लोकसभा चुनाव 2024 ज्योतिषी भविष्यवाणी

भारत में 2024 में लोकतंत्र का महा पर्व, 18वीं लोकसभा का चुनाव होने जा रहा है। आप सभी पाठकों को यह जानकर खुशी होगी कि हमने 2019 में पिछली 17वीं लोकसभा ...

Mata Katyayani
Mata Katyayani

नवरात्रि के छठे दिन माँ कात्यायनी की पूजा की जाती है। इनके चार भुजाएं होती हैं। ऊपर वाले दाहिने हाथ में अभय मुद्रा और नीचे वाले दाहिने हाथ में वर मुद्...

माँ ब्रह्मचारिणी
माँ ब्रह्मचारिणी

माँ ब्रह्मचारिणी, नवरात्रि के दूसरे दिन पूजित की जाती है। यह माँ दुर्गा का दूसरा रूप है। माँ ब्रह्मचारिणी अपने भक्तों के दुःखों और परेशानियों को हटाकर...

माँ सिद्धिदात्री - नवरात्रि का नौवां  दिन
माँ सिद्धिदात्री - नवरात्रि का नौवां दिन

नवरात्रि के नौवें और अंतिम दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। मां दुर्गा की नौवीं रूप सिद्धिदात्री की पूजा से उनके भक्तों को महान सिद्धियाँ ...