Mauni Amavasya 2022 - मौनी अमावस्या 2022 तारीख और समय

माघ माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मौनी अमावस्या के नाम से जाना जाता है। मौनी अमावस्या को माघी अमावस्या या माघ अमावस्या (Magh Amavasya) भी कहा जाता हैं। साल 2022 में मौनी या माघ अमावस्या 1 फरवरी को मंगलवार के दिन पड़ रही है। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार कुछ लोग 31 जनवरी को मौनी अमावस्या की शुरुवात बता रहे है लेकिन एस्ट्रोस्वामीजी के विद्वान ज्योतिषियों की माने तो मौनी अमावस्या स्नान, दान और व्रत के लिए 1 फरवरी का दिन ही शुभ है। हिन्दू परम्परा के अनुसार इस दिन गंगा नदी या गंगा जल से स्नान और मौन व्रत रखा जाता है। आइए जानते है कि मौनी अमावस्या की सही तिथि, गंगा स्नान (Ganga Snan), दान (Daan),  मौन व्रत (Maun Vrat) आदि का क्या महत्व है?

मौन एक हिंदी शब्द है और इसका अर्थ मौन है। तो, मौनी अमावस्या मौन, शांति और आध्यात्मिकता का प्रतीक है। मौनी अमावस्या का पर्व माघ मास में मनाया जाता है। इसलिए मौनी अमावस्या को माघी अमावस्या भी कहा जाता है। भक्त शांत होने के लिए भीतर की यात्रा शुरू करते हैं। हमारी प्राचीन परंपरा में, मौन मन को नियंत्रित करने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उचित ध्यान, एकाग्रता और अपने मन पर नियंत्रण के बिना आप कोई भी लक्ष्य प्राप्त नहीं कर सकते। साधना और तपस्या में मौन और मन पर नियंत्रण का बहुत महत्व है।

मौनी अमावस्या पर भक्त स्नान करते हैं। मौनी अमावस्या के विशेष दिन वे गंगा नदी में स्नान करते हैं जो पवित्र और शुभ माना जाता है। यह हर पाप का नाश करती है और भक्त बुरे कर्मों के फल से मुक्त हो जाता है। मौनी अमावस्या माघ महीने में मनाई जाती है इसलिए माघ मेले के अवसर पर भक्त स्नान करते हैं। उत्तर भारत में लोग इस अमावस्या को उत्साह और जोश के साथ मनाते हैं। भारत एक बड़ा देश है और यहां सांस्कृतिक विविधता है। मौनी अमावस्या को देश के दूसरे हिस्से में अलग तरह से नाम दिया जाता है।

मौनी अमावस्या 2022 पर कैसे होगा भाग्य उदय सरल ज्योतिषीय उपाय के लिये Astroswamig पर देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

प्रयागराज एक प्रसिद्ध तीर्थ है और मौनी अमावस्या पर पवित्र स्नान करने के लिए लाखों भक्त वहां एकत्रित होते हैं। इसे अमृत योग के नाम से जाना जाता है। यहां तक ​​कि विदेशी पर्यटक भी दुर्लभ गंगा में पवित्र स्नान के लिए आते हैं। चोलंगी अमावस्या मौनी अमावस्या का ही दूसरा नाम है। मौनी अमावस्या को मनाना न भूलें क्योंकि यह आपको अंदर से मजबूत बनाती है। मौनी अमावस्या के अनुष्ठानों का पालन करने से आपको सुख और धन की प्राप्ति होगी।

मौनी अमावस्या 2022  (Mauni Amavasya 2022) पर अनुष्ठान और पूजा-विधि

यदि आप गंगा नदी में पवित्र स्नान करते हैं तो यह धार्मिक दृष्टि से शुभ होता है। भक्त सुबह जल्दी उठते हैं और सूर्योदय से पहले गंगा नदी के तट पर पहुंचने का प्रयास करते हैं। यहां वे मौनी अमावस्या पर पवित्र स्नान करते हैं। पवित्र स्नान करते समय सभी मौन धारण करते हैं। यदि आप स्नान के दौरान स्वयं को शांत रखते हैं तो आपको अत्यधिक शांति और मन की शांति का अनुभव होगा। आवक यात्रा शुरू करने का समय। हर जीव के अंदर भगवान वास करते हैं। आप पवित्र डुबकी के बाद ध्यान द्वारा अपनी आत्मा और अपने आंतरिक अस्तित्व की खोज करते हैं। मौनी अमावस्या की पूजा-व्रत-विधि का पालन करने से आप अपने होने के साक्षी बनते हैं। माघी अमावस्या पर ध्यान और मौन धारण करने से आप हर स्थिति और अपने कर्म के प्रति चौकस हो जाते हैं। मौन हमारे अस्तित्व का हिस्सा है। साधु-संत पूरे दिन तक मौना व्रत करते हैं। वे एक शब्द भी नहीं बोलते हैं। ये अभ्यास उनके ऊर्जा स्तर को बढ़ाते हैं और उन्हें इशारों पर नियंत्रण में रखते हैं। यदि आपको पूरे दिन मौन धारण करने में कठिनाई होती है, तो इसे मौनी अमावस्या के व्रत-पूजा तक ही करें। भक्त व्रत-पूजा का पालन करते हैं और अपनी आत्मा को शुद्ध करते हैं ताकि आपसे उस दिन कोई गलत काम न करने की अपेक्षा की जाए।

kundli

कई विश्वासी भगवान ब्रह्मा की भी पूजा करते हैं जो इस ब्रह्मांड के निर्माता हैं। वे भगवान ब्रह्मा की विशेष पूजा और आराधना करते हैं। मौनी अमावस्या के अवसर पर गायत्री मंत्र के जाप से जीवन में सदाचार की वृद्धि होती है। मौनी अमावस्या के दिन लाखों आगंतुक 'संगम' में पवित्र डुबकी लगाते हैं और मौन व्रत करते हैं। यदि आप पाते हैं कि गंगा नदी आपके समीप नहीं है तो आप नहाने से पहले गंगा जल को पानी में मिला सकते हैं। मौनी अमावस्या पर भक्त कई परोपकारी कार्य और दान-पुण्य करते हैं। यदि आप मौनी अमावस्या को गाय, कौआ और अन्य जानवरों को खिलाते हैं तो आपके मृत पूर्वजों की आत्मा को तर्पण मिलता है। पितृदोष के पाप से मुक्ति मिलेगी।

मौनी अमावस्या का धार्मिक महत्व (Significance of Mauni Amavasya)

प्राचीन हिंदू संस्कृति के अनुसार, मौन संचार का दूसरा रूप है। यदि आप मौन धारण करते हैं, तो आप अधिक अंतर्मुखी हो जाते हैं। आपका ध्यान और ध्यान कई गुना बढ़ जाता है। यह आत्म-जागरूकता बढ़ाने में मदद करता है। आत्मज्ञान आत्मज्ञान की ओर ले जाता है। हमारे वैदिक शास्त्रों के अनुसार, जीवन की यात्रा मौन से शुरू होती है। मौन हमारी अंतरात्मा है। यदि आप मौन व्रत करते हैं तो हम अपने अस्तित्व और आत्मा के निकट हो जाते हैं। मौनी अमावस्या में वही मौन और हमारी आंतरिक इंजीनियरिंग शामिल है।

मौन एक अन्य प्रकार की प्रार्थना है। यह आपकी आध्यात्मिक पहुंच को बढ़ाता है। जब आप बाहरी अंतरिक्ष की यात्रा करेंगे, तो आपको एक अपार सन्नाटा मिलेगा। यह हमारे ब्रह्मांड और अस्तित्व का आधार है। ध्यान करने और मौन धारण करने से हम स्वयं को प्राप्त करते हैं। हमारी ऊर्जा आती है। हमारे प्राचीन महर्षि और मुनि अपनी आध्यात्मिक उपलब्धि और मोक्ष पाने के लिए वर्षों तक मौन रहे। इसलिए, हमारी वर्तमान हिंदू पीढ़ी हमारी प्राचीन परंपरा और संस्कृति का पालन करती है। मौनी अमावस्या के दिन गंगा नदी में पवित्र डुबकी लगाना बहुत शुभ माना जाता है। हिंदू धर्म के कुछ उत्साही और उत्साही विश्वासी पूरे माघ महीने तक पवित्र स्नान करते हैं। मौनी अमावस्या आपके मन और आत्मा के बीच समन्वय बनाने का सबसे अच्छा तरीका है।

मौनी अमावस्या 2022 की तिथि और शुभ मुहूर्त (Mauni Amavasya 2022 Date and Time)

मौनी अमावस्या आमतौर पर हर साल जनवरी या फरवरी में मनाई जाती है। मौनी अमावस्या का शुभ मुहूर्त 31 जनवरी 2022 को दोपहर 02:18 बजे से शुरू होकर 1 फरवरी 2022 को 11:15 बजे समाप्त होगा. सूर्योदय का समय 1 फरवरी को सुबह 7:10 बजे और सूर्यास्त 1 फरवरी को शाम 6:09 बजे है।


Recently Added Articles