मांगलिक दोष क्या है और विवाहित जीवन पर इसका प्रभाव कैसे पड़ता है

मंगल एक शत्रुतापूर्ण ग्रह है और इसे अशुभ माना जाता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार मंगल का नकारात्मक प्रभाव आमतौर पर विवाह और जीवन के बाद के विवाह में देखा जाता है। मांगलिक दोष, जिसे लोकप्रिय रूप से 'मंगली'के रूप में जाना जाता है, बहुत अशुभ है क्योंकि एक पीड़ित मूल जीवन भर अविवाहित रह सकता है। स्वाभाविक रूप से मांगलिक दोष और अपने जीवन पर इस ग्रह के नकारात्मक परिणामों के बारे में लोगों में एक सामान्य डर है, जो विशेष रूप से शादी को प्रभावित करता है।

मांगलिक दोष अशुभ क्यों माना जाता हैं?

मांगलिक दोष वैदिक ज्योतिष के ज्योतिषीय विश्लेषण ने मंगल को एक आरोही माना है और 2, 4, 7 वें, 8 वें और 12वें घर में इसका स्थान अशुभ माना है। मंगल इन घरों में विवाहित जीवन का हत्यारा है। इन 5 घरों में अन्य अशुभ ग्रहों के साथ अपनी स्थिति के अनुसार मंगल अधिक पुरुषवादी हो जाता है। मंगल और 2 पुरुष ग्रहों का संयोजन इसे दो बार हानिकारक बनाता है । इन 5 घरों में मंगल का नकारात्मक प्रभाव अलग है।

अगर आप भी हो मांगलिक और आपका वैवाहिक जीवन भी परेशानियों से भरा है तो अभी बात करे भारत के प्रसिद्ध अनुभवी ज्योतिषियों से और पायें एक खुशहाल वैवाहिक जीवन।

द्वितीय भाव में मंगल

मंगल दूसरे भाव में भी मांगलिक दोष से पीड़ित है। यह घर धन और रिश्तेदारों का महत्व है। एक पुरुष मंगल अपने या अपने परिवार के सदस्यों के साथ एक मूल निवासी के संबंधों को प्रभावित करता है। एक मंगल पीड़ित जातक अपने जीवनसाथी से अलगाव का सामना कर सकता है। दंपति के बीच लगातार मतभेद और चिंता हो सकती है।

चतुर्थ भाव में मंगल

4वें घर में मंगल 4वें घर में मंगल कुंडली के 7वें, 10वें और 11वें घर में है। इस घर में मंगल अपने मूल निवासियों को स्थिर धन प्रदान करता है लेकिन जीवन कठिन हो जाता है। जीवन साथी के घर पर मंगल का पहलू एक परेशान विवाहित जीवन का कारण बन सकता है।

8 वें भाव में मंगल

8वें घर में मंगल 8वें घर में जीवन की लंबी उम्र, खुशी, दुःख और घटनाओं का महत्व है। इस घर में मंगल बहुत हानिकारक है। यह सिर्फ शादीशुदा जिंदगी की खुशियों को निगलता है। 8वें घर में मंगल अत्यधिक मानसिक तनाव देता है। जीवन उसके अस्वस्थ होने के कारण प्रभावित होता है। मंगल इस घर में ग्रहों की शुभता को नकारता है। लेकिन अगर 8वें घर का मंगल वृष, कन्या या मकर राशि में गोचर करता है तो उसकी पुरुष शक्ति कम हो जाती है। मकर राशि का मंगल मूल के जातकों की संतान के लिए प्रतिकूल है।

12 वें घर में मंगल

12वें घर में मंगल 12वें घर में जातक के सुख, यात्रा, विश्राम, व्यय और भौतिक भोग का घर होता है। दंपति के बीच देखभाल और सहानुभूति की कमी है। मूल निवासी का परिवार खराब अर्थव्यवस्था से गुजरता है। मंगल मूल निवासी के यौन आकर्षण और अनैतिक प्रथाओं को बढ़ाता है।

मंगल की स्थिति का महत्व

विभिन्न घरों में मंगल की स्थिति वैवाहिक सुख को प्रभावित करती है। स्थिति के आधार पर किसी व्यक्ति को मांगलिक कहा जाता है। मंगल एक उग्र, उत्साहित, मजबूत और साहसी ग्रह है। इसकी उग्रता और आक्रामकता के कारण इसके मूल में समान गुण देखे जाते हैं।

मंगल रक्त का प्रतिनिधित्व करता है और संतान के लिए रक्त बहुत महत्वपूर्ण है। महिलाओं में मासिक धर्म के रक्त के लिए मंगल जिम्मेदार है। दूसरी ओर पुरुषों में यह संतान के लिए जिम्मेदार है जो रक्त के विकास का कारण है। मंगल के प्रभाव से एक व्यक्ति का अन्य लोगों के साथ संबंध और सौहार्द भी निर्धारित होता है। निष्कर्ष में मंगल एक व्यक्ति को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करता है।

कुंडली में मंगल का विश्लेषण जनम (जन्म) लगन, चंद्र (चंद्रमा) लगन, सूर्य (सूर्य) लग्न और शुक्र (शुक्र) लग्न से किया जाता है लेकिन जनम लग्न मंगल की स्थिति को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। यदि कुंडली में मंगल 1, 4, 7, 8, व 12 वें घर में मौजूद है तो यह निश्चित रूप से 7 वें घर को प्रभावित करेगा और इस वजह से जातक को जीवनसाथी से वांछित सुख नहीं मिल सकता है। जब मंगल इनमें से किसी भी घर में होता है तो एक व्यक्ति को मांगलिक कहा जाता है।

मंगल की स्थिति के कारण प्रभाव

विवाह के लिए लड़के और लड़की की कुंडली में मंगल की स्थिति का विश्लेषण किया जाता है। वर-वधू की कुंडली में मंगल की स्थिति विवाह में सुख को दर्शाती है। कई बार मंगल दोष के कारण जातक को विवाह में देरी और बाधा का सामना करना पड़ सकता है। मंगल दोष के प्रभाव के कारण जातक विधवा हो सकता है और जीवनसाथी की मृत्यु से संबंधित समस्याओं को सहन कर सकता है। शास्त्रों में मंगल के बहुत खतरनाक प्रभावों का वर्णन किया गया है, जो विवाहित जीवन को नुकसान पहुंचाते हैं।

मंगल दोष निवारण

मंगल दोष के निवारण के लिए ज्योतिष में कई उपाय भी किए गए हैं। ये उपाय मंगल दोष के नकारात्मक प्रभाव को खत्म करने में मदद करते हैं।

·        उपाय और शांति उपायों से मंगल दोष से मुक्ति पाई जा सकती है। मंगल शांति के लिए मंगल स्तोत्र, मंगल कवच, मंगल चंडिका स्तोत्र, अंगारक स्तोत्र का पाठ करें। 108 बार मंगल के नाम का जाप करें।

·        मंगलवार का व्रत, पूजा करें और पूजा करें। मंगल के लिए डिज़ाइन किए गए उपकरणों को पहनना, मंगल शांति पूजा आयोजित करना, लाल मूंगा का उपयोग करना मुख्य उपचार माना जाता है।

·        इसके अलावा कुछ अन्य उपाय भी हैं। इनमें से एक विष्णु विवाह है। मंगलवार के दिन 1 किलो मसूर की दाल लाल कपड़े में बांधकर किसी गरीब व्यक्ति को दान करें। बटाशा को बहते जल में अर्पित करें। बरगद के पेड़ की जड़ में दूध चढ़ाएं। नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करें। मंगलवार को सुंदरकांड का पाठ करें।

अंग्रेजी अनुवाद पढ़ने के लिए क्लिक करे।

Recently Added Articles
हिन्दू धर्म
हिन्दू धर्म

आपने सुना होगा कि हिन्दू धर्म से बढ़कर कोई धर्म नहीं है। यह सबसे प्राचीन धर्म है, इसकी शुरुआत मनु ऋषि...

दशहरा 2019 –  विजयदशमी 2019 पर्व तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि
दशहरा 2019 – विजयदशमी 2019 पर्व तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि

शुभ मुहूर्त दशहरा पर्व भारत में विजयदशमी के नाम से भी धूमधाम से मनाया जाता हैं।...

2019 में इस दिन है रमा एकादशी
2019 में इस दिन है रमा एकादशी

रमा एकादशी एक महत्वपूर्ण एकादशी व्रत है जो हिंदू संस्कृति में मनाया जाता है। यह 'कार्तिक'के हिंदू महीने के दौरान कृष्ण पक्ष ...

क्रिसमस डे 2019
क्रिसमस डे 2019

क्रिसमस का त्यौहार भारत के साथ-साथ विश्व के अधिकतर देशों में धूमधाम से मनाया जाने वाला है।...