>

Nag Panchami 2024 - कब हैं 2024 में नाग पंचमी तारीख व मुहूर्त?

प्रत्येक वर्ष श्रावण शुक्ल पंचमी को पूरे देश में नाग पंचमी का पर्व मनाया जाता है। इस दिन नाग देवता की पूजा की जाती है और यह नाग पूजा सुबह में ही की जाती है। शास्त्रों में बताया गया है कि पंचमी तिथि के स्वामी स्वयं नागदेव है। शास्त्रों के अनुसार नागों की पूजा करने से अपार धन, मनवांछित फल एवं शक्ति की प्राप्ति होती है।                           

श्रावण मास की पंचमी तिथि नागों को प्रसन्न करने वाली तिथि होती है। इसलिए इस दिन नागों की पूजा करना बेहद महत्वपूर्ण एवं विशेष माना गया है। इस दिन नाग-नागिन के जोड़े को गाय के दूध से स्नान करवाने की मान्यता है। यह पूजा करने से मनुष्य को सांपों के भय से मुक्ति मिलती है एवं पुण्य की प्राप्ति भी होती है।

kundli

नाग पंचमी की पूजा का फल

मान्यता के अनुसार नाग पंचमी के दिन पूजा करने से जीवन में आ रही संकटों का नाश होता है। इस दिन नागों की विधिपूर्वक पूजा करने से अनेकों मनोकामनाएं पूरी होती हैं। यदि इस दिन किसी व्यक्ति को नाग के दर्शन हो जाए तो उस व्यक्ति को सौभाग्य की प्राप्ति होती है। मान्यता यह भी है कि जिनकी कुंडली में काल सर्प दोष होता है उन्हें नाग पंचमी की पूजा करने से इस दोष से छुटकारा मिल जाता है। नाग पंचमी के दिन नागों की पूजा करने से राहु-केतु का बुरा प्रभाव कम होता है। इस दिन विधि विधान से पूजा करने से धन-धान्य में वृद्धि भी होती है।

नाग पंचमी 2024 पूजा विधि

• नाग पंचमी के दिन प्रातः काल उठकर स्नान करने के बाद सबसे पहले भगवान शंकर का ध्यान करें।

• इसके पश्चात व्रत उपवास एवं पूजा का संकल्प ले।

• इसके बाद नाग-नागिन के जोड़े की प्रतिमा को गाय के दूध से स्नान करवाएं।

•  दूध से स्नान करवाने के बाद जल से स्नान करवाएं।

• इसके पश्चात गंध, पुष्प, धूप एवं दीपक से पूजन करें।

• नाग-नागिन की प्रतिमा को हल्दी, रोली, चावल और फूल भी चढ़ाएं।

• इसके बाद कच्चे दूध में घी और चीनी मिलाकर अर्पित करें।

• इसके बाद मन में नागदेवता का ध्यान करते हुए उनकी आरती उतारे।

• अंत में नाग पंचमी की कथा को पढ़ें या सुने।

नाग पंचमी तिथि 2024

नाग पंचमी शुक्रवार 9 अगस्त 2024 को मनाई जाएगी

नाग पंचमी पूजा मुहूर्त - प्रातः 06:01 बजे से प्रातः 08:37 बजे तक

नाग पंचमी पूजा मुहूर्त अवधि - 02 घंटे 37 मिनट

पंचमी तिथि आरंभ - 09 अगस्त 2024 को 12:36 पूर्वाह्न

पंचमी तिथि समाप्त - 10 अगस्त 2024 को प्रातः 03:14 बजे

astrology-app


Recently Added Articles
राहुकाल
राहुकाल

ज्योतिष शास्त्र में राहुकाल को एक महत्वपूर्ण समय माना जाता है। इस समय में किसी भी शुभ कार्य का आरंभ नहीं किया जाता है, ...

माँ कालरात्रि - नवरात्रि का सातवां दिन
माँ कालरात्रि - नवरात्रि का सातवां दिन

नवरात्रि के सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा की जाती है। मां कालरात्रि देवी दुर्गा का सातवां स्वरूप हैं। मां कालरात्रि की पूजा करने से भक्तों को शक्ति...

मां महागौरी - नवरात्रि का आठवां दिन
मां महागौरी - नवरात्रि का आठवां दिन

नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है। देवी दुर्गा के आठवें स्वरूप के रूप में महागौरी की पूजा करने से साधक का मन शुद्ध होता है ...

माँ दुर्गा के 32 नाम
माँ दुर्गा के 32 नाम

पुराणों और वेदों में माँ दुर्गा के 32 नामों का उल्लेख मिलता है। मार्कंडेय पुराण और दुर्गा सप्तशती में इन नामों का विशेष महत्व बताया गया है।...