2023 पितृ पक्ष श्राद्ध - 2023 मे कब से कब तक होंगे श्राद्ध पक्ष (Shradh Paksh)

पितृ पक्ष श्राद्ध 2023 (Pitru Paksha 2023) सोलह दिन की अवधि है जिसमें हिंदू अपने पूर्वजों का सम्मान करते हैं और उन्हें सम्मान देते हैं। इस समयावधि के दौरान - जो गणेश चतुर्थी के बाद पहली पूर्णिमा (पूर्णिमा) से शुरू होता है और अमावस्या पर समाप्त होता है, जातकों को न केवल उनके प्रत्यक्ष जैविक वंश से उन लोगों को सम्मानित करने की अनुमति देता है, बल्कि जिन्होंने उनके आध्यात्मिक, नैतिक और उनके बौद्धिक विकास में हमारे भागीदारी की है उनको धन्यवाद देने का इससे अच्छा तरीका कुछ और नहीं हो सकता है इसलिए पितृ पक्ष में पूर्वजों को उनको सम्मान देना चाहिए। 

क्या हैं पितृ पक्ष का इतिहास

पौराणिक कथा के अनुसार, जब महाभारत युद्ध के दौरान योद्धा राजा कर्ण की मृत्यु हो गई और उनकी आत्मा स्वर्ग में चढ़ गई, तो उन्हें भोजन के बजाय गहने और सोने का भोजन दिया गया। यह महसूस करते हुए कि वह इन वस्तुओं पर खुद को बनाए नहीं रख सकता है, उन्होंने स्वर्ग के स्वामी इंद्र को संबोधित किया और उनसे पूछा कि उन्हें असली भोजन क्यों नहीं मिल रहा है। भगवान इंद्र ने तब उन्हें बताया था क्योंकि उन्होंने इन वस्तुओं को अपने पूरे जीवन दान के रूप में दिया था लेकिन अपने पूर्वजों को कभी भी भोजन दान नहीं किया। जिस पर कर्ण ने उत्तर दिया कि वह अपने पूर्वजों से अवगत नहीं था। इस तर्क को सुनकर, इंद्र पंद्रह दिन की अवधि के लिए कर्ण को पृथ्वी पर वापस जाने के लिए सहमत हुए ताकि वह अपने पूर्वजों की स्मृति में भोजन बना सके और दान कर सके। समय की अवधि जिसे अब पितृ पक्ष के रूप में जाना जाता है।

पितृ पक्ष श्राद्ध 2023 – परंपरा, समारोह और महत्व

इस दौरान श्राद्ध का अनुष्ठान किया जाता है। इस अनुष्ठान की यह विशिष्टता व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती है, लेकिन आमतौर पर यह तीन घटकों को जोड़ती है। पहला हिस्सा पिंडदान है, पूर्वजों को पिंडा का प्रसाद। पिंडा चावल की गेंदें हैं जो आमतौर पर बकरी के दूध, घी, चीनी, चावल, शहद और कभी-कभी जौ से बनती हैं। समारोह का दूसरा भाग तर्पण, कुशा घास, जौ, आटा और काले तिल के साथ मिश्रित जल का चढ़ावा है। समारोह का अंतिम हिस्सा ब्राह्मण को खिलाया जाता है। यह ब्राह्मण पुजारियों को भोजन दे रहा है। साथ ही इस समय के दौरान, पवित्र शास्त्र से पढ़ना शुभ माना जाता है।

हालाँकि, कुछ चीजें ऐसी भी हैं जिन्हें पितृ पक्ष के दौरान करने से बचना चाहिए। प्रतिभागियों को नए प्रयासों में संलग्न होने से बचने के लिए माना जाता है; मांसाहारी खाद्य पदार्थ खाना; शेविंग या बाल कटाने; प्याज, लहसुन खाना या जंक फूड खाना।

किस दिन करें पूर्वज़ों का श्राद्ध

वैसे तो प्रत्येक मास की अमावस्या को पितरों की शांति के लिये पिंड दान या श्राद्ध कर्म किये जा सकते हैं लेकिन पितृ पक्ष में श्राद्ध करने का महत्व अधिक माना जाता है। पितृ पक्ष में किस दिन पूर्वज़ों का श्राद्ध करें इसके लिये शास्त्र सम्मत विचार यह है कि जिस पूर्वज़, पितर या परिवार के मृत सदस्य के परलोक गमन की तिथि याद हो तो पितृ पक्ष में पड़ने वाली उक्त तिथि को ही उनका श्राद्ध करना चाहिये। यदि देहावसान की तिथि ज्ञात न हो तो आश्विन अमावस्या को श्राद्ध किया जा सकता है इसे सर्वपितृ अमावस्या भी इसलिये कहा जाता है। समय से पहले यानि जिन परिजनों की किसी दुर्घटना अथवा सुसाइड आदि से अकाल मृत्यु हुई हो तो उनका श्राद्ध चतुर्दशी तिथि को किया जाता है। पिता के लिये अष्टमी तो माता के लिये नवमी की तिथि श्राद्ध करने के लिये उपयुक्त मानी जाती है।

2023 मे कब से कब तक होंगे श्राद्ध पक्ष

पितृ पक्ष 2023 तिथि व मुहूर्त (Pitru Paksha 2023 Date & Muhurat)

श्राद्ध पक्ष

पितृ पक्ष 2022 तिथि

श्राद्ध का दिन

पूर्णिमा श्राद्ध

29 सितंबर 2023

शनिवार

प्रतिपदा श्राद्ध

30 सितंबर 2023

रविवार

द्वितीया श्राद्ध

1 अक्टूबर 2023

सोमवार

तृतीया श्राद्ध

2 अक्टूबर 2023

मंगलवार

महा भरणी

3 अक्टूबर 2023

बुधवार

पंचमी श्राद्ध

4 अक्टूबर 2023

गुरूवार

षष्ठी श्राद्ध

5 अक्टूबर 2023

शुक्रवार

सप्तमी श्राद्ध

6 अक्टूबर 2023

रविवार

अष्टमी श्राद्ध

7 अक्टूबर 2023

सोमवार

नवमी श्राद्ध

8 अक्टूबर 2023

मंगलवार

दशमी श्राद्ध

9अक्टूबर 2023 बुधवार

एकादशी श्राद्ध

10 अक्टूबर 2023

गुरूवार

द्वादशी श्राद्ध

11 अक्टूबर023

शुक्रवार

चतुर्दशी श्राद्ध

12 अक्टूबर 2023

शनिवार

सर्व पितृ अमावस्या

13 अक्टूबर 2023

रविवार

 

पितृ पक्ष 2023 में करे पितरो का श्राद्ध मिलेगा पुण्य

पितृ पक्ष 2023 में एक बात का ध्यान रखें कि पितृ पक्ष में जो भी व्यक्ति अपने पूर्वजों को याद करता है और पूर्वजों के नाम श्राद्ध करता है तो उसके बड़े से बड़े दुख और क्लेश दूर होने लगते हैं। पितरों की आत्माओं में इतनी शक्ति होती है कि वह व्यक्ति के बड़े से बड़े कष्टों का निवारण कर सकते हैं। पितृपक्ष में पितरों को भोजन कराने से यदि मित्र प्रसन्न हो जाते हैं तो सभी तरीके की ग्रह दोष संबंधी मुसीबतें भी टल जाती हैं। इसलिए जातक को इन दिनों में विशेष सावधानियों के साथ अपने पूर्वजों को प्रसन्न करना चाहिए।

यह भी पढ़े

Pitra Dosh - पितृदोष लगने के कारण और निवारण


Recently Added Articles