पौष पूर्णिमा 2020 - पौष पूर्णिमा व्रत और पूजा विधि 2020

पौष पूर्णिमा 2020

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ को सबसे ऊपर माना जाता है क्योंकि हिंदू धर्म में भगवान की पूजा करना ही सर्वोंपरि है। इतना ही नहीं हिंदू धर्म में हर महीने में कोई ना कोई त्यौहार जरूर आता है। ऐसे ही विशेष दिन और त्यौहार पूर्णिमा और अमावस्या है। हर महीने आने वाले त्यौहार पूर्णिमा और अमावस्या का विशेष महत्व माना जाता है। अमावस्य को कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन होता है तो पूर्णिमा को शुक्ल पक्ष का अंतिम दिन होता है। दरअसल, जिस दिन चांद का आकार पूरा होता है उस दिन को पूर्णिमा कहते हैं और पूर्णिमा के दिन व्रत भी रखा जाता है। साथ ही जिस दिन आसमान में चंद्रमा नहीं दिखाई देता उस दिन को अमावस्य कहते हैं। पूर्णिमा और अमावस्या को एक त्यौहार की तरह मनाया जाता है। दोनों ही दिन बड़ा ही महत्व रखते हैं क्योंकि इन दिनों में व्रत, पूजन और श्रृद्धा भक्ति की जाती है। चलिए तो आज हम आपको एक ऐसी पूर्णिमा के बारे बताएंगे जो बड़ी ही विशेष है। इस साल पौष पूर्णिमा 10 जनवरी 2020 को है। पौष पूर्णिमा माघ मास से पहले आती है और माघ मास में भगवान का विशेष प्रकार से पूजन किया जाता है।

क्यों खास है पौष पूर्णिमा

पौष पूर्णिमा को बड़ा ही खास माना जाता है क्योंकि इस पूर्णिमा के बाद माघ मास की शुरुआत होती है। जिसमें स्नान करने का बड़ा महत्व है। कहा जाता है कि जो भी मनुष्य विधिपूर्वक हर रोज सुबह स्नान करता है, मोक्ष को प्राप्त होता है। माघ मास में स्नान कर मंदिर जाना और फिर हवन आदि करके पूजन करने से जन्म जन्मांतर के बंधनों से छूट मिल जाती है। इस पूर्णिमा में गंगा स्नान करने से मनुष्य भगवान के चरणों में अर्पित हो जाता है। पौष पूर्णिमा को सूर्य देव का महीना माना जाता है। इस अवधि में सूर्य देव की आराधना करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। पौष पूर्णिमा को शांकभरी जयंती मनाई जाती है। जैन धर्म को मानने वाले लोग पुष्पाभिषेक यात्रा की शुरुआत इसी दिन से करते हैं।

पौष पूर्णिमा व्रत और पूजा विधि

 पौष पूर्णिमा के दिन सुबह उठकर 4 बजे ही स्नान करके, मंदिर जाकर भगवान शिव का जलाभिषेक करना चाहिए। इस दिन भगवान शिव को केले चढ़ाने से विशेष फल मिलता है। पौष पूर्णिमा के दिन शिव के साथ कृष्ण भगवान का भी पूजन करना चाहिए। कृष्ण चालिसा का पाठ करके आरती कर गाय को भोजन खिलाना से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस दिन व्रत करने की भी परंपरा है।

पौष पूर्णिमा को और खास बनाने के लिये परामर्श करे इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से।

पौष पूर्णिमा 2020 व्रत मुहूर्त

इस साल पौष पूर्णिमा की तिथि 2:34 बजे से आरंभ होगी और पूर्णिमा की तिथि 12:50 बजे समाप्त हो जाएगी।

पौष पूर्णिमा पर श्री कृष्ण भगवान का पूजन करना चाहिए। कहा जाता है कि यह पूर्णिमा मोक्ष दायिनी पूर्णिमा है जिसमें प्रातः काल स्नान कर भगवान का विशेष प्रकार से पूजन करना चाहिए। भगवान को तुलसी का भोग लगाने से और दूध, फल, आदि चढ़ाने से हर इच्छा की पूर्ति होती है।

पौष पूर्णिमा व्रत मुहूर्त - जनवरी 10, 2020

पूर्णिमा आरम्भ - 02:36:23

पूर्णिमा समाप्त - जनवरी 11, 2020 को 00:52:53

पौष पूर्णिमा के दिन जल्दी उठकर जातक को सबसे पहले प्रातः काल स्नान करके व्रत का संकल्प लेना चाहिए। किसी नदी या कुंड में स्नान करना सबसे पवित्र माना जाता है। स्नान से पूर्व वरुण देव को निश्चित रूप से प्रणाम करना चाहिए। स्नान के पश्चात भगवान सूर्य के मंत्र का उच्चारण करते हुए भगवान सूर्य को अर्घ देना काफी लाभदायक बताया गया है। साथ-साथ जातक को पौष पूर्णिमा के दिन मन्त्रों से तप करना चाहिए। भगवान की पूजा केवल आरती से नहीं बल्कि मंत्रों के सही उच्चारण से करनी चाहिए। किसी जरूर मत जरूरतमंद व्यक्ति या ब्राह्मण को भोजन कराकर, दान दक्षिणा देने से भी जातक के बड़े से बड़े पाप कट जाते हैं, दान में इस दिन तिल, गुड़, कंबल और वस्त्र दिए जा सकते हैं।


Recently Added Articles