>

Mata Katyayani

माँ कात्यायनी

नवरात्रि के छठे दिन माँ कात्यायनी की पूजा की जाती है। इनके चार भुजाएं होती हैं। ऊपर वाले दाहिने हाथ में अभय मुद्रा और नीचे वाले दाहिने हाथ में वर मुद्रा होता है। एक हाथ में तलवार और दूसरे हाथ में कमल का फूल होता है। माँ कात्यायनी सिंह पर सवार होती हैं।

इनकी पूजा करने से भक्तों को मोक्ष की प्राप्ति होती है और जीवन में किए गए सभी कार्य सफल होते हैं। साधकों को रोग और भय से मुक्ति मिलती है। माँ कात्यायनी अपने भक्तों को हमेशा सफलता और खुशियों का फल देती हैं। इनकी उपासना करने से जीवन में पद और प्रतिष्ठा में वृद्धि होती है।

पूजा विधि

नवरात्रि के छठे दिन प्रसाद में शहद का प्रयोग करें।

पूजा के दौरान अपने हाथों में फूल लें और माँ का ध्यान करते हुए उनका मंत्र जपें।

अविवाहित लड़कियों के लिए विशेष

माँ कात्यायनी का मंत्र 1 लाख 25 हजार बार जपने से मनचाहा वर प्राप्त होता है।

पूजा का महत्व

माँ कात्यायनी को नवरात्रि के छठे रूप में पूजा जाता है।

इनकी पूजा और भक्ति से भक्तों को अर्थ, धर्म, कार्य और मोक्ष, चारों फल आसानी से मिल जाते हैं।

इनकी उपासना से रोग, शोक, संकट और भय का नाश होता है।

सच्चे दिल से इनकी पूजा करने वालों की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं।

कथा

हिंदू धर्म के अनुसार, अगर किसी व्यक्ति को विवाह नहीं हो पा रहा है या वैवाहिक जीवन में कठिनाइयां आ रही हैं तो उसे माँ कात्यायनी की पूजा अवश्य करनी चाहिए।

पौराणिक कथा के अनुसार, विश्व प्रसिद्ध महर्षि कatyayan ने पुत्री प्राप्ति की इच्छा से भगवती पार्वती की कठोर तपस्या की। उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर माँ भगवती उनके पुत्री के रूप में पैदा हुईं। इसलिए उन्हें माँ कात्यायनी कहा जाता है।

माँ कात्यायनी की आरती

जय जय अम्बे जय कात्यायनी

जय जगदम्बे जग की महारानी

माँ कात्यायनी का मंत्र

- लड़कियों के लिए कात्यायनी शुभदाय देवी दानवाधतिनी। कात्यायनी महामाये महायोगिनी अधीश्वरी।। नन्दगोपसुतां देवी पतिं मे कुरुते नमः॥ माँ कात्यायनी का मंत्र - लड़कों के लिए (लड़कियों को जप नहीं करना चाहिए) पत्नी मनोरमा देवी मनोवृत्त अनुसारीणी। तारिणी दुर्गा संसारसागरस्य कुलोद्भवाम्॥ पूजा विधि के बाद माता रानी से क्षमा प्रार्थना करें।

उपसंहार

जो कोई भी भक्त माँ कात्यायनी की पूजा करता है, उसे कभी निराशा नहीं होती। घर में हमेशा शांति रहती है। सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं और कार्य पूर्ण होने लगते हैं। साथ ही इससे पूरा परिवार खुश रहता है। माँ कात्यायनी को प्रसन्न करने के लिए बताई गई पूजा विधि को जरूर अपनाएं।


Recently Added Articles
माँ कालरात्रि - नवरात्रि का सातवां दिन
माँ कालरात्रि - नवरात्रि का सातवां दिन

नवरात्रि के सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा की जाती है। मां कालरात्रि देवी दुर्गा का सातवां स्वरूप हैं। मां कालरात्रि की पूजा करने से भक्तों को शक्ति...

माँ ब्रह्मचारिणी
माँ ब्रह्मचारिणी

माँ ब्रह्मचारिणी, नवरात्रि के दूसरे दिन पूजित की जाती है। यह माँ दुर्गा का दूसरा रूप है। माँ ब्रह्मचारिणी अपने भक्तों के दुःखों और परेशानियों को हटाकर...

माता शैलपुत्री - 2024 की नवरात्रि का पहला दिन
माता शैलपुत्री - 2024 की नवरात्रि का पहला दिन

नवरात्रि के पहले दिन, ऐसे ही माता शैलपुत्री की पूजा करें। इस पूजा से वह आपको धन समृद्धि से आशीर्वाद देंगी।...

माँ चंद्रघंटा
माँ चंद्रघंटा

माँ चंद्रघंटा, माँ दुर्गा का तीसरा रूप, नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा के द्वारा चमकाया जाता है। उनकी पूजा या अर्चना करके, आपको असीमित शक्तियाँ प्राप्त...