>

Hariyali Teez 2024 - कब हैं 2024 में हरियाली तीज तारीख व मुहूर्त?

हर वर्ष हरियाली तीज श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाई जाती है। इसे श्रावणी तीज के नाम से भी जाना जाता है। यह पर्व सुहागिन महिलाओं के लिए बेहद महत्वपूर्ण और विशेष होता है। हरियाली तीज का व्रत पति की लंबी आयु के लिए रखा जाता है। मान्यता यह है कि इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की आराधना करने से सुहागिन महिलाओं को अपने पति की लंबी आयु का आशीर्वाद प्राप्त होता है। माना जाता है कि इस दिन माता पार्वती और भगवान शिव का पुनर्मिलन हुआ था। हरियाली तीज का नाम सावन के महीने मेंं चारों ओर फैली हुई हरियाली की वजह से पड़ा है। इस दिन सुहागिन महिलाएं सोलह सिंगार करती हैं। हरियाली तीज पर महिलाओं को मायके से आए वस्त्र ही धारण करना चाहिए। इसके साथ-साथ मायके से आई शृंगार की वस्तु का ही प्रयोग करना चाहिए। यह इस पर्व की परंपरा है।

kundli

हरियाली तीज 2024 का महत्व

हरियाली तीज के पावन पर्व को भगवान शिव और माता पार्वती के पुनर्मिलन के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार माता पार्वती ने शिवजी को अपने पति के रूप में पाने के लिए 108 जन्मों तक कठोर तप किया था। तब जाकर भगवान शिव ने माता पार्वती को पत्नी के रूप में स्वीकार किया था। कहा जाता है कि वह दिन श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया थी। तभी से ऐसी मान्यता है कि, इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती सुहागिन स्त्रियों को आशीर्वाद देते हैं। इसलिए हरियाली तीज के दिन भगवान शंकर और माता पार्वती की पूजा करने से सुहागिन स्त्रियों को सौभाग्यपूर्ण जीवन और उनके पतियों को लंबी आयु प्राप्त होती है।

हरियाली तीज 2024 व्रत विधि (Hariyali Teez 2024 Vrat Vidhi)

•  हरियाली तीज के दिन प्रातः काल उठकर स्नान कर ले।

• इसके पश्चात साफ-सुथरे वस्त्र धारण करें।

• इसके बाद अपने मन में व्रत का संकल्प लें।

• इसके बाद एक चौकी पर मिट्टी में गंगाजल मिलाकर भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान गणेश की प्रतिमा बनाएं।

• इसके बाद सुहाग की सामग्रियों को थाली में एकत्रित करके माता पार्वती को अर्पण करें।

•  इसके पश्चात भगवान शंकर को वस्त्र चढ़ाएं।

•  यह सब करने के बाद देवताओं का आह्वान करें और षोडशोपचार पूजन करें।

• अंत में तीज की कथा सुने या पढ़ें।

हरियाली तीज तिथि 2024 (Hariyali Teez 2024 Tithi)

• वर्ष 2024 में हरियाली तीज अगस्त 07, 2024, बुधवार के दिन मनाई जाएगी।

• साथ ही, अगस्त 06, 2024 को 07:53 pm से तृतीया आरम्भ होगी।

• एवं अगस्त 07, 2024 को 22:06 pm पर तृतीया समाप्त होगी।

astrology-app


Recently Added Articles
लोकसभा चुनाव 2024 ज्योतिषी भविष्यवाणी
लोकसभा चुनाव 2024 ज्योतिषी भविष्यवाणी

भारत में 2024 में लोकतंत्र का महा पर्व, 18वीं लोकसभा का चुनाव होने जा रहा है। आप सभी पाठकों को यह जानकर खुशी होगी कि हमने 2019 में पिछली 17वीं लोकसभा ...

स्कंदमाता
स्कंदमाता

नवरात्रि के पाँचवें दिन माँ दुर्गा की पूजा का प्रारंभ होता है। इस दिन माँ स्कंदमाता की पूजा की जाती है। वह बिना संतान की मांग करने वाली नारियों के लिए...

राहुकाल
राहुकाल

ज्योतिष शास्त्र में राहुकाल को एक महत्वपूर्ण समय माना जाता है। इस समय में किसी भी शुभ कार्य का आरंभ नहीं किया जाता है, ...

माँ कालरात्रि - नवरात्रि का सातवां दिन
माँ कालरात्रि - नवरात्रि का सातवां दिन

नवरात्रि के सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा की जाती है। मां कालरात्रि देवी दुर्गा का सातवां स्वरूप हैं। मां कालरात्रि की पूजा करने से भक्तों को शक्ति...