>

Christmas 2024 - क्रिसमस डे 25 December को ही क्यों मनाया जाता है

क्रिसमस का त्योहार भारत के साथ-साथ विश्व के अधिकतर देशों में धूमधाम से मनाया जाने वाला है। क्रिसमस का त्योहार खुशहाली और शांति का प्रतीक है। विश्व में जितने भी ईसाई धर्म से जुड़े हुए लोग हैं वह क्रिसमस डे को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। भारत में भी काफी संख्या में इसाई लोग रहते हैं, इसी कारण से अब जल्द ही बाजारों में क्रिसमस की धूम नजर आने वाली है।

क्रिसमस पर्व का महत्व

इसाई धर्म का अगर कोई सबसे बड़ा त्योहार है तो वह क्रिसमस है। इससे बड़ा इसाई धर्म का त्योहार कोई भी नहीं है, इस दौरान चर्च में विशेष प्रार्थनाएं की जाती हैं और 25 दिसंबर के दिन लोग चर्च में जमा होकर अपने भगवान ईसा मसीह को याद करते हैं। 25 दिसंबर को ईसाई धर्म के संस्थापक ईसा मसीह का जन्मदिन मनाया जाता है और इसी दिन क्रिसमस डे (Christmas day)विश्व में धूमधाम के साथ सेलिब्रेट किया जाता है। क्रिसमस डे खत्म होने के बाद ही जल्द इसाई नया वर्ष शुरू हो जाता है। ऐसा इतिहास में लिखा गया है कि पहला क्रिसमस रोम में 336 ईसवी में मनाया गया था। यह प्रभु के पुत्र जीसस क्राइस्ट के जन्मदिन को याद करने के लिए मनाया गया था।

क्रिसमस पर्व को और भी खास बनाने के लिए बात करे भारत के जाने माने ज्योतिषाचार्यो से।

25 दिसंबर को ही क्यों मनाया जाता हैं क्रिसमस

क्रिसमस के त्योहार पर 24 दिसंबर की आधी रात के बाद प्रार्थनाएं शुरू हो जाती हैं। 24 दिसंबर की रात को चर्च में विशेष तौर पर पूजा की जाती है और प्रार्थना की जाती है। साथ ही साथ बच्चों में उपहार बांटने का सिलसिला भी चलता रहता है।

ऐसा नहीं है कि 25 दिसंबर को ईसा मसीह का जन्म हुआ था। क्रिसमस के पीछे की कहानी कुछ और ही है। इनसाइक्लोपीडिया बिर्टेनिका की मानें तो यीशु का जन्म अक्टूबर महीने में हुआ था। इसी तरीके के सबूत इसाई शास्त्रों में मौजूद हैं कि यीशु का जन्म अक्टूबर महीने में हुआ था लेकिन इस तरीके का दावा किया किया गया है कि 25 दिसंबर को इसलिए क्रिसमस डे (Christmas) मनाया जाता है क्योंकि इस दिन रोम के गैर इसाई लोग अजय सूर्य का जन्मदिन मनाते हैं और इसाई चाहते हैं कि यीशु का जन्मदिन भी इसी दिन मनाया जाए।

यही कारण है कि सालों से 25 दिसंबर को क्रिसमस डे यानी ईसा मसीह का जन्मदिन मनाया जा रहा है। इस दिन बुराई पर अच्छाई का दिन बताया गया है और लोग अच्छे कामों से एक नए साल की शुरुआत करते हुए नजर आते हैं। इस साल 2024 में 25 दिसंबर को ही क्रिसमस डे मनाया जाएगा।


Recently Added Articles
Mata Katyayani
Mata Katyayani

नवरात्रि के छठे दिन माँ कात्यायनी की पूजा की जाती है। इनके चार भुजाएं होती हैं। ऊपर वाले दाहिने हाथ में अभय मुद्रा और नीचे वाले दाहिने हाथ में वर मुद्...

पंचक
पंचक

पंचक, ज्योतिष में एक अवधारणा है जो पांच विशेष नक्षत्रों के संरेखित होने से जुड़ी है। ...

माँ सिद्धिदात्री - नवरात्रि का नौवां  दिन
माँ सिद्धिदात्री - नवरात्रि का नौवां दिन

नवरात्रि के नौवें और अंतिम दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। मां दुर्गा की नौवीं रूप सिद्धिदात्री की पूजा से उनके भक्तों को महान सिद्धियाँ ...

माँ चंद्रघंटा
माँ चंद्रघंटा

माँ चंद्रघंटा, माँ दुर्गा का तीसरा रूप, नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा के द्वारा चमकाया जाता है। उनकी पूजा या अर्चना करके, आपको असीमित शक्तियाँ प्राप्त...