>

माँ कुष्मांडा

नवरात्रि के चौथे दिन, माँ दुर्गा को माँ कुष्मांडा देवी के रूप में पूजा जाता है

माँ कुष्मांडा देवी नवरात्रि के चौथे दिन के रूप में माँ दुर्गा की पूजा के रूप में पूजा जाता है। हिन्दू धर्म के अनुसार, माँ एक शेर पर सवार हैं और सूर्यलोक में वास करती हैं। माँ कुष्मांडा के आठ हाथ होते हैं, प्रत्येक हाथ में महत्वपूर्ण वस्तु होती है।

देवी के प्रत्येक हाथ में आठ वस्तुएँ होती हैं - कमल का फूल, धनुष, कमंडल, सुदर्शन चक्र, माला, कमंडल माला, गदा और तीर। माँ खूबसूरत और आकर्षक दिखती हैं। माँ के हाथों में हथियार और जंजीर होती है, और माँ के हाथों में अमृत का घड़ा होता है।

नवरात्रि के चौथे दिन पर, कलश को माँ को खुश करने के लिए सामान्य रूप से पूजा किया जाता है। हिन्दू धर्म के अनुसार, इस पूजा में बैठने के लिए एक हरा सीट का उपयोग करना चाहिए, और माँ को उनकी आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए पानी, फूल और फल चढ़ाना चाहिए।

यहाँ हम माँ कुष्मांडा देवी की पूजा के लाभों का उल्लेख करते हैं।

अगर आपके परिवार में किसी को लंबे समय से बीमारी का सामना कर रहा है, तो इस दिन आपको जरूर माँ कुष्मांडा की पूजा करनी चाहिए। उन्हें पानी चढ़ाएं, यह बीमार व्यक्ति जल्द ही ठीक हो जाएगा, और माँ उन्हें लंबी उम्र की भी आशीर्वाद देगी।

इस दिन, माँ कुष्मांडा देवी को सुगंध, दीपक, और भोग के आह्वान से खुश किया जाता है और आपको अपने दिल की इच्छित परिणाम प्राप्त होते हैं। कहा जाता है कि जब जगत अस्तित्व में नहीं था, तब कुष्मांडा देवी ने जगत या ब्रह्मांड को बनाया था। इसलिए, उन्हें श्रुष्टि स्वरूप या शक्ति भी कहा जाता है।

आठ कोने वाले हाथों वाली इस देवी की पूजा करने वाले भक्त अपनी सभी बीमारियों से मुक्त हो जाते हैं। उनकी आयु, सफलता और शक्ति बढ़ती है। यदि आप जीवन में प्रगति और सफलता चाहते हैं, तो आपको सही रीति और विधि का उपयोग करके माँ कुष्मांडा की पूजा करनी चाहिए।

माँ कुष्मांडा अपने भक्तों की सभी पीड़ाओं को दूर कर देती हैं और सभी लोकिक सुख प्रदान करती हैं। माँ की पूजा हर मनुष्य को दुःख से मुक्ति देती है।

माँ कुष्मांडा की आरती पूजा का मंत्र:

माँ कुष्मांडा की पूजा इस मंत्र के मंत्रण के साथ की जाती है - "कुष्मांडा: अन् ह्री देवी नमः।"

माँ कुष्मांडा की आरती:

जय माँ कुष्मांडा, जग सुखदानी। मुझ पर दया करो महारानी। पिंगला, जलमुखी, निराली, शाकाम्बरी माँ, भोली भाली। लाखों निरम निराले तेरे, भक्तों की मतवाले तेरे। भीम पर्वत पर है डेरा, स्वीकारो प्रणाम ये मेरा। सब की सुनती हो, जगदम्बे, सुख पहुंचाती हो, माँ अंबे। तेरे दर्शन का मैं प्यासा, पूरण कर दो, मेरी आशा। माँ के मन में ममता भरी, क्यों न सुनेगी अर्ज हमारी। तेरे दर पर किया है डेरा, दूर करो माँ संकट मेरा। मेरे कारज पूरे कर दो, मेरे तुम भंडारे भर दो। तेरा दास तुझे ही ध्याए, चमन तेरे दर शीश झुकाए।

हमने माँ कुष्मांडा की पूजा की विधि, आरती और मंत्र के बारे में बताया है। इसके बाद, आपके जीवन में सभी कठिनाइयाँ दूर हो जाएंगी।


Recently Added Articles
प्यार, पैसा, व्यापार, स्वास्थ्य:- के 24 महाउपाय
प्यार, पैसा, व्यापार, स्वास्थ्य:- के 24 महाउपाय

2024 एक नया साल है और इसके साथ नई उम्मीदें और चुनौतियां भी आती हैं...

महानायक अमिताभ बच्चन की ज्योतिषीय कुंडली का विश्लेषण
महानायक अमिताभ बच्चन की ज्योतिषीय कुंडली का विश्लेषण

हिंदी सिनेमा जगत में सदी के महानायक के नाम से श्री अमिताभ बच्चन को जाना जाता है। उन्होंने भारतीय सिनेमा में अपनी एक अमिट छाप छोड़ी है। ...

इन राशियों को लगता है अँधेरे से डर
इन राशियों को लगता है अँधेरे से डर

अँधेरे का डर एक आम भय है जिसे बहुत से लोग अनुभव करते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, हमारी राशि हमारे स्वभाव और भावनाओं पर गहरा प्रभाव डालती है।...

सिंदूर: इसका इतिहास, महत्व और सांस्कृतिक महत्त्व
सिंदूर: इसका इतिहास, महत्व और सांस्कृतिक महत्त्व

सिंदूर भारतीय संस्कृति और परंपरा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो विवाहित स्त्रियों के सौभाग्य और शुभता का प्रतीक माना जाता है...