कुंभ मेला

हम जानते हैं कि आस्था और धर्म हमारे जीवन को एक तरह से आकार देने की शक्ति रखते हैं। हजारों भक्त प्रसिद्ध कुंभ मेले में इस आध्यात्मिकता और विश्वास की तलाश में आते हैं जो हमें मोक्ष के करीब ले जा सकता है और हमें कर्म के सांसारिक चक्र से मुक्त कर सकता है। कठोर तपस्या को सहन करके, ध्यान और प्रार्थना के साथ साथ कुंभ एक ऐसे स्थान का प्रतीक है जहाँ लाखों लोग अपनी पीड़ा से मुक्ति पाने के लिए आते हैं। कुंब का उल्लेख भारत के प्राचीन इतिहास और पवित्र धार्मिक ग्रंथों में भी हुआ है।

 

कुंभ मेला मुख्य रूप से एक हिंदू मेला या तीर्थयात्रा है, लेकिन देश और दुनिया के विभिन्न धर्मों के लोग पवित्र नदियों में स्नान करने के लिए इकट्ठा होते हैं। सबसे बड़ा धार्मिक समागम, कुंभ मेला 2019 14 जनवरी, 2019 से 4 मार्च, 2019 तक प्रयागराज या प्रयाग में मनाया जाएगा। नीचे कुंभ मेले की महत्वपूर्ण तिथियों का उल्लेख है।

 

मकर संक्रांति (पहला शनि स्नान) 14/15 जनवरी 2019;

 पौष पूर्णिमा 21 जनवरी 2019

 

मौनी अमावस्या (दूसरा शनि स्नान) 04 फरवरी

बसंत पंचमी (तीसरा शनि स्नान) 10 2019

 

माघी पूर्णिमा 19 फरवरी 2019

 

महा शिवरात्रि 04 मार्च 2019

 

पौराणिक कथा के अनुसार, देवता और दानवों के बीच अमृतको प्राप्त करने के लिए एक भयानक युद्ध हुआ था। अमृत ​​की बूंदें चार स्थानों पर गिर गईं, प्रयाग, हरिद्वार, नासिक और उज्जैन,जिससे वे शुद्ध और शक्तिशाली बन गए। इन आध्यात्मिक शक्तियों का लाभ प्राप्त करने के लिए, कुंभ मेला चार स्थानों में से प्रत्येक में मनाया जाता है।

 

 

कुंभ मेला तीन साल में एक बार, अर्द्ध कुंभ मेला, छह साल में एक बार हरिद्वार और प्रयाग में, अथवा पूर्ण कुंभ मेला बारह साल में एक बार मनाया जाता है। सबसे बड़ा मेला या महाकुंभ 144 साल में एक बार इलाहाबाद के प्रयाग में होता है। इन चार स्थानों में से, मेला कहाँ आयोजित किया जाएगा,  अवधि के दौरान सूर्य, चंद्रमा और बृहस्पति (शनि) के राशियों में स्थिति पर निर्भर करता है।

Recently Added Articles

खजुराहो मंदिर
खजुराहो मंदिर

खजुराहो मंदिर, झांसी से 175 किलोमीटर दूर छतरपुर जिले में स्थित है।...

जमात उल विदा - अमन और ख़ुशहाली का पवित्र त्यौहार
जमात उल विदा - अमन और ख़ुशहाली का पवित्र त्यौहार

जमात उल विदा रमजान के इस पवित्र महीने के अन्त में आ रहा है...

अमरनाथ गुफा की ऐताहासिक कहानी, बाबा अमरनाथ यात्रा नहीं है आसान
अमरनाथ गुफा की ऐताहासिक कहानी, बाबा अमरनाथ यात्रा नहीं है आसान

कि अमरनाथ की गुफा समुद्र तल से 3,978 मीटर की ऊचांई पर स्थित है और 150 फीट ऊंची, 90 मीटर लंबी है।...

जगन्नाथ पुरी मंदिर
जगन्नाथ पुरी मंदिर

जगन्नाथ पुरी मंदिर के 10 आश्चर्यजनक तथ्य सुंदरता, पवित्रता और अद्भुतता का अदभुत मेल...