एस्ट्रोस्वामीजी की ओर से नववर्ष 2020 की हार्दिक शुभकामनाये! अभी साइन-अप करे और पायें 100 रु का मुफ्त टॉक-टाइम ऑनलाइन ज्योतिष परामर्श पर!

जानिए ब्रहस्पतिवार व्रत के बारे में पूरी जानकारी और विधि

जब भी हमारी जिंदगी में कोई बाधा आती है तो हम भगवान को याद करते है और फिर व्रत रखना शुरू करते है। जी हां, व्रत करना अच्छी बात है अगर आप किसी समस्या में है तो। तो आज हम बात करेंगे गुरूवार अर्थात ब्रहस्पतिवार व्रत के बारे में और जानेंगे कि इसकी विधि क्या है और क्या फायदे होते है।

सबसे पहले तो आपको बता दें कि ब्रहस्पतिवार को विष्णु भगवान एवं बृहस्पति देव दोनों की पूजा होती है, जिससे घर में सुख समृद्धि बनी रहती है। वहीं कुँवारी कन्याएं भी इस व्रत रखती है ताकि उन्हें अच्छा जीवन साथी मिले और कोई रुकावटें न आएं। कुछ ज्योतिषों का यह कहना है कि यदि कोई एक वर्ष तक गुरुवार के दिन नियमित रूप से व्रत करते हैं तो आपके घर में कभी भी पैसे रुपयों की कमी नही होती और हमेशा धन में वृद्धि होती है।

जैसा कि आपको बता दें कि एक साल में 16 गुरुवार व्रत रखना बहुत लाभदायक माना जाता है। इससे जो फल चाहिए वो मिल जाता है। 

भारत के जाने माने ज्योतिषियों द्वारा जाने भगवान बृहस्पति देव की पूजा विधि का सही तरीका।  अभी बात करने के लिए क्लिक करे।

ब्रहस्पतिवार व्रत को शुरू करने का सबसे अच्छा समय

तो अब आपके मन में यह सवाल उठता है कि आखिर कब से बृहस्पतिवार का व्रत शुरू करें तो पौष के महीने को छोड़कर आप इस व्रत को किसी भी माह के शुक्लपक्ष के पहले गुरुवार को शुरू कर सकते हैं। हालांकि ज्यादातर लोगों का यही कहना है कि शुक्ल पक्ष बहुत ही शुभ समय होता है।

यह है ब्रहस्पतिवार व्रत की विधि

तो आपने ऊपर गुरूवार व्रत के बारे में बहुत अच्छे से जान लिया लेकिन अब आपको इसकी विधि भी जाननी चाहिए। तो अगर हम व्रत की विधि की बात करें तो इसके लिए आपको सबसे पहले चने की दाल, गुड़, हल्दी, थोड़े से केले, एक उपला हवन करने के लिए और भगवान विष्णु की फोटो चाहिए होते है और साथ ही केले का पेड़ उपलब्ध हो तो वो भी लाएं। जिस दिन आपका व्रत है उस दिन हमेशा की भांति सुबह उठकर स्नान करें और भगवान की तस्वीर या मूर्ति को साफ़ करना चाहिए। वहीं एक लोटे में पानी लेकर उसमें थोड़ी हल्दी डालकर विष्णु भगवान को स्नान कराना शुभ माना जाता है और फिर एक पीला कपड़ा चढ़ा दें।

इसके बाद भगवान की पूजा अर्चना करें और पीला चावल भी अवश्य चढ़ाएं, घी का दीपक जलाएं। यदि कथा का ज्ञान का है तो उसका वाचन करें। व्रत के दिन जब पूजा अर्चना और हवन होता है तो उस दौरान 5 से 7 या 11 बार ॐ गुं गुरुवे नमः मन्त्र के साथ नाम लें।

एक ख़ास बात यह भी कि इस दिन आप इस दिन आप केले के पेड़ की पूजा करते हैं इसलिए गलती से भी केला न खाएं।

खैर, हम आशा करते है कि आपको गुरूवार व्रत से जुड़ी सारी जानकारी इस आर्टिकल में मिल गयी होंगी, अगर कुछ पूछना चाहते है तो हमें कमेंट करके पूछ सकते है।

ब्रहस्पतिवार व्रत का अंग्रेजी अनुवाद पढ़ने के लिए क्लिक करे

Recently Added Articles
वर्कप्लेस में तरक्की के लिए इन वास्तु उपायों का करें पालन
वर्कप्लेस में तरक्की के लिए इन वास्तु उपायों का करें पालन

वर्कप्लेस छोटा है या बड़ा है इससे कार्य की तरक्की को कोई भी फर्क नहीं पड़ता है बल्कि आपके वर्कप्लेस यानी कि कार्यक्षेत्र के अंदर किन वास्तु उपायों का ...

Megha Purnima 2020 - माघ पूर्णिमा पर दान और स्नान का विशेष महत्व
Megha Purnima 2020 - माघ पूर्णिमा पर दान और स्नान का विशेष महत्व

पूर्णिमा का दिन बड़ा ही महत्वपूर्ण और विशेष माना जाता है। वैसे तो साल में बहुत-सी पूर्णिमा आती है लेकिन इन सब में माघ पूर्णिमा सबसे ज्यादा विशेष माना ...

Vivah Muhurat 2020 - जनिये कब-कब है विवाह मुहूर्त
Vivah Muhurat 2020 - जनिये कब-कब है विवाह मुहूर्त

विवाह की तारीख तय करते समय विवाह मुहूर्त महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विवाह को लेकर हिन्दू शास्त्रों में विशेष रूप से व्यवस्था की गयी है।...

Mercury Transit 2019 - वृश्चिक से धनु राशि में बुध गोचर 2019
Mercury Transit 2019 - वृश्चिक से धनु राशि में बुध गोचर 2019

क्या होता है गोचर ? गोचर का सामान्य शब्दों में अगर आपको अर्थ बताएं तो इसका अर्थ गमन यानी कि आगे बढ़ना चलना होता है।...


2020 is your year! Get your YEARLY REPORTS now and know what SURPRISES are hidden for you in 2020
Already Have an Account LOGIN