लिंगराज मंदिर भुवनेश्वर - यहाँ गैर हिंदुओं का प्रवेश निषेध

लिंगराज मंदिर भुवनेश्वर, यहाँ गैर हिंदुओं का प्रवेश निषेध

भारत में मंदिर, मस्जिद और गुरूद्वारे की कोई कमी नहीं है। क्योंकि यहां संस्कृति और सभ्यता सबसे ऊपर रही है और हमेशा रहेगी। इसके पीछे कारण यह है की हम भारतीयों के पीछे बुजुर्गों का हाथ है। जो हमें संस्कार देकर अपनी सभ्यता को बनाए रखने की सीख देते हैं। तकनीकी के नए जमाने में हमें अपने परमेश्वर को कभी नहीं भूलना चाहिए इसका ही उदाहरण भारत में अच्छे से देखने को मिलता है। यहीं कारण है कि लोगों का मंदिरों पर हमेशा से ही विश्वास बना रहा है। आज हम आपको ऐसे ही सबसे विशाल मंदिर के बारे में बता रहे हैं जो लगभग 150 मीटर वर्ग में फैला हुआ है और मंदिर का शिखर 180 फुट ऊंचा है। दरअसल, यह मंदिर लिंगराज मंदिर के नाम से प्रसिद्ध भुवनेश्वर शहर में है। जो उड़ीसा राज्य की राजधानी है। जहां पर भक्तों का तांता लगा रहता है। यह मंदिर भक्तों के लिए सबसे विश्वास और प्रतिष्ठा का स्रोत है।

लिंगराज मंदिर - गैर हिंदुओं का प्रवेश निषेध

दरअसल, इस मंदिर को हिंदु मंदिर खास दर्जा दिया गया है, इसलिए केवल हिंदू धर्म के लोग ही मंदिर में प्रवेश कर सकते हैं। गैर हिंदू को मंदिर के अंदर प्रवेश करने की इज़ाज़त नहीं है। इस मंदिर की रचना और सुंदरता को देखने के लिए गैर हिंदू यहां पर जाते हैं इसलिए उनके लिए मंदिर के पास में ही एक चबूतरा बनवाया गया है। जिससे दूसरे धर्म के लोग मंदिर को देख सकें।

लिंगराज मंदिर का इतिहास

बताया जाता है कि यह मंदिर 6ठीं शताब्दी के लेखों में सम्मलित भी है। वैसे तो यह मंदिर बहुत पुराना है लेकिन इसका वर्तमान निर्माण 11 वीं शताब्दी में माना जाता है। इस दौरान सोमवंशी राजा जजाति ने मंदिर का निर्माण कराया था।

मंदिर के पास में ही बिंदुसागर सरोवर है। जिसमें भारत के प्रत्येक झरने और तालाबों का जल इकट्ठा होता है। जो भी भक्त यहां पर आता है और इस तालाब में स्नान करता है। वो निश्चित रूप से पापों से मुक्ति पा लेता है। सरोवर के पीछे एक कहानी भी छिपी हुई है। कहा जाता है कि लिटी तथा वसा नाम के दो भयंकर राक्षस का वध देवी पार्वती ने इसी जगह पर किया था। युद्ध के बाद माता को भयानक प्यास लगी और जिसें बुझाने के लिए भगवान शिव ने सभी पवित्र नदियों को योगदान के लिए बुलाया और सरोवर बनाया गया। इस प्रकार माता सरोवर के जल से माता पार्वती ने अपनी प्यास बुझाई।

आपको बता दें कि इस मंदिर में भगवान भुवनेश्वर की चमत्कारी मूर्ति का पूजन किया जाता है। इस चमत्कारी मूर्ति को देखने के लिए दूर-दूर से पर्यटक आते हैं और अपनी मनोकामना को पूर्ण कराते हैं। श्री भुवनेश्वर भगवान शिव का अवतार है। इस मंदिर में भुवनेश्वर की चमत्कारी मूर्ति को देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं। 

यहां पर शिवरात्रि का उत्सव बड़े ही जोरों-शोरों के साथ मनाया जाता है। आपको बता दें कि मंदिर के प्रांगण में तीन छोटे-छोटे मंदिर और बने हुए हैं जिनमें भगवान् गणेश, कार्तिकय् और माता गोरी की मूर्तियां हैं। यानी की भगवान शिव यहां पर पूरे परिवार के साथ रहते हैं। इसलिए कहा जाता है कि जो भी अपनी मन की कामना को पूरा कराना चाहता है वह भगवान श्री भुवनेश्वर के मंदिर में जरूर जाएं।

 


Recently Added Articles
Gupt Navaratri 2022 - गुप्त नवरात्रि 2022 तिथि, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त
Gupt Navaratri 2022 - गुप्त नवरात्रि 2022 तिथि, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त

फरवरी में मनाई जाने वाली नवरात्रि के पीछे बहुत सारे रहस्य छुपे हुए हैं इसलिए इस नवरात्रि को गुप्त नवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है।...

Vaishakha Purnima 2022 - वैशाख पूर्णिमा 2022 पूजा तिथि  व समय
Vaishakha Purnima 2022 - वैशाख पूर्णिमा 2022 पूजा तिथि व समय

हिंदू धर्म में पूर्णिमा का विशेष धार्मिक महत्व होता है। प्रत्येक पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और चंद्र देव की पूजा की जाती है। ...

Gudi Padwa 2022 - गुड़ी पड़वा 2022 तिथि, समय और मुहूर्त
Gudi Padwa 2022 - गुड़ी पड़वा 2022 तिथि, समय और मुहूर्त

गुड़ी पड़वा या गुड़ी पड़वा या उगादि उत्सव महाराष्ट्र और गोवा के आस-पास के क्षेत्रों में पहले चैत्र महीने के पहले दिन मनाया जाता है जो चंद्र सौर हिंदू ...

2022 Aja Ekadashi: कब है अजा एकादशी 2022 व्रत और शुभ मुहूर्त
2022 Aja Ekadashi: कब है अजा एकादशी 2022 व्रत और शुभ मुहूर्त

अजा एकादशी एक पवित्र एकादशी है जो कृष्ण पक्ष के दौरान हिंदू महीने 'भाद्रपद'में मनाई जाती है। ...