एस्ट्रोस्वामीजी की ओर से नववर्ष 2020 की हार्दिक शुभकामनाये! अभी साइन-अप करे और पायें 100 रु का मुफ्त टॉक-टाइम ऑनलाइन ज्योतिष परामर्श पर!

Surya Grahan 2019 - 26 दिसंबर साल के अंत में लगने वाला है सूर्य ग्रहण, रखें इन बातों का विशेष ध्यान

Surya Grahan (Solar eclipse) 2019: दिसंबर 2019 यानि साल 2019 के अंत में सूर्य ग्रहण होने वाला हैं। जी हां, साल 2019 का अंत सूर्य ग्रहण के साथ होने जा रहा है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि इस साल के आखिरी महीने दिसंबर 26 को सूर्य ग्रहण रहने वाला है जिसके लिए कई बातों का ध्यान रखना जरूरी है। बता दें कि अगर ग्रहण शनैश्चरी अमावस्या के दिन पड़ता है तो उस दिन, स्तोत्र-पाठ, जप-पाठ, दान और, तीर्थस्थान, मंत्र सिद्धि और हवन आदि का काफी महत्व बढ़ जाता है।

क्या होता है सूर्य ग्रहण

सूर्य ग्रहण कैसे होता है इसके बारे में अगर आपको बताएं तो जब चंद्रमा, सूर्य और पृथ्वी के बीच में से होकर जाता है तो इस खगोलीय घटना को ही हम सूर्य ग्रहण कह सकते है। दरअसल इस स्थिति में चंद्रमा की छाया सूर्य पर पड़ जाती है जिसके कारण ग्रहण होता है। आपकी जानकारी के लिए बता दे की साल 2019 का अंत कंकण सूर्य ग्रहण के साथ होने जा रहा है।

सूर्य ग्रहण कब से कब तक रहेगा

तीन दिन बाद यानि दिसंबर 26, 2019 को सूर्य ग्रहण 8 बजे शुरू हो जाएगा जो 10 बजकर 48 मिनट तक चरम तक पहुँचेगा और 1 बजकर 36 मिनट पर समाप्त हो जाएगा। इस दौरान कई बातों का विशेष ध्यान रखना भी बेहद जरूरी है।

भारत में आंशिक/कंकड़ सूर्य ग्रहण

ग्रहण प्रारम्भ काल - 08 बजे, दिसंबर 26, 2019

ग्रहण मध्यकाल - 10 बजकर 48 मिनट, दिसंबर 26, 2019

ग्रहण समाप्ति काल - 1 बजकर 36 मिनट, दिसंबर 26, 2019

खण्डग्रास की अवधि - 05 घण्टे 36 मिनट

सूतक का भी रखें ध्यान

आपको बता दें कि दिसंबर 26, 2019 को होने वाले सूर्य ग्रहण के दिन 17:34 बजे से सूतक लग जाएगा जो 10:56 मिनट तक रहेगा। इसमें कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए वो हमने नीचे बताये है।

सूतक के दौरान न करें ये काम

1. इस दौरान किसी भी प्रकार का नया काम शुरू न करें।

2. भोजन न तो बनाएं और न ही इस दौरान खाना खाएं।

3. शौच न जाएं सूतक के दौरान।

4. सबसे अहम बात तो यह है कि आपको इस दौरान देवी-देवताओं की मूर्ती और तुलसी के पौधों का स्पर्श न करें।

5. सूतक के दौरान दांतुन न करें और साथ ही बालों में कंघी भी न डालें।

ये कुछ कार्य जो ग्रहण के दौरान अवश्य करने चाहिए

1. सूतक के दौरान आप सूर्य संबंधित मंत्रों का उच्चारण कर सकते है। इससे बहुत फायदा होगा।

2. जब ग्रहण समाप्त हो जाए तो उसके बाद घर में पुनः शुद्धिकरण के लिए गंगाजल का छिड़काव अवश्य करें।

3. ग्रहण की समाप्ति के तत्पश्चात स्नान अवश्य करें।

4. जब ग्रहण और सूतक समाप्त हो जाए तो इसके बाद देवी-देवताओं की मूर्तियों को गंगाजल से शुद्ध करें।

5. ग्रहण से पहले बनाया गया खाना न खाएं और ताजा खाना बनाएं।

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को रखनी चाहिए इन बातों का विशेष ध्यान

1. सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को काफी बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है जैसे:

2. ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर न निकलना चाहिए।

3. ग्रहण को देखने की गलती कतई न करें।

4. सिलाई एवं कढ़ाई का काम न करें।

5. ग्रहण के दौरान सब्जी न काटें और कुछ भी सब्जी या फल न चीलें।

6. सुई तथा चाकू का प्रयोग न करें।

बदलेगा मौसम का मिज़ाज़

वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य ग्रहण से एक दिन पहले मंगल राशि परिवर्तन करके जल-तत्व राशि वृश्चिक में गोचर करेगा। जिसके कारन मौसम में परिवर्तन देखने को मिल सकता है। मंगल का राशि परिवर्तन भारी बर्फ़बारी, भूकंप, और भारी बारिश की ओर संकेत कर रहा है।

सूर्य ग्रहण का आपकी राशि पर और नये साल पर क्या प्रभाव पड़ेगा? ज्योतिषीय परामर्श के लिये गाइडेंस लें इन्डिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से।

Recently Added Articles
वर्कप्लेस में तरक्की के लिए इन वास्तु उपायों का करें पालन
वर्कप्लेस में तरक्की के लिए इन वास्तु उपायों का करें पालन

वर्कप्लेस छोटा है या बड़ा है इससे कार्य की तरक्की को कोई भी फर्क नहीं पड़ता है बल्कि आपके वर्कप्लेस यानी कि कार्यक्षेत्र के अंदर किन वास्तु उपायों का ...

Megha Purnima 2020 - माघ पूर्णिमा पर दान और स्नान का विशेष महत्व
Megha Purnima 2020 - माघ पूर्णिमा पर दान और स्नान का विशेष महत्व

पूर्णिमा का दिन बड़ा ही महत्वपूर्ण और विशेष माना जाता है। वैसे तो साल में बहुत-सी पूर्णिमा आती है लेकिन इन सब में माघ पूर्णिमा सबसे ज्यादा विशेष माना ...

Vivah Muhurat 2020 - जनिये कब-कब है विवाह मुहूर्त
Vivah Muhurat 2020 - जनिये कब-कब है विवाह मुहूर्त

विवाह की तारीख तय करते समय विवाह मुहूर्त महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विवाह को लेकर हिन्दू शास्त्रों में विशेष रूप से व्यवस्था की गयी है।...

Mercury Transit 2019 - वृश्चिक से धनु राशि में बुध गोचर 2019
Mercury Transit 2019 - वृश्चिक से धनु राशि में बुध गोचर 2019

क्या होता है गोचर ? गोचर का सामान्य शब्दों में अगर आपको अर्थ बताएं तो इसका अर्थ गमन यानी कि आगे बढ़ना चलना होता है।...


2020 is your year! Get your YEARLY REPORTS now and know what SURPRISES are hidden for you in 2020
Already Have an Account LOGIN