Diwali 2022: कब है 2022 दिवाली तिथि व पूजा शुभ मुहूर्त

Diwali 2022: दिवाली या दीपावली भारतवासियों का सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार है। दिवाली का त्यौहार हिंदुओं के लिए बड़ा महत्व रखता है एक तरीके से दिवाली का त्यौहार जैसे कि हिंदुओं का नया साल होता है और नए साल की शुरुआत होती है। दिवाली का त्यौहार धार्मिक महत्व के कारण भी काफी महत्वपूर्ण है। भगवान श्री राम अपना वनवास खत्म करके और रावण के ऊपर विजय प्राप्त करके अयोध्या लौटे थे और जब भगवान राम अयोध्या लौटे तो हिन्दुओं ने इसी दिन को एक त्यौहार के रूप में मनाया था। चारों तरफ उजाला किया गया घी के दीये जलाए गए और भगवान राम की पूजा की गई थी। 2022 में दीपावली सोमवार के दिन आने वाली हैं।

दीपावली 2022 का ज्योतिष महत्व

बुराई पर अच्छाई की जीत और असत्य पर सत्य की जीत का यह त्यौहार हमेशा ही काफी धार्मिक महत्व रखता है। दिवाली या दीपावली का त्यौहार जहाँ एक तरफ धार्मिक महत्व रखता है तो वहीं दूसरी तरफ समाज को जोड़ने वाला भी यह त्यौहार बोला जाता है। सभी व्यक्ति अपनी दुश्मनी और गिले-शिकवे मिटाकर एक दूसरे से मिलते हैं और हमेशा के लिए एक हो जाते हैं। आपसी भाईचारे को बनाने के लिए भी दिवाली का त्यौहार काफी महत्वपूर्ण है। आइये जानते हैं इस त्यौहार के विधि विधान के बारे में और इस पर्व से जुडे कुछ रोचक किस्सों के बारे में।

क्यों दीपावली हमेशा कार्तिक माह में आती है?

दिवाली या दीपावली के त्यौहार बारे में हर कोई जानता हैं - यह एक त्यौहार है जो मुख्यतः भारत में हिंदुओं द्वारा मनाया जाता है। यह भारत के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक है। दिवाली का अर्थ है- रोशन मिट्टी के दीपक। यह कार्तिका के हिंदू महीने में मनाया जाता है, जो अक्टूबर या नवंबर के दौरान आता है। इस दिन, लोग  घी से भरे दीपक जलाकर, 14 साल के वनवास के बाद भगवान राम के अयोध्या लौटने पर जश्न मनाते हैं। उस रात, इसे अमावस्या की रात होने के बावजूद, भगवान के स्वागत के लिए हजारों दीपों के कारण पूरी तरह से रोशन दिया जाता है। प्रकाश के साथ अंधेरे को दूर करना अज्ञानता के अंधेरे को खत्म करने और प्रकाश को फैलाने का प्रतीक है। चारों ओर ज्ञान। जहां एक ओर दिवाली, एक ऐसा त्यौहार है जो हमें प्रबुद्ध करता है, वहीं यह एक ऐसा त्यौहार भी है जो हमें खुशी और धन देता है, यही वजह है कि इस दिन लोग देवी लक्ष्मी की भी पूजा करते हैं। इसी वजह से दिवाली को प्रकाशोत्सव भी कहा जाता है। इस साल दिवाली का त्यौहार 24 अक्टूबर 2022 को मनाया जाने वाला है।

दिवाली 2022 लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त

दिवाली 2022 तिथि: 24 अक्टूबर 2022, सोमवार

दिवाली 2022 लक्ष्मी पूजा मुहूर्त - 17:30:10 से 19:26:01 तक

दिवाली 2022 प्रदोष काल - 17:36 से 20:11 तक

दिवाली 2022 वृषभ काल - 17:27:47 से 20:07:03 तक

अमावस्या तीथि शुरू - 12:23 (24 नवंबर 2022)

अमावस्या तीथि समाप्त - 09:08 (25 नवंबर 2022)

दीपावली अपने साथ अन्य त्यौहार भी लेकर आती है, जैसे दीपदान, धनतेरस, गोवर्धन पूजा, भाई दूज आदि। यह वास्तव में एक सप्ताह तक चलने वाला त्यौहार है।

क्यों लोग दिवाली को अधिक महत्व देते हैं?

त्यौहार के रूप में दीवाली या दीपावली सांस्कृतिक, सामाजिक, धार्मिक और आर्थिक दृष्टिकोण से बहुत महत्वपूर्ण है। इस त्यौहार ने लोगों के बीच सभी धार्मिक भेदभावों को दूर कर दिया है और सभी धर्मों के लोग इस त्यौहार को अपने तरीके से मनाते हैं। यह त्यौहार विभिन्न संस्कृति के लोगों को एक साथ लाता है, लोग एक दूसरे से मिलने का समय निकालते हैं, जो लोग पूरे साल प्रार्थना नहीं कर सकते हैं, यह इस दिन प्रार्थना करने का एक बिंदु है और इन दिनों में सबसे गरीब से एक आर्थिक उछाल है पूरे साल दिवाली मनाने के लिए भी जतन करें। पूरे विश्व में, हालाँकि दीवाली के समान त्यौहारों को अलग-अलग नामों से बुलाया जाता है, लेकिन भारत में, विशेष रूप से, हिंदुओं के साथ, दिवाली का यह त्यौहार बहुत महत्वपूर्ण है।

दिवाली 2022 को आपके और आपके परिवार के लिए और अधिक लाभदायक बनाने के लिए, भारत के सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषियों से परामर्श करें!

धन की देवी देवी लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए यह दिन बहुत शुभ है। घर में सुख-समृद्धि और हमेशा की समृद्धि के लिए, व्यक्ति को पूरे दिन उपवास रखना चाहिए और सूर्य अस्त होने के बाद, "प्रदोष काल"के "सतिर लगन"में देवी लक्ष्मी से प्रार्थना करनी चाहिए। पूजा के लिए सही समय मिलना चाहिए। जिस स्थान पर पूजा की जा रही है, उसके अनुसार देवी के स्वागत के लिए पूरे घर की सफाई की जानी चाहिए।

दिवाली के दिन घर में लक्ष्मी जी की पूजा के साथ साथ अगर कुबेर जी की पूजा कर ली जाए तो यह काफी लाभदायक बताया जाता है। कुबेर जी धन के देवता हैं और धन की रक्षा करते हैं। इसलिए घर में दिवाली के दिन कुबेर जी की पूजा जरूर करनी चाहिए। साथ ही साथ इस तरीके की बातें भी बताई जाती है कि दिवाली के दिन अगर घर में छिपकली या घर के बाहर उल्लू देख लिया जाए तो यह भी काफी शुभ बताया जाता है। उल्लू जहां लक्ष्मी जी का वाहन है इसलिए भी उनकी पूजा दिवाली से पहले की जाती है। दिवाली के दिन घर को साफ-सुथरा करके भगवान गणेश और लक्ष्मी जी का पूजन किया जाता है और अंत में भगवान राम की पूजा करके भगवान से प्रार्थना की जाती है कि आने वाले समय के लिए घर में लक्ष्मी जी का वास रहे और घर में सुख शांति बनी रहे।

एस्ट्रोस्वामीजी की ओर से आपको एक समृद्ध, सुरक्षित और आनंदमय खुशहाल दिवाली 2022 की शुभकामनाएं।


Recently Added Articles
Gupt Navaratri 2022 - गुप्त नवरात्रि 2022 तिथि, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त
Gupt Navaratri 2022 - गुप्त नवरात्रि 2022 तिथि, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त

फरवरी में मनाई जाने वाली नवरात्रि के पीछे बहुत सारे रहस्य छुपे हुए हैं इसलिए इस नवरात्रि को गुप्त नवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है।...

Ganesh Chaturthi 2022 - गणेश चतुर्थी 2022 व्रत तिथि और मुहूर्त
Ganesh Chaturthi 2022 - गणेश चतुर्थी 2022 व्रत तिथि और मुहूर्त

शास्त्रों में भगवान गणेश को प्रथम देवता बताया गया है। इस प्रकार की कथाएं और कथाएं हमारे ग्रंथों में मौजूद हैं, जिसमें स्पष्ट रूप से लिखा है कि भगवान श...

2022 Indira Ekadashi: कब है इंदिरा एकादशी 2022 व्रत और शुभ मुहूर्त
2022 Indira Ekadashi: कब है इंदिरा एकादशी 2022 व्रत और शुभ मुहूर्त

इंदिरा एकादशी हिंदुओं के शुभ उपवासों में से एक है जो हिंदू आश्विन माह के कृष्ण पक्ष के 'एकादशी'पर पड़ती है।...

Vaishakha Purnima 2022 - वैशाख पूर्णिमा 2022 पूजा तिथि  व समय
Vaishakha Purnima 2022 - वैशाख पूर्णिमा 2022 पूजा तिथि व समय

हिंदू धर्म में पूर्णिमा का विशेष धार्मिक महत्व होता है। प्रत्येक पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और चंद्र देव की पूजा की जाती है। ...