Sawan 2021 : इस दिन होंगे सावन व्रत 2021 तिथि और महत्व

Sawan 2021: हिंदू धर्म के अत्यंत पवित्र महीने सावन की शुरुआत 25 जुलाई 2021 से हो गई है। सावन का महीना महादेव को अर्पित होता है। सावन का महीना भगवान शिव को बहुत ही प्रिय है। ऐसा माना जाता है कि सावन के महीने में भगवान शिव की विधिपूर्वक एवं श्रद्धापूर्ण आराधना करने से सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है। अगर शिव जी की प्रार्थना सच्चे मन से की जाए तो वह अपने भक्तों की जरूर सुनते है। सावन का महीना शिवभक्तों के लिए सबसे प्रिय महीना है। आइए जानते हैं सावन के महत्वपूर्ण दिन एवं व्रत (Sawan Somwar Vrat 2021) के बारे में।

सावन 2021 की शुरुआत (Sawan 2021 Start Date)

सावन के पवित्र माह का आरंभ आषाढ़ मास के गुरु पूर्णिमा के समापन के साथ होता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार सावन पाँचवा महीना होता है। इस वर्ष सावन के महीने की शुरूआत 25 जुलाई, रविवार को हो रही है एवं समापन 22 अगस्त, रविवार को होगा।

सावन शिवरात्रि 2021 का आपकी राशि पर कैसा रहेगा प्रभाव? अभी परामर्श करे सर्वोत्तम ज्योतिष आचार्य से।

सावन सोमवार व्रत 2021 (Sawan Somwar 2021 Date)

सावन के सोमवार का विशेष महत्व है। सावन के माह में सोमवार का दिन सबसे पवित्र होता है। सोमवार भोलेनाथ का प्रिय दिन है। इस दिन भगवान शंकर की आराधना करने से वह बहुत प्रसन्न होते हैं। इस वर्ष सावन में 04 सोमवार व्रत पड़ रहे हैं।

पहला सावन सोमवार व्रत : 26 जुलाई, 2021

दूसरा सावन सोमवार व्रत : 02 अगस्त, 2021

तीसरा सावन सोमवार व्रत : 09 अगस्त, 2021

चौथा एवं अंतिम सावन सोमवार व्रत : 16 अगस्त, 2021

सावन सोमवार व्रत का महत्व

प्राचीन कथाओं के अनुसार, श्रावण के महीने में समुद्र (समुद्र मंथन) का मंथन किया गया था। यह देवता (देवताओं) और दानवों (दानवों) द्वारा किया गया एक संयुक्त प्रयास था। सुमेरु पर्वत का उपयोग मंथन के लिए किया जाता था और नाग वासुकी जो भगवान शिव के गले में रस्सी के रूप में इस्तेमाल किया जाता था। इस मंथन के फलस्वरूप बड़ी संख्या में अमूल्य रत्न समुद्र से बाहर आए। हालांकि, अंत में, जहर (हलाहल) सामने आया जो सब कुछ नष्ट करने की क्षमता रखता था। कोई भी देवता या दानव इस विष से निपटने में सक्षम नहीं थे और अंततः भगवान शिव बचाव में आए। भगवान शिव ने पूरे जहर को पी लिया और उसे अपने गले में जमा लिया जो जहर के कारण नीला हो गया। इसलिए, भगवान शिव को नील कंठ (नीला गला) नाम मिला। इस तरह, भगवान शिव ने इस महीने के दौरान सभी को एक नया जीवन दिया है और इसलिए, यह महीना बहुत ही शुभ माना जाता है।

सावन का दूसरा सोमवार, ऐसे करे व्रत होगी हर मनोकामना पूरी 

सावन मंगला गौरी व्रत 2021 (Sawan Mangla Gauri Vrat)

सावन का मंगला गौरी व्रत मंगलवार के दिन किया जाता है। इस वर्ष सावन में चार मंगला गौरी व्रत पड़ रहे हैं। सावन का पहला मंगला गौरी व्रत 27 जुलाई, दूसरा मंगला गौरी व्रत 03 अगस्त, तीसरा मंगला गौरी व्रत 10 अगस्त एवं चौथा मंगला गौरी व्रत 17 अगस्त को है।

सावन मास की अमावस्या और पूर्णिमा

सावन मास की अमावस्या या श्रावण अमावस्या 2021: 08 अगस्त, रविवार

सावन मास की पूर्णिमा या श्रावण पूर्णिमा 2021: 22 अगस्त, रविवार

ऐसे करे सावन शिवरात्रि का व्रत, मिलेगा शिव जी का आशीर्वाद


Recently Added Articles
Vastu Tips -  किस दिशा में लगाये सात घोड़ो की तस्वीर | Astroswamig
Vastu Tips - किस दिशा में लगाये सात घोड़ो की तस्वीर | Astroswamig

घर में सकारात्मक और समृद्धि भरा वातावरण ना केवल आपकी उत्पादकता बढ़ाता है बल्कि आपकी सफलता और मानसिक शांति के लिए भी फायदेमंद होता है। ...

Amalaki Ekadashi 2022 - आमलकी एकादशी व्रत 2022 तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व
Amalaki Ekadashi 2022 - आमलकी एकादशी व्रत 2022 तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व

Amalalki Ekadashi 2022: फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को आमलकी एकादशी के रूप में मनाया जाता है।...

Vijaya Ekadashi 2022 - विजया एकादशी व्रत 2022 तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व
Vijaya Ekadashi 2022 - विजया एकादशी व्रत 2022 तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व

Vijaya Ekadashi 2022: फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को विजया एकादशी के नाम से जाना जाता है।...

Pausha Putrada Ekadashi 2022 - पौष पुत्रदा एकादशी व्रत 2022 तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व
Pausha Putrada Ekadashi 2022 - पौष पुत्रदा एकादशी व्रत 2022 तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व

pausha putrada Ekadashi 2022: हर माह के कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष में एक-एक एकादशी पड़ती है, कुल मिलाकर हर महीने दो एकादशी पड़ती है।...