2023 Pongal - पोंगल 2023

पोंगल तमिलनाडु के सबसे लोकप्रिय त्योहारों में से एक है। जनवरी में मनाया जाने वाला यह त्योहार, नए साल की शुरुआत के रूप में भी मनाया जाता है। पोंगल का उत्सव बड़े ही धूमधाम और उत्साह के साथ मनाया जाता है। पोंगल का त्यौहार किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण त्यौहार माना जाता हैं। तमिलनाडु में पोंगल वास्तव में भगवान का धन्यवाद देने वाला एक अवसर है। यह त्योहार फ़सलों की कटाई, भगवान के प्रति सम्मान और धरती पर उपलब्ध खेती के संसाधनों को चिह्नित करता है।

पोंगल 2023 पर्व का महत्व (Pongal 2023 Parv Ka Mahatava)

चार दिनों के लिए मनाया जाने वाला पोंगल - सफाई, प्रार्थना, सजावट और जीवन की प्रेरणा है। तमिलनाडु में पोंगल त्यौहार पर उत्साह जानवरों, भगवान और बाकी सभी के लिए भुगतान करने का एक तरीका है जो खेती की गतिविधियों में सहायक है। किसानों के जीवन से संबंधित, कृषि गतिविधियों से जुड़े हर एक के लिए यह एक विशेष अवसर है। पोंगल, फसल उत्सव किसानों के जीवन के विभिन्न पहलुओं को समा-हित करता है।

आसान या कठिन, जानिए कैसा रहेगा आपके लिए साल 2022? अपनी राशि के लिए अपना पूरा साल का भविष्यफल अभी पढ़ें!

2023 पोंगल पर्व के रीति रिवाज

पूरे उत्सव में चार खंड होते हैं जिन्हें भोगी पोंगल, थाई पोंगल, मट्टू पोंगल और कानुम पोंगल नाम दिया गया है। इस त्योहार के चार दिनों के अलग-अलग अनुष्ठान होते हैं। भोगी पोंगल, उत्सव के पहले दिन में सफाई प्रक्रिया शामिल है। इस दिन, लोग अपने घरों से सभी बेकार चीजों को हटा देते हैं। त्योहार के दूसरे दिन का नाम थाई पोंगल है। इस शुभ दिन पर लोग भगवान सूर्य को अर्घ्य देते हैं। मिट्टी के नए बर्तन में, लोग दूध, चावल और गुड़ जैसे विभिन्न सामग्रियों के साथ एक विशेष पकवान बनाते हैं।

astrology

मट्टू पोंगल इस उत्सव श्रृंखला का तीसरा दिन है। मट्टू पोंगल वह दिन है जब लोग खेती में उनकी मदद करने के लिए जानवरों के प्रति अपना आभार प्रकट करते हैं। वे अपने जानवरों को विशेष दावत के साथ खिलाते हैं जो गन्ना और चावल के साथ तैयार किया जाता है। इस दिन, लोग अपने जानवरों को धोते हैं, उन्हें सजावटी सामग्री से सुशोभित करते हैं और उन्हें दिन के विशेष पकवान खिलाने के बाद मुक्त करते हैं। पोंगल के अंतिम दिन को कूनम पोंगल कहा जाता है। कन्नुम पोंगल पर भगवान और जानवरों के प्रति आभार व्यक्त करने के बाद, लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से भी मिलते हैं। वे कन्नुम पोंगल पर मिठाइयों का आदान-प्रदान करते हैं। चावल के पाउडर और रंगों से घर की सजावट सुबह के समय लोगों को अपने कब्जे में रखती है।

पुंगल दक्षिण भारत में मनाया जाने वाला सबसे प्रमुख तोहार बताया गया है पोंगल कहां यदि वास्तविक अर्थ निकाले तो इसका अर्थ होता है उबालना। इस त्यौहार पर गुड़ और चावल उबालकर भगवान सूरज को अर्पित किए जाते हैं और यही इस त्यौहार का प्रसिद्ध प्रसाद भी बोला गया है पुंगल के दिन भगवान इंद्र देव की पूजा भी की जाती है और इंद्रदेव को अच्छी फसल के लिए अच्छी बरसात हो इसलिए मनाया जाता है।

पोंगल 2023 पर्व से जुड़ी धार्मिक कहानी

पोंगल का काफी धार्मिक महत्त्व होता है। दक्षिण भारत इस त्यौहार को एक डर पूर्वक भी मनाता है ताकि राज्य के ऊपर किसी भी तरह का प्रकोप ना हो। पोंगल की कथा के अनुसार मदुरै में एक पति पत्नी रहा करते थे। जिनका नाम कण्णगी और कोवलन बताया जाता है। एक बार कण्णगी के कहने पर कोवलन उसकी पायल भेजने के लिए सुनार के पास गया था सुनार ने राजा को बताता है कि जो पायल उसके पास आई है वह रानी की चोरी हुई पायल से मिलती-जुलती है जिसके बाद राजा कोवलन को फांसी की सजा दे देता है।

kundli

इससे क्रोधित होकर कण्णगी ने शिवजी की भारी तपस्या की थी और राजा के साथ-साथ उसके राज्य को नष्ट करने का वरदान मांगा था। राज्य की जनता को यह पता चला था तो महिलाओं ने मिलकर काली माता की आराधना की थी और राज्य की रक्षा के लिए कण्णगी से दया प्रार्थना की। तब माता काली ने महिलाओं के व्रत से खुश होकर कण्णगी के मन में दया भाव उत्तेजित किया था और इससे राज्य की रक्षा हो पाई थी।

पोंगल 2023 पर्व तिथि व शुभ मुहूर्त

साल 2023 के अंदर पोंगल त्यौहार 15 जनवरी से शुरू होगा और इस त्यौहार की समाप्ति 18 जनवरी को होने वाली है।

पोंगल के अंतिम दिन को कन्नुम पोंगल कहते हैं। सभी परिवार एक हल्दी के पत्ते को धोकर इसे जमीन पर बिछाते हैं और इस पर एक दिन पहले का बचा हुआ मीठा पोंगल रखते हैं। वे गन्ना और केला भी शामिल करते हैं। कई महिलाएं यह रस्म प्रातः काल नहाने से पहले करना पसंद करती हैं।

पोंगल पर्व 2022 को बनाये ओर भी खास, परामर्श करें हमारे जाने माने ज्योतिषियों से और जाने आपकी राशि अनुसार पोंगल पर्व का महत्व। 


Recently Added Articles