बुधवार व्रत

जानिए बुधवार का व्रत क्यों रखा जाता है और इसकी विधि क्या है

जैसा कि आपको पता ही है कि बुध ग्रह का महत्व हमारे जीवन में बहुत है। जबकि बुधवार का व्रत वो लोग करते है जिनके ऊपर बुध ग्रह का कुप्रभाव होता है और वो इससे बचना चाहते हैं। बता दें कि बुध ग्रह व्यक्ति को विद्वता, वाद-विवाद की क्षमता प्रदान करता है। इसके अलावा ऐसा माना जाता है कि यह  जातक के दांतों, त्वचा और गर्दन पर भी प्रभाव डालता है। तो आइये आज हम बुधवार व्रत के बारे में अच्छे और विस्तार से जानेंगे, तो चलिए शुरू करते है।

क्या है बुधवार के व्रत रखने का मुख्य उद्देश्य

सबसे पहले तो हम यह जानेंगे कि आखिर बुधवार का व्रत रखने का मुख्य उद्देश्य क्या है। तो जाने माने ज्योतिषों के अनुसार इस व्रत को नियमित रूप में रखने से सर्व सुखों की प्राप्ति होती है। इसके अलावा भविष्य में जीवन में किसी भी प्रकार की कोई कमी या अभाव नहीं रहता और बुद्धि में वृद्धि होती है।

बुधवार व्रत विधि

बुधवार व्रत से यह तो साफ़ हो जाता है कि यह व्रत बुधवार के दिन ही रख सकते है और इसी कारण इसका नाम बुधवार व्रत है। वहीं अगर विधि की बात करें तो भक्तजनों को इस दिन सुबह जल्दी उठना चाहिए और फिर सफाई करनी चाहिए। इसके बाद अच्छे से नहा धोकर तैयार हो जाएं। कहा जाता है कि जिस दिन बुधवार का व्रत रखो उस दिन हरे रंग के वस्त्र पहनने चाहिए जो ज्यादा लागभायक माने जाते है। फिर ऐसा करने के बाद भक्तों को पवित्र जल का घर में छिड़काव करना चाहिए।

भारत के जाने माने ज्योतिषियों द्वारा जाने भगवान बुध की पूजा विधि का सही तरीका।  अभी बात करने के लिए क्लिक करे।

ऐसा करने के बाद अभी घर में कहीं पवित्र जगह पर भगवान बुध या शंकर भगवान की मूर्ति या उनका कोई चित्र लगाएं और उनके सामने धूप और घी का दिया जलाएं और पूजा करें। इसके अलावा व्रत रखने वालों को निम्न मंत्र से बुध की प्रार्थना करनी चाहिए। बुध त्वं बुद्धिजनको बोधदः सर्वदा नृणाम्‌। तत्वावबोधं कुरुषे सोमपुत्र नमो नमः॥

इस दिन हो सके तो बुधवार व्रत से जुड़ी कथा जरूर पढ़ें और फिर आरती वाचन करें। वहीं प्रसाद में आप गुड़, भात और दही चढ़ा सकते है।

गौरतलब हो कि ज्योतिष ये कहते है कि अगर अच्छा फल पाना है तो इन सबके अलावा भक्तजनों को बुधवार व्रत वाले दिन भगवान को सफ़ेद फूल व हरे रंग की वस्तुएं चढ़ानी चाहिए इससे ज्यादा लाभ होते है और भगवान प्रसन्न हो जाते है।

बुधवार व्रत के लाभ

इसी बीच आपको बता दें कि बुधवार के दिन अगर आप भी व्रत रखते है तो फायदे बहुत होते है। जी हाँ, बुधवार व्रत से आपके जीवन में कोई अभाव नहीं रहता है और बुद्धि का विकास होता है। वहीं नियमित और सही समय पर यह व्रत करने से घर के दुःख दूर हो जाते है और सुख शांति बनी रहती है। इसके अलावा रोग नजदीक ही नहीं आते है। तो हम उम्मीद करते है कि आपको इस आर्टिकल से बुधवार व्रत से जुड़ी सारी जानकारी समझ में आ गयी होगी।

बुधवार व्रत विधि का अंग्रेजी अनुवाद पढ़ने के लिए क्लिक करे।


Recently Added Articles
2022 Aja Ekadashi: कब है अजा एकादशी 2022 व्रत और शुभ मुहूर्त
2022 Aja Ekadashi: कब है अजा एकादशी 2022 व्रत और शुभ मुहूर्त

अजा एकादशी एक पवित्र एकादशी है जो कृष्ण पक्ष के दौरान हिंदू महीने 'भाद्रपद'में मनाई जाती है। ...

Ram Navami 2022 - राम नवमी पर्व तिथि और मुहूर्त 2022
Ram Navami 2022 - राम नवमी पर्व तिथि और मुहूर्त 2022

हिंदू धर्म के सबसे प्रमुख त्योहारों में से एक है रामनवमी का त्यौहार। इस पर्व को मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता ह...

2022 Indira Ekadashi: कब है इंदिरा एकादशी 2022 व्रत और शुभ मुहूर्त
2022 Indira Ekadashi: कब है इंदिरा एकादशी 2022 व्रत और शुभ मुहूर्त

इंदिरा एकादशी हिंदुओं के शुभ उपवासों में से एक है जो हिंदू आश्विन माह के कृष्ण पक्ष के 'एकादशी'पर पड़ती है।...

Vaishakha Purnima 2022 - वैशाख पूर्णिमा 2022 पूजा तिथि  व समय
Vaishakha Purnima 2022 - वैशाख पूर्णिमा 2022 पूजा तिथि व समय

हिंदू धर्म में पूर्णिमा का विशेष धार्मिक महत्व होता है। प्रत्येक पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और चंद्र देव की पूजा की जाती है। ...