प्रदोष व्रत 2019

हिंदू कैलेंडर के अनुसार प्रदोष व्रत को बेहद खास माना जाता है। यह व्रत त्रयोदशी के दिन रखा जाता है। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की जाती है। प्रत्येक महीने में दो बार प्रदोष का व्रत रखा जाता है एक शुक्ल पक्ष और दूसरा कृष्ण पक्ष। प्रत्येक पक्ष की त्रयोदशी के व्रत को प्रदोष व्रत कहा जाता है। प्रदोष व्रत अलग-अलग तरह के होते हैं। सोमवार को आने वाले प्रदोष व्रत को सोम प्रदोषम या चंद्र प्रदोषम कहते हैं। मंगलवार को आने वाले प्रदोष व्रत को भौम प्रदोषम कहा जाता है। वहीं शनिवार को आने वाले प्रदोष व्रत को शनि प्रदोषम कहा जाता है। इसकी अलग-अलग मान्यताएं हैं। आज हम आपको बताने वाले हैं कि हर दिन व्रत का क्या महत्व है और किस दिन व्रत रखने से प्रदोष का व्रत क्या लाभ होता है।

प्रदोष व्रत से मिलने वाले फलो के बारे में जानने के लिए देश के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें

इस दिन सभी शिव मंदिरों में शाम के समय प्रदोष व्रत और उसका मंत्रों का जाप किया जाता है। चलिए हम आपको प्रदोष व्रत का महत्व बताते हैं। प्रदोष व्रत अन्य व्रतों की तुलना में काफी शुभ और महत्वपूर्ण माना गया है। हिंदू धर्म के अनुसार भगवान शिव की पूजा करने से सभी पापों का नाश होता है एवं मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस तरह प्रदोष का व्रत रखने से सिद्धि प्राप्ति होती है। रविवार के दिन व्रत रखने से आपकी सेहत अच्छी और उम्र लंबी होती हैं। सोमवार के दिन प्रदोष का व्रत रखने से आपको मनचाहे फल पूर्ति होती है। मंगलवार के दिन व्रत रखने से आपको लंबे समय से आ रही बीमारियों से छुटकारा मिलता है। बुधवार के दिन प्रदोष का व्रत रखने से आपके सभी बिगड़े काम बनने लग जाते हैं। आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। बृहस्पतिवार के दिन व्रत रखने से आपके दुश्मनों का नाश होता है और आपके सभी कार्य संपन्न होते हैं। शुक्रवार को व्रत रखने से शादीशुदा जिंदगी एवं भाग्य बदलता है, जो कि आपके लिए बहुत अच्छा है। शनिवार को व्रत रखने से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है।

प्रदोष व्रत पूजा विधि

सबसे पहले आपको त्रयोदशी वाले दिन प्रातः काल उठना है। नित्यकर्म करने के बाद भगवान शिव का जाप करना है। पूरे दिन अन्न का त्याग कर व्रत करना चाहिए और सूर्य अस्त होने से एक घंटा पहले स्नान करके, साफ वस्त्र धारण करना है। इसके बाद पूजा वाले स्थान की शुद्धि के लिए गंगाजल वितरित करना है। उस जगह पर गाय के गोबर से एक मंडप तैयार करना है या फिर उस जगह पर गंगाजल छिड़क कर उसे पवित्र करना है। 5 रंगों से रंगोली बनाकर कुशा के आसन पर उत्तर दिशा की ओर मुंह करके बैठना है। इसके बाद शिव की पूजा करनी है और ओम नमः शिवाय मंत्र का जाप करना है। यदि आप भी इस व्रत को करने जा रहे हैं, तो कुछ विशेष बातों का ध्यान रखें। बता दें प्रदोष के व्रत में नमक, मिर्च, चावल और अन्न ग्रहण नहीं करना है। इसमें आपको पूरा दिन व्रत के दौरान फलाहार, या दिन में सिर्फ एक बार ही खाना होगा।

यह भी पढ़ें -  दीपावली 2019 तिथि व शुभ मुहूर्त  | धनतेरस 2019 पूजा का शुभ मुहूर्त   | रमा एकादशी

प्रदोष व्रत तिथि 2019

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - गुरुवार, 03 जनवरी

प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) - शुक्रवार, 18 जनवरी

शनि प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - शनिवार, 02 फरवरी

प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) - रविवार, 17 फरवरी

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - रविवार, 03 मार्च

सोम प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) - सोमवार, 18 मार्च

भौम प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - मंगलवार, 02 अप्रैल

प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) - बुधवार, 17 अप्रैल

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - गुरुवार, 02 मई

प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) गुरुवार, 16 मई

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - शुक्रवार, 31 मई

प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) - शुक्रवार, 14 जून

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - रविवार, 30 जून

प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) - रविवार, 14 जुलाई

सोम प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - सोमवार, 29 जुलाई

सोम प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) सोमवार, 12 अगस्त

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - बुधवार, 28 अगस्त

प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) - बुधवार, 11 सितंबर

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - गुरुवार, 26 सितंबर

प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) - शुक्रवार, 11 अक्टूबर

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - शुक्रवार, 25 अक्टूबर

शनि प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) - शनिवार, 09 नवंबर

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - रविवार, 24 नवंबर

सोम प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष) - सोमवार, 09 दिसंबर

सोम प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष) - सोमवार, 23 दिसंबर

Recently Added Articles
 2019 में इस दिन पड़ने वाली है पापांकुशा एकादशी
2019 में इस दिन पड़ने वाली है पापांकुशा एकादशी

पापांकुशा एकादशी एक हिंदू उपवास का दिन है जो हिंदू कैलेंडर में 'आश्विन'के चंद्र महीने के दौरान शुक्ल पक्ष की 'एकादशी' (11 वें दिन) पर पड़ता है।...

Diwali Kab Hai, दिवाली 2019 लक्ष्मी पूजा मुहूर्त, Lakshmi Puja 2019
Diwali Kab Hai, दिवाली 2019 लक्ष्मी पूजा मुहूर्त, Lakshmi Puja 2019

दिवाली हिंदुओं का एक प्रमुख त्यौहार है और यह त्यौहार भारतवर्ष में हर जगह मनाया जाता है। हिंदुओं के त्योहारों की बात करें तो दिवाली...

दशहरा 2019 –  विजयदशमी 2019 पर्व तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि
दशहरा 2019 – विजयदशमी 2019 पर्व तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि

शुभ मुहूर्त दशहरा पर्व भारत में विजयदशमी के नाम से भी धूमधाम से मनाया जाता हैं।...

चंद्रयान 2 (इसरो) - सफल होगा या नहीं ज्योतिष भविष्यवाणी
चंद्रयान 2 (इसरो) - सफल होगा या नहीं ज्योतिष भविष्यवाणी

Chandrayaan 2- आज पुरे देश की नज़र इसरो के चंद्रयान 2 मून मिशन पर टिकी हैं। जानिए चंद्रयान 2 सफल ...