आज के ऑफर : 300Rs तक के रिचार्ज पर 10% EXTRA और 500Rs या उससे ऊपर के रिचार्ज पर 15% EXTRA प्राप्त करें।

चांदी की अंगूठी पहनने के फायदे

चांदी की अंगूठी पहनने के फायदे (Benefits of wearing silver ring)

भारतीय संस्कृति में महिलाएं काफी सुंदर दिखती है क्योंकि ये खूबसूरत तो होती ही है इसके अलावा जब शरीर पर गहना हो जाए तो बहुत ज्यादा सुन्दर दिखने लगती है। गहने में हर छोटी से छोटी चीज बहुत अच्छी दिखती है और इसमें से एक होती है चांदी की अंगूठी जिसे महिलाएं पहनकर साज-श्रृंगार करती हैं। बता दें कि चांदी के आभूषण सोने की तरह ही महिलाओं की खूबसूरती में चार चांद लगाने में आते है। लेकिन क्या आपको पता है इसके कुछ और भी फायदे है।

चांदी की अंगूठी पहनने का सही तरीका 

दरअसल ज्योतिष महाज्ञानियों के अनुसार चांदी नौ ग्रहों में शुक्र और चंद्रमा से जुड़ा हुआ धातु है। माना जाता है कि चांदी धातु जो भगवान शिव की आँखों से उत्पन्न हुआ था इस कारण ऐसा माना जाता है कि जहाँ चांदी होता है और संपन्नता रहती है और किसी भी चीज की कमी नहीं रहती।

चांदी के आभूषण विशेष रूप से अंगूठी पहनने से शरीर की शोभा तो बढ़ ही जाती लेकिन इसके कई अन्य फायदे भी जो आपको नीचे जानने को मिलेंगे।

सबसे पहले तो आपको मार्केट में जाकर सुनार की दूकान से अपने पसन्द के अनुसार कोई एक चांदी की अंगूठी खरीद लेनी है। फिर गुरुवार की रात को ही पानी में डालकर ऐसे ही छोड़ देना है। अगली सुबह मतलब शुक्रवार के दिन पानी से अंगूठी को भगवान विष्णु के चरणों में रखकर पूर्ण विधि-विधान के साथ पूजा करनी होगी।

इस प्रकार जब अंगूठी की पूजा अर्चना पूर्ण हो जाए तो फिर उसको चंदन लगाना है और साथ ही धूप-दीप दिखाकर अक्षत भी चढ़ाना होगा। इसके बाद अब आप इस अंगूठी को दाहिने हाथ की सबसे छोटी उंगली अर्थात कनिष्ठा में पहन लें।

चांदी की अंगूठी पहनने के वैदिक ज्योतिष फायदे 

ये होते है चांदी की अंगूठी पहनने से सबसे बेहतरीन फायदे

1) ऐसा माना जाता है कि जब आप पूरे विधि-विधान के साथ दाहिने हाथ सबसे छोटी उंगली में चांदी की अंगूठी पहनते है तो आपकी खूबसूरती में बढ़ोतरी होती है और अगर दाग धब्बे है तो वह ख़त्म होने के चांस बढ़ जाते है।

2) इसके अलावा ज्योतिष शास्त्रों की माने तो दाहिने हाथ की सबसे छोटी उंगली में चांदी की अंगूठी पहनने से आपका दिमाग सही रहने लगता है और शांत रहता है और गुस्से पर काबू भी होने लगता है।

3) चांदी की अंगूठी आपके मानसिक क्षमताओं को हल करने में बहुत मदद करती है।

4) यदि आपको कोई बीमारियां है जिसमें मुख्यतः अगर जोड़ों में दर्द, खांसी की समस्या या ऑर्थराइटिस तो यह चांदी की अंगूठी वाकई बहुत मदद करेगी आपके स्वास्थ्य के लिए। विश्वास कीजिये।

5) इसके अलावा अगर कोई व्यक्ति चांदी की अंगूठी पहनना पसंद नहीं करता है वो गले में चैन भी पहन सकते है। ऐसा करने से हकलाने वालों को बहुत लाभ मिलता है।

कुल मिलाकर चांदी हमारे शरीर के लिए शोभा ही नहीं बढ़ाती बल्कि यह कई रोगों और मानसिक तनाव से भी बचाने में मदद करती है। अगर आप चांदी की अंगूठी नहीं पहनते है तो अब शायद जरूर पहन सकते है।

 

जानिए चांदी कैसे आपके जीवन पर प्रभाव डालती हैं।  जानने के लिए  अभी बात करे हमारे जाने माने ज्योतिष्यो से


Recently Added Articles
धनु राश‍ि (Dhanu Rashi) - Sagittarius in Hindi
धनु राश‍ि (Dhanu Rashi) - Sagittarius in Hindi

धनु राश‍ि (Saggitarius) का स्थान राश‍ि चक्र और तारामंडल में नौवें स्थान पर है। धनु राश‍ि पूर्व दियाा में वास करने वाली पृष्ठोदयी राश‍ि है।...

भगवान विष्णु जी की आरती - ॐ जय जगदीश हरे, Om Jai Jagdish in Hindi
भगवान विष्णु जी की आरती - ॐ जय जगदीश हरे, Om Jai Jagdish in Hindi

भगवान विष्णु जी की आरती ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे का उच्चारण करना बहुत आवश्यक है।...

श्री गणेश आरती - जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा, Ganesh Aarti in Hindi
श्री गणेश आरती - जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा, Ganesh Aarti in Hindi

किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले भगवान गणेश जी की आरती "जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा" का ज्ञान अनिवार्य होता है। ...

वृश्च‍िक राश‍ि (Vrishchik Rashi) - Scorpio in Hindi
वृश्च‍िक राश‍ि (Vrishchik Rashi) - Scorpio in Hindi

वृश्च‍िक राश‍ि (Vrishchik Rashi) का स्थान राश‍ि चक्र और तारामंडल में आठवें स्थान पर है। यह राश‍ि उत्तर दिशा में वास करती है और इसे शीर्षोदयी राश‍ि भी ...


2020 आपका साल है! अब अपनी पूरी रिपोर्ट प्राप्त करें और जानें कि 2020 में आपके लिए कौन से नियम छिपे हैं
पहले से ही एक खाता है लॉग इन करें

QUERY NOW !

Get Free Quote!

Submit details and our representative will get back to you shortly.

No Spam Communication. 100% Confidentiality!!