जानिए ब्रहस्पतिवार व्रत के बारे में पूरी जानकारी और विधि

जब भी हमारी जिंदगी में कोई बाधा आती है तो हम भगवान को याद करते है और फिर व्रत रखना शुरू करते है। जी हां, व्रत करना अच्छी बात है अगर आप किसी समस्या में है तो। तो आज हम बात करेंगे गुरूवार अर्थात ब्रहस्पतिवार व्रत के बारे में और जानेंगे कि इसकी विधि क्या है और क्या फायदे होते है।

सबसे पहले तो आपको बता दें कि ब्रहस्पतिवार को विष्णु भगवान एवं बृहस्पति देव दोनों की पूजा होती है, जिससे घर में सुख समृद्धि बनी रहती है। वहीं कुँवारी कन्याएं भी इस व्रत रखती है ताकि उन्हें अच्छा जीवन साथी मिले और कोई रुकावटें न आएं। कुछ ज्योतिषों का यह कहना है कि यदि कोई एक वर्ष तक गुरुवार के दिन नियमित रूप से व्रत करते हैं तो आपके घर में कभी भी पैसे रुपयों की कमी नही होती और हमेशा धन में वृद्धि होती है।

जैसा कि आपको बता दें कि एक साल में 16 गुरुवार व्रत रखना बहुत लाभदायक माना जाता है। इससे जो फल चाहिए वो मिल जाता है। 

भारत के जाने माने ज्योतिषियों द्वारा जाने भगवान बृहस्पति देव की पूजा विधि का सही तरीका।  अभी बात करने के लिए क्लिक करे।

ब्रहस्पतिवार व्रत को शुरू करने का सबसे अच्छा समय

तो अब आपके मन में यह सवाल उठता है कि आखिर कब से बृहस्पतिवार का व्रत शुरू करें तो पौष के महीने को छोड़कर आप इस व्रत को किसी भी माह के शुक्लपक्ष के पहले गुरुवार को शुरू कर सकते हैं। हालांकि ज्यादातर लोगों का यही कहना है कि शुक्ल पक्ष बहुत ही शुभ समय होता है।

यह है ब्रहस्पतिवार व्रत की विधि

तो आपने ऊपर गुरूवार व्रत के बारे में बहुत अच्छे से जान लिया लेकिन अब आपको इसकी विधि भी जाननी चाहिए। तो अगर हम व्रत की विधि की बात करें तो इसके लिए आपको सबसे पहले चने की दाल, गुड़, हल्दी, थोड़े से केले, एक उपला हवन करने के लिए और भगवान विष्णु की फोटो चाहिए होते है और साथ ही केले का पेड़ उपलब्ध हो तो वो भी लाएं। जिस दिन आपका व्रत है उस दिन हमेशा की भांति सुबह उठकर स्नान करें और भगवान की तस्वीर या मूर्ति को साफ़ करना चाहिए। वहीं एक लोटे में पानी लेकर उसमें थोड़ी हल्दी डालकर विष्णु भगवान को स्नान कराना शुभ माना जाता है और फिर एक पीला कपड़ा चढ़ा दें।

इसके बाद भगवान की पूजा अर्चना करें और पीला चावल भी अवश्य चढ़ाएं, घी का दीपक जलाएं। यदि कथा का ज्ञान का है तो उसका वाचन करें। व्रत के दिन जब पूजा अर्चना और हवन होता है तो उस दौरान 5 से 7 या 11 बार ॐ गुं गुरुवे नमः मन्त्र के साथ नाम लें।

एक ख़ास बात यह भी कि इस दिन आप इस दिन आप केले के पेड़ की पूजा करते हैं इसलिए गलती से भी केला न खाएं।

खैर, हम आशा करते है कि आपको गुरूवार व्रत से जुड़ी सारी जानकारी इस आर्टिकल में मिल गयी होंगी, अगर कुछ पूछना चाहते है तो हमें कमेंट करके पूछ सकते है।

ब्रहस्पतिवार व्रत का अंग्रेजी अनुवाद पढ़ने के लिए क्लिक करे

Recently Added Articles
दीपावली 2019 तिथि व शुभ मुहूर्त
दीपावली 2019 तिथि व शुभ मुहूर्त

Diwali 2019: दिवाली या दीपावली भारतवासियों का सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार है। दिवाली का त्यौहार हिंदुओं के लिए बड़ा महत्व रखता है ...

हिन्दू धर्म
हिन्दू धर्म

आपने सुना होगा कि हिन्दू धर्म से बढ़कर कोई धर्म नहीं है। यह सबसे प्राचीन धर्म है, इसकी शुरुआत मनु ऋषि...

2019 में इस दिन है रमा एकादशी
2019 में इस दिन है रमा एकादशी

रमा एकादशी एक महत्वपूर्ण एकादशी व्रत है जो हिंदू संस्कृति में मनाया जाता है। यह 'कार्तिक'के हिंदू महीने के दौरान कृष्ण पक्ष ...

क्रिसमस डे 2019
क्रिसमस डे 2019

क्रिसमस का त्यौहार भारत के साथ-साथ विश्व के अधिकतर देशों में धूमधाम से मनाया जाने वाला है।...