>

रानू मारिया मंडल - क्या कहती है इनकी कुंडली?

रानू मारिया मंडल - क्या कहती है इनकी कुंडली?

रानू मारिया मंडल का जन्म वेस्ट बंगाल के नाडिया जिले के कृष्णा नगर में हुआ था। रानू मारिया मंडल ने बॉलीवुड के महान कलाकार फिरोज खान के घर पर भी काम किया था। रानू ने यह भी बताया की वो और उनके पति फिरोज खान के घर में ही रहते थे। ये सब बताते हुए उन्होंने कहा की फिरोज खान का स्वाभाव बहुत अच्छा था और वो एक नेकदिल इंसान थे। पति के देहांत के बाद रानू का दोबारा कोलकाता में जाना तय हो गया और उन्होंने अपने गाना गाने के टैलेंट को ही अपनी आजीविका का साधन बना लिया।

रानी मारिया मंडल का जन्म तिथि व जन्म स्थान के अनुसार यदि उनकी जन्म पत्रिका का वैदिक ज्योतिष अध्यन करे तो उनकी वृषभ राशि की पत्रिका बनती हैं। राशि स्वामी शुक्र अपनी राशि समसपर योग बना रहा हैं। इनकी कुंडली का अध्यन करते हुए पाया गया हैं की जो गाने की कला और टैलेंट इनके अंदर हैं वो जन्म जात हैं।

रानी मारिया मंडल की जन्मपत्रिका के कर्म स्थान में केतु और मुख्य स्थान में राहु विराजमान होने के कारण जो संसाधन उन्हें अपनी कला को निखारने के लिए उनको चाहिए थे उस प्रकार के अवसर से वो हमेशा वंचित रही।

फिर भी क्रमेश शनि, गुरु के साथ होने के कारण उन्होंने अपनी उसी कला को अपनी छोटी मोटी आजीविका का साधन बना लिया। वर्ष 2017 जुलाई से उनकी पत्रिका में शनि के साथ बुध गृह का आना और खास तौर पर 25 जून 2019 से शनि, बुध और अष्टमेश गुरु के अंतर का आना उनके जीवन में एक बहुत बड़े परिवर्तन को लेकर आया।

इस प्रकार की दशा अचानक ही आपके  जीवन को सफलताओ से भर देती हैं। और इस योग के लिए कोई विशेष रंग, रूप, या फिर उम्र की बाधाएं नहीं रहती हैं।

जानिए आपकी कुंडली मे क्या योग बन रहा हैं ? परामर्श करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।


Recently Added Articles
Mata Katyayani
Mata Katyayani

नवरात्रि के छठे दिन माँ कात्यायनी की पूजा की जाती है। इनके चार भुजाएं होती हैं। ऊपर वाले दाहिने हाथ में अभय मुद्रा और नीचे वाले दाहिने हाथ में वर मुद्...

पंचक
पंचक

पंचक, ज्योतिष में एक अवधारणा है जो पांच विशेष नक्षत्रों के संरेखित होने से जुड़ी है। ...

माँ सिद्धिदात्री - नवरात्रि का नौवां  दिन
माँ सिद्धिदात्री - नवरात्रि का नौवां दिन

नवरात्रि के नौवें और अंतिम दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। मां दुर्गा की नौवीं रूप सिद्धिदात्री की पूजा से उनके भक्तों को महान सिद्धियाँ ...

माँ चंद्रघंटा
माँ चंद्रघंटा

माँ चंद्रघंटा, माँ दुर्गा का तीसरा रूप, नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा के द्वारा चमकाया जाता है। उनकी पूजा या अर्चना करके, आपको असीमित शक्तियाँ प्राप्त...