Megha Purnima 2020 - माघ पूर्णिमा पर दान और स्नान का विशेष महत्व

Megha Purnima 2020 - माघ पूर्णिमा पर दान और स्नान का विशेष महत्व

पूर्णिमा का दिन बड़ा ही महत्वपूर्ण और विशेष माना जाता है। वैसे तो साल में बहुत-सी पूर्णिमा आती है लेकिन इन सब में माघ पूर्णिमा सबसे ज्यादा विशेष माना जाता है। माघ पूर्णिमा माघ मास के आखिरी दिन मनाई जाती है। माघ पूर्णिमा धार्मिक और आध्यात्मिक रूप से विशेष मानी गई है। माघ महीने में लोग गंगा स्नान करते हैं और भगवान की पूजा-अर्चना करते हैं। जिसके बाद माघ के आखिरी दिन यानी पूर्णिमा पर स्नान दान करके अपने व्रत को पूरा करते हैं। माघ मास मे दान और स्नान का विशेष महत्व है। तीर्थराज प्रयाग में त्रिवेणी स्नान माघ पूर्णिमा पर ही किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार माघ पूर्णिमा को बड़ी और फलदाई पूर्णिमा माना जाता है।

माघ पूर्णिमा हिंदुओं के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है जो पारंपरिक हिंदू कैलेंडर में 'माघ' के महीने में 'पूर्णिमा' (पूर्णिमा के दिन) पर पड़ता है। यह तारीख मोटे तौर पर अंग्रेजी कैलेंडर में जनवरी-फरवरी के महीनों में आती है। माघ पूर्णिमा को 'माघी पूर्णिमा' या 'महा माघी' के नाम से भी जाना जाता है और माघ मास का अंतिम और सबसे महत्वपूर्ण दिन है। हिंदू कथाओं में पूर्णिमा को धार्मिक और आध्यात्मिक अनुष्ठानों के लिए एक महत्वपूर्ण दिन माना जाता है, और इनमें से माघ पूर्णिमा सबसे शुभ है।

इस दिन हजारों हिंदू श्रद्धालु प्रयाग में त्रिवेणी संगम पर स्नान करते हैं। इस दौरान प्रसिद्ध 'कुंभ मेला' और 'माघ मेला' भी आयोजित किया जाता है, जिसमें देश के कोने-कोने से भक्त आते हैं। भारत के दक्षिणी राज्यों जैसे आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में भी, यह अत्यंत उत्साह और उल्लास के साथ मनाया जाता है। तमिलनाडु में इस दिन शानदार नाव दौड़ उत्सव आयोजित किया जाता है, जिसमें मीनाक्षी और भगवान सुंदेश्वरा की सुंदर ढंग से सजी हुई मूर्तियाँ झांकियों पर आरूढ़ होती हैं। माघ पूर्णिमा बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए भी विशेष महत्व रखती है।

माघ पूर्णिमा पर राशि अनुसार जाने ज्योतिषीय उपाय श्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों द्वारा। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

माघ पूर्णिमा 2020 का मुहूर्त

2020 में माघ पूर्णिमा 8 फरवरी को शाम 4:00 बजे से शुरू होगी और 9 फरवरी 2020 को दोपहर 1:00 बजे पूर्णिमा समाप्त हो जाएगी।

माघ पूर्णिमा व्रत मुहूर्त 2020

फरवरी 8, 2020 को 16:03:05 से पूर्णिमा आरम्भ

फरवरी 9, 2020 को 13:04:09 पर पूर्णिमा समाप्त

माघ पूर्णिमा का व्रत

माघ पूर्णिमा व्रत करने से सभी पापों का नाश हो जाता है। मान्यता है कि माघ मास में देवता पृथ्वी पर आते हैं और मनुष्य का रूप धारण करके प्रयाग में स्नान दान और जप आदि करते हैं। यही कारण है कि माघ पूर्णिमा पर गंगा स्नान को सर्वोपरि माना गया है। गंगा स्नान करके व्रत करना चाहिए और भगवान कृष्ण का पूजन कर गरीबो में दान देना चाहिए। इस दिन ऋषि मुनियों की सेवा और उन्हें दान देने का भी विशेष महत्व माना गया है। माघ पूर्णिमा पर हर मनोकामना पूर्ण हो जाती है क्योंकि यह पूर्णिमा भगवान को अत्यधिक प्रिय है। इस पूर्णिमा पर पितरों को श्राद्ध देने का भी महत्व है। पितरों की शांति के लिए गंगा तट पर तिल, कंबल ,कपास, गुड़, घी, मोदक, फल, का दान करना चाहिए।

माघ पूर्णिमा का महत्व

माघ पूर्णिमा के महत्व को इसके फलदायक रूप से समझा जा सकता है। दरअसल, माघ पूर्णिमा पर स्नान करने से समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। शास्त्रों में कहा गया है कि यदि पूर्णिमा के दिन पुष्य नक्षत्र हो तो इस तिथि का महत्व और बढ़ जाता है। इस दिन जो भी मनुष्य भगवान की पूजा, अर्चना और ध्यान करता है, उसे मन इच्छा फल मिलता है। माघ पूर्णिमा सभी पापों का नाश करने वाली है।

माघ पूर्णिमा की पूजा विधि

1. इस दिन सूर्य उदय से पूर्व किसी भी पवित्र नदी, जलाशय में स्नान करके सूर्य मंत्र का उच्चारण करना चाहिए।

2. स्नान करने के बाद भगवान सूर्य को अर्ध्य देकर 11 बार सूर्य मंत्र का जाप करना चाहिए।

3. भगवान विष्णु की पूजन के लिए फल, फूल, घी, चंदन, दूध आदि का प्रवाधान कर पूजन करना चाहिए।

4. माघ पूर्णिमा के दिन दान देना महत्वपूर्ण माना गया है। इस दिन दान में अन्न, कपड़ा, तिल, घी, तेल आदि देने चाहिए।

5. गरीबों को भोजन खिलाने से और ब्राह्मणों का सम्मान करने से माघ पूर्णिमा के दिन भगवान प्रसन्न होते हैं।

माघ पूर्णिमा का व्रत सब पापों का नाश करने वाला होता है जो भी मनुष्य सच्चे दिल से माघ पूर्णिमा का व्रत करते हैं उनकी हर मनोकामना पूरी होती हैं।


Recently Added Articles