आज के ऑफर : 300Rs तक के रिचार्ज पर 10% EXTRA और 500Rs या उससे ऊपर के रिचार्ज पर 15% EXTRA प्राप्त करें।

शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा, Om Jai Shiv Omkara, Shiv Aarti in Hindi

Shiv Aarti - ॐ जय शिव ओंकारा

ॐ जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा ।
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

एकानन चतुरानन पंचानन राजे ।
हंसासन गरूड़ासन वृषवाहन साजे ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

दो भुज चार चतुर्भुज दसभुज अति सोहे ।
त्रिगुण रूप निरखते त्रिभुवन जन मोहे ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

अक्षमाला वनमाला मुण्डमाला धारी ।
चंदन मृगमद सोहै भाले शशिधारी ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

श्वेतांबर पीतांबर बाघंबर अंगे ।
सनकादिक गरुणादिक भूतादिक संगे ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

कर के मध्य कमंडल चक्र त्रिशूलधारी ।
सुखकारी दुखहारी जगपालन कारी ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका ।
प्रणवाक्षर में शोभित ये तीनों एका ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

त्रिगुणस्वामी जी की आरति जो कोइ नर गावे ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख संपति पावे ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

----- Addition ----
लक्ष्मी व सावित्री पार्वती संगा ।
पार्वती अर्द्धांगी, शिवलहरी गंगा ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

पर्वत सोहैं पार्वती, शंकर कैलासा ।
भांग धतूर का भोजन, भस्मी में वासा ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

जटा में गंग बहत है, गल मुण्डन माला ।
शेष नाग लिपटावत, ओढ़त मृगछाला ॥
॥ जय शिव ओंकारा...॥

काशी में विराजे विश्वनाथ, नंदी ब्रह्मचारी ।
नित उठ दर्शन पावत, महिमा अति भारी ॥

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा ।
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा ॥


Recently Added Articles
क्या है होरा (what is hora)
क्या है होरा (what is hora)

ज्योतिष शास्त्र में जितना महत्वपूर्ण ग्रह-नक्षत्र, मुहूर्त, पंचांग, तिथ‍ि, वार को माना गया है उतना ही आवश्यक होरा को जानना भी है।...

तिथि (Tithi)
तिथि (Tithi)

तिथि (Tithi) के नाम से सबसे पहला ध्यान तारीख की ओर जाता है, लेकिन हिंदू ज्योतिष शास्त्र में तिथि का बहुत विस्तृत उल्लेख किया गया है।...

शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा, Om Jai Shiv Omkara, Shiv Aarti in Hindi
शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा, Om Jai Shiv Omkara, Shiv Aarti in Hindi

Shiv Aarti - ॐ जय शिव ओंकारा, स्वामी हरे शिव ओंकारा के बोल मन को प्रसन्न करने वाले है।...

श्री शनिदेव जी की आरती (Shri Shanidev Ji Ki Aarti)
श्री शनिदेव जी की आरती (Shri Shanidev Ji Ki Aarti)

भगवान श्री शनिदेव की वंदना शनिवार की दिन करने से शनिदेव प्रसन्न होते है। कर्म फल दाता शनिदेव महाराज मनुष्य को उसके कर्मो के हिसाब से फल देते है। ...


2020 आपका साल है! अब अपनी पूरी रिपोर्ट प्राप्त करें और जानें कि 2020 में आपके लिए कौन से नियम छिपे हैं
पहले से ही एक खाता है लॉग इन करें

QUERY NOW !

Get Free Quote!

Submit details and our representative will get back to you shortly.

No Spam Communication. 100% Confidentiality!!