मकर संक्रांति

जानिये 2019 में कब है मकर संक्रांति और कैसे करनी चाहिए इस दिन पूजा

मकर संक्रांति, जिसे हम मकर संक्रान्ति भी कह सकते है। जबकि इस त्यौहार को माघी के रूप में भी जाना जाता है, जो हिंदू कैलेंडर में देवता सूर्य के संदर्भ में एक त्योहार का दिन है। यह प्रत्येक वर्ष जनवरी में मनाया जाता है। मकर संक्रांति का यह पावन पर्व भारत ही बल्कि नेपाल में भी धूम धाम से मनाया जाता है।

 

मकर संक्रांति उन कुछ प्राचीन भारतीय त्योहारों में से एक है जो सौर चक्रों के अनुसार देखे गए हैं, जबकि अधिकांश त्योहार हिंदू कैलेंडर के चंद्र चक्र द्वारा निर्धारित किए गए हैं। हर साल (14 जनवरी) को उसी ग्रेगोरियन तिथि पर यह त्यौहार पूरे देश भर में मनाया जाता है लेकिन कभी लीप वर्ष में यह तारीख ऊपर नीचे हो जाती है। मकर संक्रांति से जुड़े त्यौहारों को उत्तर भारतीय हिंदुओं और सिखों द्वारा माघी या लोहड़ी जैसे विभिन्न नामों से जाना जाता है। आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तेलंगाना में मकर संक्रांति को (पेद्दा पांडगा), मध्य भारत में सुकरात, माघ बिहुबी असमिया, और तमिलनाडु में यह पोंगल के रूप में मनाया जाता है।

 

2019 में कब है मकर संक्रांति

 

जैसा कि आप देख रहे ही है कि 2018 का आखिरी महीना चल रहा है और इसमें कुछ ही महीने बचे हुए है। तो साफ़ है कि अगले साल जनवरी में यह त्यौहार मनाया जाने वाला है। लेकिन वैदिक हिन्दू ज्योतिष के अनुसार मकर संक्रांति का पर्व 2019 में 14 जनवरी के बजाय 15 जनवरी को ही मान्य होगा। दरअसल बात यह है कि सूर्य भगवान 14 जनवरी की रात में 7 बजकर 43 मिनट पर मकर राशि में प्रवेश करेंगे। इस कारण यह 15 जनवरी को ही मान्य बताया गया है।

 

कैसे की जानी चाहिए पूजा

 

अब बात करते है पूजा कैसे की जानी चाहिए उसके बारे में। तो आपको बता दें कि मकर संक्रांति के दिन सुबह जल्दी उठकर तिल मिश्रित जल से स्नान किया जाना चाहिए। इसके बाद अच्छे और साफ़ सुथरे कपड़े पहनकर जहाँ पूजा की जानी है उस स्थल को अच्छे से साफ़ कर लें। फिर जमीन पर चंदन से कर्णिका सहित अष्टदल कमल बनाकर सूर्य भगवान आवाहन करके उन्हें स्थापित करें। इसके बाद सूर्य भगवान के पवित्र मंत्र का उच्चारण करना बहुत शुभ माना जाता है। इस प्रकार इस दिन नदी में स्नान करना भी बहुत पवित्र माना गया है।

 

क्या है मकर संक्रांति का महत्व

 

अगर मकर संक्रांति के पर्व के महत्व की बात करें तो ऐसा सुनने को मिलता है कि इस शुभ दिन सूर्य भगवान अपने पुत्र शनिदेव से मिलने हेतु खुद उनके निवास स्थान पर जाते हैं। साथ ही यह भी कहा गया है कि शनिदेव ही मकर राशि के देवता हैं। इसी कारण इस त्यौहार को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है। 

 

वहीं कुछ सूत्रों के अनुसार महाभारत में पराक्रमी भीष्म पितामह ने अपने आपको त्यागने के लिये मकर संक्रांति के दिन को ही चुना था।

 

Recently Added Articles

गोमतेश्वर मंदिर
गोमतेश्वर मंदिर

गोमतेश्वर मूर्ति के बारें आपको जानकारी देते है जिसका मंदिर और मूर्ति सबसे अलग और लोगों को आश्चर्य में डालने वाली है।...

BAPS श्री स्वामीनारायण मंदिर लंदन
BAPS श्री स्वामीनारायण मंदिर लंदन

BAPS श्री स्वामीनारायण मंदिर जो कि मुख्य रूप से नेसडेन टेंपलिस के रूप में जाना जाता है वो लंदन के नेसडेन में स्थित है।...

ब्रहस्पतिवार व्रत विधि
ब्रहस्पतिवार व्रत विधि

16 गुरुवार व्रत रखना बहुत लाभदायक माना जाता है। इससे जो फल चाहिए वो मिल जाता है।...

लिंगराज मंदिर भुवनेश्वर - यहाँ गैर हिंदुओं का प्रवेश निषेध
लिंगराज मंदिर भुवनेश्वर - यहाँ गैर हिंदुओं का प्रवेश निषेध

जानिए क्यों हैं लिंगराज मंदिर भुवनेश्वर में गैर हिंदुओं का प्रवेश निषेध...