गुरु चांडाल योग - सबसे घातक जन्म कुंडली दोष 

कई बार हमारे जीवन में ऐसा पल आता है कि हम खूब मेहनत करते हैं। अपने काम को पूरी हम लगन के साथ करते हैं लेकिन मेहनत का फल नहीं मिलता पाता। इसका मतलब हो सकता है कि आपके भाग्य में कुछ गलत हो रहा है यानी कि  आपका साथ ग्रह नहीं दे रहे है। जिस कारण आपकी कुंडली में दोष लग गया जाता है। कुंडली दोष हमारे बिगड़े काम को नहीं बना देता।

गुरु और राहु के संयोग से बनता हैं चांडाल योग

ग्रहों के अशुभ योग से व्यक्ति को जीवन भर दुख भोगने पड़ जाते हैं। ऐसी भी योग के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। जिसके कुंडली में आने के प्रभाव से व्यक्ति का जीवन संकट में हो जाता है। जिसका जीवन पर बुरा प्रभाव पड़ता है, आइए जानते हैं ऐसा कौन सा योग है जिस के भाव से कुंडली प्रभावित होती है। चांडाल योग कुंडी को प्रभावित करता है, जिसमें गुरु और राहु के संयोग होने की वजह से जातक की कुंडली इतनी प्रभावित होती है कि वह गलत काम करने पर उतर जाता है। जी हां, चांडाल योग के दुष्प्रभाव यही है कि वह जातक को इस प्रकार से प्रभावित करता है। कि उसका चरित्र भ्रष्ट होने लगता है. वह बड़ों का आदर-सम्मान भूल जाता है। यहां तक कि पराई स्त्रियों की तरफ ध्यान आकर्षित कर देता है। गुरु ग्रह बड़े ही शुभचिंतक होते हैं लेकिन जब इनके केंद्र में राहु आ जाता है तो चांडाल योग का रूप ले लेता है यानी कि यह योग अच्छा नहीं माना जाता।

आपको बता दें कि जन्म कुंडली में गुरु लग्न पंचम, सप्तम, नवम और दशम भाव का स्वामी चांडाल योग बनाता है तो व्यक्ति को जीवन में बड़ा ही संघर्ष करना पड़ता है। बार-बार गलतियां कर नुकसान उठाना पड़ता है। यहां तक कि पद-प्रतिष्ठा भी खतरे में आ जाती है। यदि कुंडली में गुरु चांडाल योग प्रवेश करता है तो कुछ विशेष प्रभाव देखने को मिलते हैं। बताते हैं कि वह कौन-से प्रभाव है। जिससे कुंडली प्रभावित हो जाती है। 

गुरु चांडाल योग के प्रभाव 

1. आप कुछ भी कर रहे होते हैं तो उसमें आपको नकारात्मक भाव देखने को मिलता है।

2. जब गुरु और राहु एक साथ बैठकर गुरु चांडाल योग बना रहे होते हैं तो व्यक्ति चरित्र वाला हो जाता है।

3.वहीं द्वितीय भाव बन रहा हो और जिसमें गुरु बलवान हो तो व्यक्ति धनवान होता है। वहीं यदि गुरु ग्रह कमजोर पड़ जाए तो जातक नशे का भी आदी हो जाता है। 

4.चांडाल योग में राहु के बलवान होने पर व्यक्ति गलत कार्यों में लग जाता है। इसमें शराब पीना, जुआ खेलना आदि सम्मलित है।

5.जीवन में सुख शांति का अभाव होने लगता है। 

इन सबसे बचने के लिए कुछ उपाय बताए जाते हैं। जिन्हें जान लेना बेहद जरूरी है क्योंकि चांडाल योग जीवन को तहस-नहस कर देता है।

चांडाल योग से बचने के उपाय

1. गुरु चांडाल योग को समझने के लिए जानना जरूरी है कि इसमें राहु सबसे ज्यादा प्रभावित करता है यानी कि आपको राहु को खुश करना होगा और राहु को शांत करने के लिए मंत्रों का जाप किया जाता है। 

2. यदि यह दोष गुरु की शत्रु राशि में बन रहा हो तो राहु और गुरु को खुश करने के लिए शांति उपाय करने की जरूरत पड़ती है। इसके लिए नियमित रूप से गाय को चारा खिलाना और भगवान हनुमान की आराधना करना शामिल है।

3. किसी भी कष्ट को दूर करने के लिए भगवान की आराधना सर्वोपरि मानी जाती है और चांडाल योग से मुक्ति पाने के लिए शिव की आराधना करें। भगवान शिव पर जलाभिषेक करें।

4. गुरु के दुष्प्रभाव से बचने के लिए केले का पूजन करें और हल्दी और चंदन का तिलक लगाएं। 

5. राहु-गुरु मंत्र जाप और पूजा पाठ कर, घर में हवन और होम कराएं। साथ ही कुछ वस्तुएं भी दान करें।

कैसे कम होगा गुरु चांडाल योग का प्रभाव, जाने भारत के जाने माने ज्योतिषियों द्वारा। अभी बात करने के लिए क्लिक करे।

गुरु चांडाल योग का अंग्रेजी अनुवाद पढ़ने के लिए क्लिक करे

Recently Added Articles
Pradosh Vrat 2019 - जाने प्रदोष व्रत तिथि व पूजा विधि
Pradosh Vrat 2019 - जाने प्रदोष व्रत तिथि व पूजा विधि

हिंदू कैलेंडर के अनुसार प्रदोष व्रत को बेहद खास माना जाता है। यह व्रत त्रयोदशी के दिन रखा जाता है। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की जाती है...

हिन्दू धर्म
हिन्दू धर्म

आपने सुना होगा कि हिन्दू धर्म से बढ़कर कोई धर्म नहीं है। यह सबसे प्राचीन धर्म है, इसकी शुरुआत मनु ऋषि...

Rudraksha - जानिए रुद्राक्ष के आश्चर्यजनक फायदे
Rudraksha - जानिए रुद्राक्ष के आश्चर्यजनक फायदे

रुद्राक्ष के ऐसे फायदे जो किसी को भी आश्चर्यचकित कर सकते है। रुद्राक्ष उन गुणों से बना हुआ है जो जीवन में बहुत सी खुशियां ला सकता है।...

दशहरा 2019 –  विजयदशमी 2019 पर्व तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि
दशहरा 2019 – विजयदशमी 2019 पर्व तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि

शुभ मुहूर्त दशहरा पर्व भारत में विजयदशमी के नाम से भी धूमधाम से मनाया जाता हैं।...