आज के ऑफर : 300Rs तक के रिचार्ज पर 10% EXTRA और 500Rs या उससे ऊपर के रिचार्ज पर 15% EXTRA प्राप्त करें।

आरती कुंज बिहारी की - Aarti Kunj Bihari Ki in Hindi

Aarti Kunj Bihari Ki: जन्माष्टमी पर ही नहीं बल्कि दैनिक जीवन में भी कुंज बिहारी जी की आरती गान का बहुत महत्व है। कुंज बिहारी की आरती में श्री कृष्ण के सौन्दर्य छवि को पूर्ण रूप से दर्शाया जाता है। श्री कृष्ण संग राधा जी की इस आरती गान से सम्पूर्ण वातावरण आनंद से भर जाता है। ऐसा माना जाता है की आज भी जो कोई कुंज बिहारीजी की आरती का सच्चे मन और ध्यान पूर्वक गान किया जाये तो श्री कृष्ण अपने भक्तो पर अपना आशीर्वाद प्रदान करते है। आइये अब कुंज बिहारीजी की आरती का शंख, घंटी, करताल के साथ गान करते है:

आरती कुंजबिहारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥
आरती कुंजबिहारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

गले में बैजंती माला,
बजावै मुरली मधुर बाला ।
श्रवण में कुण्डल झलकाला,
नंद के आनंद नंदलाला ।
गगन सम अंग कांति काली,
राधिका चमक रही आली ।
लतन में ठाढ़े बनमाली
भ्रमर सी अलक,
कस्तूरी तिलक,
चंद्र सी झलक,
ललित छवि श्यामा प्यारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

कनकमय मोर मुकुट बिलसै,
देवता दरसन को तरसैं ।
गगन सों सुमन रासि बरसै ।
बजे मुरचंग,
मधुर मिरदंग,
ग्वालिन संग,
अतुल रति गोप कुमारी की,
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

जहां ते प्रकट भई गंगा,
सकल मन हारिणि श्री गंगा ।
स्मरन ते होत मोह भंगा
बसी शिव सीस,
जटा के बीच,
हरै अघ कीच,
चरन छवि श्रीबनवारी की,
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

चमकती उज्ज्वल तट रेनू,
बज रही वृंदावन बेनू ।
चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू
हंसत मृदु मंद,
चांदनी चंद,
कटत भव फंद,
टेर सुन दीन दुखारी की,
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

आरती कुंजबिहारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥
आरती कुंजबिहारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥


Recently Added Articles
सूर्य भगवान जी की आरती (Bhagwan Surya Ji Ki Aarti)
सूर्य भगवान जी की आरती (Bhagwan Surya Ji Ki Aarti)

सूर्य भगवान जी की आरती के बोल ॐ जय सूर्य भगवान...

Shri Ram Ji Ki Aarti - श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन, श्री रामचन्द्र आरती
Shri Ram Ji Ki Aarti - श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन, श्री रामचन्द्र आरती

श्री राम जी की आरती के बोल श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन, गाने से जीवन आनदमई हो जाता है।...

Shri Satnarayan Ji Ki Aarti - श्री सत्यनारायण जी की आरती, जय लक्ष्मी रमणा
Shri Satnarayan Ji Ki Aarti - श्री सत्यनारायण जी की आरती, जय लक्ष्मी रमणा

Shri Satnarayan Ji Ki Aarti - श्री सत्यनारायण जी की आरती के बोल जय लक्ष्मी रमणा स्वामी जय लक्ष्मी रमणा है।...

पंचक (Panchak)
पंचक (Panchak)

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पांच नक्षत्रों के मेल को पंचक कहा जाता है। ये नक्षत्र हैं धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद और रेवती।...


2020 आपका साल है! अब अपनी पूरी रिपोर्ट प्राप्त करें और जानें कि 2020 में आपके लिए कौन से नियम छिपे हैं
पहले से ही एक खाता है लॉग इन करें

QUERY NOW !

Get Free Quote!

Submit details and our representative will get back to you shortly.

No Spam Communication. 100% Confidentiality!!