>

लिंगराज मंदिर भुवनेश्वर - यहाँ गैर हिंदुओं का प्रवेश निषेध

लिंगराज मंदिर भुवनेश्वर, यहाँ गैर हिंदुओं का प्रवेश निषेध

भारत में मंदिर, मस्जिद और गुरूद्वारे की कोई कमी नहीं है। क्योंकि यहां संस्कृति और सभ्यता सबसे ऊपर रही है और हमेशा रहेगी। इसके पीछे कारण यह है की हम भारतीयों के पीछे बुजुर्गों का हाथ है। जो हमें संस्कार देकर अपनी सभ्यता को बनाए रखने की सीख देते हैं। तकनीकी के नए जमाने में हमें अपने परमेश्वर को कभी नहीं भूलना चाहिए इसका ही उदाहरण भारत में अच्छे से देखने को मिलता है। यहीं कारण है कि लोगों का मंदिरों पर हमेशा से ही विश्वास बना रहा है। आज हम आपको ऐसे ही सबसे विशाल मंदिर के बारे में बता रहे हैं जो लगभग 150 मीटर वर्ग में फैला हुआ है और मंदिर का शिखर 180 फुट ऊंचा है। दरअसल, यह मंदिर लिंगराज मंदिर के नाम से प्रसिद्ध भुवनेश्वर शहर में है। जो उड़ीसा राज्य की राजधानी है। जहां पर भक्तों का तांता लगा रहता है। यह मंदिर भक्तों के लिए सबसे विश्वास और प्रतिष्ठा का स्रोत है।

लिंगराज मंदिर - गैर हिंदुओं का प्रवेश निषेध

दरअसल, इस मंदिर को हिंदु मंदिर खास दर्जा दिया गया है, इसलिए केवल हिंदू धर्म के लोग ही मंदिर में प्रवेश कर सकते हैं। गैर हिंदू को मंदिर के अंदर प्रवेश करने की इज़ाज़त नहीं है। इस मंदिर की रचना और सुंदरता को देखने के लिए गैर हिंदू यहां पर जाते हैं इसलिए उनके लिए मंदिर के पास में ही एक चबूतरा बनवाया गया है। जिससे दूसरे धर्म के लोग मंदिर को देख सकें।

लिंगराज मंदिर का इतिहास

बताया जाता है कि यह मंदिर 6ठीं शताब्दी के लेखों में सम्मलित भी है। वैसे तो यह मंदिर बहुत पुराना है लेकिन इसका वर्तमान निर्माण 11 वीं शताब्दी में माना जाता है। इस दौरान सोमवंशी राजा जजाति ने मंदिर का निर्माण कराया था।

मंदिर के पास में ही बिंदुसागर सरोवर है। जिसमें भारत के प्रत्येक झरने और तालाबों का जल इकट्ठा होता है। जो भी भक्त यहां पर आता है और इस तालाब में स्नान करता है। वो निश्चित रूप से पापों से मुक्ति पा लेता है। सरोवर के पीछे एक कहानी भी छिपी हुई है। कहा जाता है कि लिटी तथा वसा नाम के दो भयंकर राक्षस का वध देवी पार्वती ने इसी जगह पर किया था। युद्ध के बाद माता को भयानक प्यास लगी और जिसें बुझाने के लिए भगवान शिव ने सभी पवित्र नदियों को योगदान के लिए बुलाया और सरोवर बनाया गया। इस प्रकार माता सरोवर के जल से माता पार्वती ने अपनी प्यास बुझाई।

आपको बता दें कि इस मंदिर में भगवान भुवनेश्वर की चमत्कारी मूर्ति का पूजन किया जाता है। इस चमत्कारी मूर्ति को देखने के लिए दूर-दूर से पर्यटक आते हैं और अपनी मनोकामना को पूर्ण कराते हैं। श्री भुवनेश्वर भगवान शिव का अवतार है। इस मंदिर में भुवनेश्वर की चमत्कारी मूर्ति को देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं। 

यहां पर शिवरात्रि का उत्सव बड़े ही जोरों-शोरों के साथ मनाया जाता है। आपको बता दें कि मंदिर के प्रांगण में तीन छोटे-छोटे मंदिर और बने हुए हैं जिनमें भगवान् गणेश, कार्तिकय् और माता गोरी की मूर्तियां हैं। यानी की भगवान शिव यहां पर पूरे परिवार के साथ रहते हैं। इसलिए कहा जाता है कि जो भी अपनी मन की कामना को पूरा कराना चाहता है वह भगवान श्री भुवनेश्वर के मंदिर में जरूर जाएं।

 


Recently Added Articles
माँ कुष्मांडा
माँ कुष्मांडा

नवरात्रि के चौथे दिन, माँ दुर्गा को माँ कुष्मांडा देवी के रूप में पूजा जाता है। माँ कुष्मांडा देवी हिंदू धर्म के अनुसार एक शेर पर सवार हैं और सूर्यलोक...

मां महागौरी - नवरात्रि का आठवां दिन
मां महागौरी - नवरात्रि का आठवां दिन

नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है। देवी दुर्गा के आठवें स्वरूप के रूप में महागौरी की पूजा करने से साधक का मन शुद्ध होता है ...

माता शैलपुत्री - 2024 की नवरात्रि का पहला दिन
माता शैलपुत्री - 2024 की नवरात्रि का पहला दिन

नवरात्रि के पहले दिन, ऐसे ही माता शैलपुत्री की पूजा करें। इस पूजा से वह आपको धन समृद्धि से आशीर्वाद देंगी।...

माँ चंद्रघंटा
माँ चंद्रघंटा

माँ चंद्रघंटा, माँ दुर्गा का तीसरा रूप, नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा के द्वारा चमकाया जाता है। उनकी पूजा या अर्चना करके, आपको असीमित शक्तियाँ प्राप्त...