जानिये 2019 में कब है पोंगल का त्यौहार और क्या है इस त्यौहार का महत्व

नए साल पर कई त्यौहार भी आने वाले है और आज हम बात करेंगे पोंगल की। बता दें कि पोंगल का त्यौहार दक्षिण भारत के राज्यों में मनाया जाने वाला एक बेहद लोकप्रिय हिन्दू त्यौहार है। जबकि यह उत्तर भारत में मकर संक्रांति के रूप में भी मनाया जाता है। इस प्रकार यह दक्षिण भारत के राज्यों में पोंगल का यह पावन त्यौहार काफी धूमधाम से मनाया जाता है।

कुछ स्रोतों के अनुसार कहा जाता है कि तमिलनाडु में नए वर्ष की शुरुआत भी पोंगल पर्व से ही मानते है। इस त्यौहार का इतिहास ज्यादा पुराना तो नहीं लेकिन लगभग एकाद हजार साल पुराना है। बता दें कि पोंगल का यह पावन त्यौहार दक्षिण भारतीय राज्यों के अलावा  निकटवर्ती देश श्रीलंका, कनाडा और अमेरिका सही कई अन्य देशों में भी धूमधाम से मनाया जाता है। लेकिन यह मुख्य रूप से तमिल लोगों का ही त्यौहार है।

2019 में कब है पोंगल का अब बात करते है अगले साल की अर्थात 2019 की कि यह पोंगल का त्यौहार कब है और उस दिन तिथि के अलावा दिन कौनसा है। तो आपको जानकारी के लिए बता दें कि अगले साल यह पोंगल का त्यौहार 15 जनवरी को मंगलवार के दिन मनाया जाने वाला है। जबकि एक दिन पहले मकर संक्रांति का पर्व भी भारतवर्ष में मनाया जाता है। लेकिन मुख्य रूप से तो दक्षिण भारत में ही इसका महत्व है।

क्या है पोंगल पर्व का भारतवर्ष में महत्व

यहाँ तक तो आपको पता चल गया कि यह भारतीय दक्षिण राज्यों में मनाया जाने वाला एक लोकप्रिय त्यौहार है लेकिन अब जानते है इस त्यौहार के महत्व के बारे में। तो बता दें कि पोंगल पर्व का मूल महत्व कृषि है। जबकि सौर पंचांग के अनुसार यह त्यौहार तमिल महीनों की पहली तारीख अर्थात 14 या 15 जनवरी को आता है। जबकि तमिलनाडु राज्य में जनवरी महीने में गन्ने और धान की फसल काफी अच्छे से पक जाती है। इसी कारण प्रकृति की असीम कृपा से किसानों के खेत हरे भरे पुनः दिखने लगते है और अच्छी फसल होती है जिसके कारण सूर्य भगवान, इंद्र और गाय एवं बैल की लोग पूजा करते है। वहीं पोंगल का त्यौहार दक्षिण भारत में 3 से 4 तक मनाया जाता है। लोगों का मानना है कि इस त्यौहार पर कई लोग बुरी आदतों को छोड़ सही राह पर चलते है। 

पोंगल के त्यौहार पर होते है ये आयोजन

पोंगल का पहला दिन

जानकारी के लिए आपको बता दें कि पोंगल के पहले दिन देवराज इंद्र की बड़ी श्रद्धा से पूजा अर्चना की जाती है। इसमें औरतों होली जलाकर चारों तरफ नृत्य दिखाती है।

दूसरा दिन 

जबकि दूसरा दिन सूर्य पोंगल पर्व के रूप में मनाया जाता है। इस दूसरे वहाँ के लोग विशेष किश्म की खीर बनाते है। 

तीसरे दिन जानवरों की पूजा

पोंगल के इस खास पर्व पर लोग तीसरे कृषि पशुओं जिसमें गायों, बैलों की पूजा करते है

चौथा और अंतिम दिन

पोंगल पर्व का अंतिम दिन कन्या पोंगल के रूप में मनाया जाता है। हालांकि इस दिन को तिरुवल्लूर के नाम से भी काफी हद तक जाना जाता है।

Recently Added Articles
गुरु पूर्णिमा 2020
गुरु पूर्णिमा 2020

गुरु पूर्णिमा को आध्यात्मिक और अकादमिक गुरुओं या शिक्षकों के प्रति श्रद्धा के साथ गुरु को धन्यवाद और नमन करने के लिए मनाया जाता है।...

क्रिसमस डे 2019
क्रिसमस डे 2019

क्रिसमस का त्यौहार भारत के साथ-साथ विश्व के अधिकतर देशों में धूमधाम से मनाया जाने वाला है।...

Rudraksha - जानिए रुद्राक्ष के आश्चर्यजनक फायदे
Rudraksha - जानिए रुद्राक्ष के आश्चर्यजनक फायदे

रुद्राक्ष के ऐसे फायदे जो किसी को भी आश्चर्यचकित कर सकते है। रुद्राक्ष उन गुणों से बना हुआ है जो जीवन में बहुत सी खुशियां ला सकता है।...

वास्तु टिप्स जो हमेशा के लिए ख़त्म कर देगी सास-बहु के झगड़े
वास्तु टिप्स जो हमेशा के लिए ख़त्म कर देगी सास-बहु के झगड़े

सास-बहू का झगड़ा घर घर की कहानी है और हर घर में सास-बहू के झगड़े होते हुए नजर आएंगे। कई घरों में सास-बहू के झगड़े काफी दुखदाई और  दर्दनाक हो जाते हैं ...