>

माँ ब्रह्मचारिणी

नवरात्रि के दूसरे दिन, माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा करनी है। यह माँ दुर्गा का दूसरा रूप है। माँ ब्रह्मचारिणी अपने भक्तों के दुःख और परेशानियों को हटाकर खुशी लाती हैं। जब हम माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा करते हैं, तो हममें तप, संतोष, धर्म और धैर्य में वृद्धि होती है। भक्तजन कठिन समय और संघर्षों में मजबूत बने रहते हैं। आइए, हम आपको माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा और मंत्रों की विधि के बारे में बताते हैं, और इन्हें करने के बाद आपको कभी निराश नहीं होगा।

पूजा विधि

दूसरे दिन, माँ ब्रह्मचारिणी को खुश करने के लिए, पूजा में फूल, अक्षत, रोली, संदलवुड या चंदन का उपयोग करें। माँ को दूध, दही, चीनी, घी और शहद से नहलाएं। इसके बाद, कलश देवता की पूजा करें, फिर नवग्रहों की पूजा करें। माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा करते समय, हाथ में एक फूल के साथ नीचे दिए गए मंत्र का जप करें:

“इधन कमण्डलु कमण्डलु पद्मभ्यामलकंड्व

देवि प्रसीधतु मैं ब्रह्मचारिण्यनुत्मा।”

इसके बाद, पंचामृत से माँ को स्नान कराएं और फिर विभिन्न फूल, अक्षत, कुंकुम, शिंदूर को देवी माँ को अर्पित करें। माँ जास्मीन और कमल के फूलों को बहुत पसंद करती हैं, इसलिए उन्हें इनकी माला दें, घी और कपूर मिलाएं, और माँ का आरती करें।

माँ ब्रह्मचारिणी के मंत्र

“तपधारिणि तुम्हीं तपात्र निवारणीं

ब्रह्मरूपधारा ब्रह्मचारिणी प्रणमाम्यहम्।

शंकरप्रिया तुम्हीं भक्तिमुक्तिदायिनी

शान्तिदा ज्ञानदा ब्रह्मचारिणी प्रणमाम्यहम्।

माँ ब्रह्मचारिणी का कवच

त्रिपुटा मैं हृदय पातु ललाटे शंकरबामिनि

अर्पण सदापातु नेत्रो, अर्धारि च कपोल्लो

पंचदशी कंठे पातु मध्य देशे पातुमहेश्वरि

षोडशी सदापातु नाभो गुहो च पदयो

तपधारिणि तुम्हीं तपात्रय निवारणीं

अंग प्रत्यंग पातु ब्रह्मचारिणी।”

इन मंत्रों के जाप के अलावा, यदि नवरात्रि के दौरान आप अच्छे कर्म करें और दयालु कार्य करें, तो फिर आपको उसके लिए भी पुरस्कार प्राप्त होता है। इन नौ दिनों में, यदि आप गरीबों को भोजन कराते हैं, गाय को रोटी देते हैं या उदारता से दान देते हैं, तो तब माँ बहुत प्रसन्न होती हैं।

इनके अलावा, यदि आप इन नौ दिनों में अखंड ज्योति जला सकते हैं, तो तब आपके घर में मौजूद नकारात्मक शक्तियों को नष्ट किया जाएगा और आपके घर में खुशी और समृद्धि होगी। अगर आपको बहुत दिनों से किसी बीमारी का सामना हो रहा है, जो जाने का नाम ही नहीं ले रही है,

तो यह उपवास भी आपकी समस्या से छुटकारा दिलाएगा। अगर आपने दुर्गा माता का व्रत नहीं रखा है या आपको उसकी विधि और मंत्रों का पता नहीं है, तो हमारा समाधान आपकी मदद करेगा।


Recently Added Articles
पंचक
पंचक

पंचक, ज्योतिष में एक अवधारणा है जो पांच विशेष नक्षत्रों के संरेखित होने से जुड़ी है। ...

माँ ब्रह्मचारिणी
माँ ब्रह्मचारिणी

माँ ब्रह्मचारिणी, नवरात्रि के दूसरे दिन पूजित की जाती है। यह माँ दुर्गा का दूसरा रूप है। माँ ब्रह्मचारिणी अपने भक्तों के दुःखों और परेशानियों को हटाकर...

माता शैलपुत्री - 2024 की नवरात्रि का पहला दिन
माता शैलपुत्री - 2024 की नवरात्रि का पहला दिन

नवरात्रि के पहले दिन, ऐसे ही माता शैलपुत्री की पूजा करें। इस पूजा से वह आपको धन समृद्धि से आशीर्वाद देंगी।...

लोकसभा चुनाव 2024 ज्योतिषी भविष्यवाणी
लोकसभा चुनाव 2024 ज्योतिषी भविष्यवाणी

भारत में 2024 में लोकतंत्र का महा पर्व, 18वीं लोकसभा का चुनाव होने जा रहा है। आप सभी पाठकों को यह जानकर खुशी होगी कि हमने 2019 में पिछली 17वीं लोकसभा ...