विनायक चतुर्थी- 22 मई दिन बुधवार

शास्त्रों में भगवान गणेश को प्रथम देव बताया गया है| इस तरीके की कहानियां और किस्से हमारे ग्रंथों में मौजूद हैं जिसमें यह साफ साफ लिखा है कि पूजा कार्य में सबसे पहले भगवान श्री गणेश के पूजन करने से जातक को विशेष लाभ मिलता है और वही पूजा सफल होती है जिसमें भगवान श्री गणेश की सर्वप्रथम पूजा की जाती है| हिंदू कैलेंडर में प्रत्येक महीने में दो चतुर्थी होती हैं हिंदू धर्म ग्रंथों की मानें तो चतुर्थी तिथि भगवान गणेश की तिथि बताई गई है| अमावस्या के बाद आने वाली शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहते हैं और पूर्णिमा के बाद आने वाली कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहते हैं| विनायक चतुर्थी का व्रत हर महीने में होता है यह व्रत काफी महत्वपूर्ण व्रत बताया गया है| चतुर्थी के व्रतों को नियमानुसार करने से जातक के जीवन से बड़े से बड़े दुख और क्लेश खत्म होने लगते है|

हर महीने विनायक चतुर्थी के व्रत करने से बड़े से बड़े कष्ट जातक के दूर हो जाते हैं| साथ ही साथ शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी चीजों पर इस व्रत का बड़ा सकारात्मक असर पड़ता है| यदि पति और पत्नी के बीच क्लेश होती है या फिर घर में किसी ना किसी व्यक्ति का स्वास्थ्य हमेशा खराब रहता है तब ऐसे में विनायक चतुर्थी का व्रत करने से भगवान श्री गणेश की विशेष कृपा होती है और उस घर से कष्ट दूर होने लगते हैं| विनायक चतुर्थी के व्रत को नियम पूर्वक करने से और हर माह करने से विशेष लाभ प्राप्त होता है|

 मई महीने में कब है विनायक चतुर्थी और विनायक चतुर्थी का शुभ मुहूर्त

साल 2019 के मई महीने में विनायक चतुर्थी 22 मई को पड़ रही है| 22 मई दिन बुधवार को विनायक चतुर्थी है| 22 मई को विनायक चतुर्थी यानि गणेश पूजा का जो समय है वह 21 मई रात 1:41 मिनट से 22 मई 4:41 मिनट तक रहने वाला है|

कई जगह हिंदू शास्त्रों में इस बात का भी उल्लेख किया गया है कि विनायक चतुर्थी का व्रत जितने सामान्य तरीके से किया जाए उतना बेहतर है| इस व्रत के बारे में अगर ज्यादा किसी को नहीं बताया जाए तो यह व्रत अधिक फल देता है| साधु संत की मानें तो विनायक चतुर्थी व्रत का दिखावा जितना कम किया जाए उतना अधिक फल देता है| विनायक चतुर्थी का व्रत जातक अपने लिए करता है और वह यदि इस व्रत का व्याख्यान चारों तरफ करता है या फिर अपनी मान बड़ाई के लिए सभी को यह बताता रहता है कि उसने विनायक चतुर्थी का व्रत किया है तो इस व्रत के लाभ नहीं प्राप्त हो पाते हैं|

कैसे करना है विनायक चतुर्थी का व्रत

विनायक चतुर्थी का व्रत करने के लिए किसी भी तरीके की कोई बड़ी तैयारी नहीं करनी होती है| सुबह वह अपने सभी कामों से निकलकर जातक भगवान श्री गणेश की प्रतिमा के सामने ध्यान करें, धूपबत्ती करें और घी का दिया जलाएं| भगवान श्री गणेश की आरती करने और गणेश मंत्र के जाप से भगवान श्री गणेश विशेष प्रसन्न हो जाते हैं|

भगवान श्री गणेश को लड्डू का भोग लगाया जाए और दिन में सामान्य व्रत अनुसार भोजन करने से भगवान श्री गणेश को विशेष प्रसन्नता प्राप्त होती है| रात्रि में एक बार फिर से भगवान श्री गणेश का ध्यान किया जाए और भगवान श्री गणेश के मंत्र उच्चारण करने से जीवन के दुखों का अंत होने लग जाता है|

जानिए क्या कहते हैं आपके नक्षत्र हमारे जाने मने ज्योतिष्यो से। अभी बात करने के लिए यह क्लिक करे।

Recently Added Articles
2019 में इस दिन है रमा एकादशी
2019 में इस दिन है रमा एकादशी

रमा एकादशी एक महत्वपूर्ण एकादशी व्रत है जो हिंदू संस्कृति में मनाया जाता है। यह 'कार्तिक'के हिंदू महीने के दौरान कृष्ण पक्ष ...

दीपावली 2019 तिथि व शुभ मुहूर्त
दीपावली 2019 तिथि व शुभ मुहूर्त

Diwali 2019: दिवाली या दीपावली भारतवासियों का सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार है। दिवाली का त्यौहार हिंदुओं के लिए बड़ा महत्व रखता है ...

दशहरा 2019 –  विजयदशमी 2019 पर्व तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि
दशहरा 2019 – विजयदशमी 2019 पर्व तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि

शुभ मुहूर्त दशहरा पर्व भारत में विजयदशमी के नाम से भी धूमधाम से मनाया जाता हैं।...

रानू मारिया मंडल - क्या कहती है इनकी कुंडली?
रानू मारिया मंडल - क्या कहती है इनकी कुंडली?

रानू मारिया मंडल का जन्म वेस्ट बंगाल के नाडिया जिले के कृष्णा नगर में हुआ था। रानू मारिया मंडल ने बॉलीवुड के महान कलाकार...