आज के ऑफर : 300Rs तक के रिचार्ज पर 10% EXTRA और 500Rs या उससे ऊपर के रिचार्ज पर 15% EXTRA प्राप्त करें।

ब्रहस्पतिवार व्रत विधि

जानिए ब्रहस्पतिवार व्रत के बारे में पूरी जानकारी और विधि

जब भी हमारी जिंदगी में कोई बाधा आती है तो हम भगवान को याद करते है और फिर व्रत रखना शुरू करते है। जी हां, व्रत करना अच्छी बात है अगर आप किसी समस्या में है तो। तो आज हम बात करेंगे गुरूवार अर्थात ब्रहस्पतिवार व्रत के बारे में और जानेंगे कि इसकी विधि क्या है और क्या फायदे होते है।

सबसे पहले तो आपको बता दें कि ब्रहस्पतिवार को विष्णु भगवान एवं बृहस्पति देव दोनों की पूजा होती है, जिससे घर में सुख समृद्धि बनी रहती है। वहीं कुँवारी कन्याएं भी इस व्रत रखती है ताकि उन्हें अच्छा जीवन साथी मिले और कोई रुकावटें न आएं। कुछ ज्योतिषों का यह कहना है कि यदि कोई एक वर्ष तक गुरुवार के दिन नियमित रूप से व्रत करते हैं तो आपके घर में कभी भी पैसे रुपयों की कमी नही होती और हमेशा धन में वृद्धि होती है।

जैसा कि आपको बता दें कि एक साल में 16 गुरुवार व्रत रखना बहुत लाभदायक माना जाता है। इससे जो फल चाहिए वो मिल जाता है। 

भारत के जाने माने ज्योतिषियों द्वारा जाने भगवान बृहस्पति देव की पूजा विधि का सही तरीका।  अभी बात करने के लिए क्लिक करे।

ब्रहस्पतिवार व्रत को शुरू करने का सबसे अच्छा समय

तो अब आपके मन में यह सवाल उठता है कि आखिर कब से बृहस्पतिवार का व्रत शुरू करें तो पौष के महीने को छोड़कर आप इस व्रत को किसी भी माह के शुक्लपक्ष के पहले गुरुवार को शुरू कर सकते हैं। हालांकि ज्यादातर लोगों का यही कहना है कि शुक्ल पक्ष बहुत ही शुभ समय होता है।

यह है ब्रहस्पतिवार व्रत की विधि

तो आपने ऊपर गुरूवार व्रत के बारे में बहुत अच्छे से जान लिया लेकिन अब आपको इसकी विधि भी जाननी चाहिए। तो अगर हम व्रत की विधि की बात करें तो इसके लिए आपको सबसे पहले चने की दाल, गुड़, हल्दी, थोड़े से केले, एक उपला हवन करने के लिए और भगवान विष्णु की फोटो चाहिए होते है और साथ ही केले का पेड़ उपलब्ध हो तो वो भी लाएं। जिस दिन आपका व्रत है उस दिन हमेशा की भांति सुबह उठकर स्नान करें और भगवान की तस्वीर या मूर्ति को साफ़ करना चाहिए। वहीं एक लोटे में पानी लेकर उसमें थोड़ी हल्दी डालकर विष्णु भगवान को स्नान कराना शुभ माना जाता है और फिर एक पीला कपड़ा चढ़ा दें।

इसके बाद भगवान की पूजा अर्चना करें और पीला चावल भी अवश्य चढ़ाएं, घी का दीपक जलाएं। यदि कथा का ज्ञान का है तो उसका वाचन करें। व्रत के दिन जब पूजा अर्चना और हवन होता है तो उस दौरान 5 से 7 या 11 बार ॐ गुं गुरुवे नमः मन्त्र के साथ नाम लें।

एक ख़ास बात यह भी कि इस दिन आप इस दिन आप केले के पेड़ की पूजा करते हैं इसलिए गलती से भी केला न खाएं।

खैर, हम आशा करते है कि आपको गुरूवार व्रत से जुड़ी सारी जानकारी इस आर्टिकल में मिल गयी होंगी, अगर कुछ पूछना चाहते है तो हमें कमेंट करके पूछ सकते है।

ब्रहस्पतिवार व्रत का अंग्रेजी अनुवाद पढ़ने के लिए क्लिक करे


Recently Added Articles
MI VS SRH  - 1st April 2020 IPL Match Prediction
MI VS SRH - 1st April 2020 IPL Match Prediction

आईपीएल 2020 के अंदर मुंबई इंडियंस और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच मैच की भविष्यवाणी पर एक नजर डाल लेते हैं।...

Jupiter Transit 2020 -  धनु से मकर राशि में बृहस्पति का राशि परिवर्तन  तिथि व समय
Jupiter Transit 2020 - धनु से मकर राशि में बृहस्पति का राशि परिवर्तन तिथि व समय

साल 2020 के अंदर बृहस्पति ग्रह अपने घर में परिवर्तन करते हुए नजर आएँगे। धनु से मकर राशि में होने वाला बृहस्पति ग्रह का यह परिवर्तन कुछ राशियों के लिए...

Sun Transit in Pisces - 14 March 2020 - सूर्य का राशि परिवर्तन कुम्भ से मीन
Sun Transit in Pisces - 14 March 2020 - सूर्य का राशि परिवर्तन कुम्भ से मीन

शनिवार के दिन 14 मार्च 2020 को सुबह 11:53 पर सूर्य ग्रह राशि परिवर्तन करेंगे और कुंभ राशि से शुरू मीन राशि में आने वाले हैं।...

Vivo IPL 2020 Schedule - आईपीएल 2020 का पूरा शेड्यूल, टाइमिंग, ऑक्शन
Vivo IPL 2020 Schedule - आईपीएल 2020 का पूरा शेड्यूल, टाइमिंग, ऑक्शन

आईपीएल 2020 भारत क्रिकेट कंट्रोल द्वारा स्थापित किया गया 20-20 क्रिकेट लीग का 13 सीजन होने जा रहा हैं।...


2020 आपका साल है! अब अपनी पूरी रिपोर्ट प्राप्त करें और जानें कि 2020 में आपके लिए कौन से नियम छिपे हैं
पहले से ही एक खाता है लॉग इन करें