>

Ram Navami 2024 - राम नवमी पर्व तिथि और मुहूर्त 2024

हिंदू धर्म के सबसे प्रमुख त्योहारों में से एक है रामनवमी का त्यौहार। इस पर्व को मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार, भगवान श्री विष्णु के सातवें अवतार, भगवान श्रीराम का जन्म त्रेता युग में चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को हुआ था। इसलिए रामनवमी को चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को मनाया जाता है। रामनवमी भगवान श्री राम के जन्मोत्सव के साथ-साथ चैत्र नवरात्रि का अंतिम दिन भी होता है। इसलिए इसे पूरे भारत में बड़े ही धूमधाम और श्रद्धा के साथ मनाया जाता है।

इसलिए मनाई जाती है रामनवमी (Ram Navami)

हिंदू शास्त्रों के अनुसार, जब-जब धरती पर पाप बहुत अधिक बढ़ जाता है तब-तब भगवान विष्णु अधर्म का नाश करने के लिए अवतार लेते हैं। त्रेतायुग में भगवान विष्णु ने राम और माता लक्ष्मी ने सीता का मानव रूप में अवतार लिया था। जिस दिन भगवान श्रीराम ने माता कौशल्या के कोख से जन्म लिया था, उस दिन चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि थी। इसी कारणवश इस तिथि को रामनवमी के रूप में मनाया जाता है।

kundli

राम नवमी 2024 पूजा विधि (Ram Navami Puja Vidhi 2024)

• रामनवमी के दिन सुबह उठकर स्नान कर ले और स्नान करने के पश्चात स्वच्छ वस्त्र धारण कर ले।

• इसके पश्चात आप पूजन सामग्री के साथ पूजा स्थल पर बैठे।

• पूजा में तुलसी पत्ता और कमल का फूल अवश्य होना चाहिए।

• इसके बाद श्रीराम की मूर्तियों को गंगाजल से स्नान कराएं।

• इसके बाद रामनवमी की पूजा षोडशोपचार करें।

• इस दिन रामलला की मूर्ति को फूल से सुसज्जित करके पालने में झुलाना चाहिये।

• इसके बाद रामायण तथा रामरक्षास्त्रोत का पाठ करें।

• इसके पश्चात खीर और फलों का प्रसाद तैयार करें।

• इस दिन भगवान श्री राम के साथ-साथ हनुमान जी की भी पूजा करें।

• पूजा हो जाने के पश्चात प्रसाद का वितरण करें।

astrology-app

राम नवमी तिथि 2024 (Ram Navami 2024 Tithi)

• वर्ष 2024 में रामनवमी 17 अप्रैल, बुधवारके दिन मनाई जाएगी

• राम नवमी मुहूर्त: सुबह 11:03 बजे से दोपहर 01:38 बजे तक

• अवधि: 2 घंटे 35 मिनट

• राम नवमी मध्याह्न क्षण: दोपहर 12:21 बजे


Recently Added Articles
सिंदूर: इसका इतिहास, महत्व और सांस्कृतिक महत्त्व
सिंदूर: इसका इतिहास, महत्व और सांस्कृतिक महत्त्व

सिंदूर भारतीय संस्कृति और परंपरा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो विवाहित स्त्रियों के सौभाग्य और शुभता का प्रतीक माना जाता है...

दक्षिण भारतीय सिनेमा के स्टाइलिश स्टार: अल्लू अर्जुन
दक्षिण भारतीय सिनेमा के स्टाइलिश स्टार: अल्लू अर्जुन

अल्लू अर्जुन का जन्म 8 अप्रैल 1983 को चेन्नई, तमिलनाडु में हुआ था। उनके पिता, अल्लू अरविंद, तेलुगु फिल्म उद्योग के एक प्रसिद्ध निर्माता हैं। अल्लू अर्...

क्यों आती हैं जीवन में समस्याएं ?
क्यों आती हैं जीवन में समस्याएं ?

हमारे जीवन में समस्याएं और चुनौतियाँ आना एक सामान्य प्रक्रिया है, जो कभी-कभी हमें निराशा और असमंजस की स्थिति में डाल देती है...

महानायक अमिताभ बच्चन की ज्योतिषीय कुंडली का विश्लेषण
महानायक अमिताभ बच्चन की ज्योतिषीय कुंडली का विश्लेषण

हिंदी सिनेमा जगत में सदी के महानायक के नाम से श्री अमिताभ बच्चन को जाना जाता है। उन्होंने भारतीय सिनेमा में अपनी एक अमिट छाप छोड़ी है। ...