एस्ट्रोस्वामीजी की ओर से नववर्ष 2020 की हार्दिक शुभकामनाये! अभी साइन-अप करे और पायें 100 रु का मुफ्त टॉक-टाइम ऑनलाइन ज्योतिष परामर्श पर!

Budh Purnima 2020 - बुद्ध पूर्णिमा 2020

बुद्ध पूर्णिमा (Budh Purnima) को भगवान श्री गौतम बुद्ध से जोड़कर देखा जाता है। बुद्ध पूर्णिमा के दिन गौतम बुद्ध की जयंती भी होती है। वैशाख पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा कहते हैं। इस तरह का उल्लेख शास्त्रों में मिल जाता है बुद्ध पूर्णिमा के दिन ही भगवान गौतम बुद्ध को सत्य की प्राप्ति हुई थी। सालों तक जंगलों में भटकते हुए भगवान गौतम बुद्ध को इसी दिन सत्य की प्राप्ति हुई थी और भगवान बुद्ध ने इस दिन ही जाना था कि अप्प दीपो भव का अर्थ क्या होता है।

भगवान बुद्ध हमेशा अपने शिष्यों को बताते थे कि किसी के पीछे और किसी के बताए हुए रास्ते पर चलने से अच्छा है कि अपनी राह खुद खोजी जाए। यानी कि अपना दिया खुद बना जाए। अप्प दीपो भव का यही अर्थ होता है कि अपने दीये खुद बने। अपनी खुद की रोशनी पर चलते हुए यदि मंजिल को हम पाते हैं तो वह मंजिल हमारी मानी जाएगी। भगवान बुद्ध को मानने वाले लोगों की संख्या आज विश्व भर में कुछ 50 करोड़ 50 करोड़ हैं। यह लोग भगवान बुद्ध की जयंती धूमधाम से मनाते हुए नजर आते हैं। आइए जानते हैं भगवान गौतम बुद्ध की जयंती का मुहूर्त क्या है?

बुद्ध पूर्णिमा पर्व तिथि व मुहूर्त 2020

बुद्ध पूर्णिमा 2020 - 7 मई

पूर्णिमा तिथि आरंभ - 19:44 (6 मई 2020)

पूर्णिमा तिथि समाप्त - 16:14 (7 मई 2020)

7 मई 2020 के दिन भगवान गौतम बुद्ध की जयंती है। इसी दिन बुद्ध पुर्णिमा का व्रत और गंगा स्नान करते हुए श्रद्धालु नजर आएंगे। बुद्ध पूर्णिमा के अगर मुहूर्त की बात करें तो साल 2020 में बुद्ध पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ 6 मई को 19:44 से शुरू होगा तो वही बुद्ध पूर्णिमा की तिथि का अंत 7 मई 2020 को 16:14 पर होगा।

बुद्ध पूर्णिमा पर्व को और खास बनाने के लिये परामर्श करे इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से।

गौतम बुद्ध - भगवान विष्णु के 90 अवतार

गौतम बुद्ध को लेकर हिंदू में अलग-अलग कहानियां व्याप्त हैं। बता दें कि हिंदू धर्म में एक वर्ग ऐसा भी है जो भगवान गौतम बुद्ध को विष्णु का नवा अवतार बताता है। उत्तर भारत में कई जगहों पर गौतम बुद्ध को विष्णु का अवतार मानकर उनकी पूजा की जाती है और बुद्ध पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु के इसी रूप की पूजा की जाती है और इन्हीं के लिए व्रत किया जाता है।

जबकि दूसरी तरफ दक्षिण भारत में गौतम बुद्ध को भगवान विष्णु का नवा अवतार नहीं माना गया है। भगवान बुद्ध मानने वाले लोगों की संख्या विश्व में काफी अधिक संख्या में है। भगवान गौतम बुद्ध शांति के दूत रहे हैं। भगवान गौतम बुद्ध जीवन के प्रारंभ से ही राज महल में रहे और राजाओं की तरीके से राज करते हुए नजर आए लेकिन जीवन में एक समय ऐसा भी आया जब इन कामों बुद्ध भगवान का मोह खत्म हो गया और ईश्वर की प्राप्ति के लिए यह जंगलों में निकल गए थे। जंगलों में काफी समय तक भटकने के बाद गौतम बुद्ध को सत्य की प्राप्ति हुई थी।

भगवान गौतम बुद्ध के जीवन से सीखने योग्य बातें

भगवान गौतम बुद्ध के जीवन से हम सभी को कुछ बातें जरूर सीखनी चाहिए। आइए आपको बताते हैं कि भगवान गौतम बुद्ध के जीवन से क्या सीखा जा सकता है।

1. भगवान गौतम बुद्ध ने हमेशा अपने शिष्यों को यही सलाह दी कि वह अपने सत्य की खोज खुद करें। अप दीपो भव गौतम बुद्ध का सबसे प्रमुख सूत्र बोला जाता है। अपनी दीये खुद बने इसी को आधार मानकर गौतम बुद्ध शिष्यों को आगे सलाह देते थे।

2. भगवान गौतम बुद्ध अपने शिष्यों को शांतिपूर्वक रहने और जीवन में अच्छे कर्म करने की सलाह देते थे। बुद्ध भगवान अपने शिष्यों को बताते थे कि इस जीवन में हमें जो भी कुछ मिल रहा है वह हमारा नहीं है।किसी भी चीज का लालच नहीं करना चाहिए और अहंकारको त्याग कर ही व्यक्ति ईश्वर की प्राप्ति कर सकता है।

Recently Added Articles
वास्तु टिप्स जो हमेशा के लिए ख़त्म कर देगी सास-बहु के झगड़े
वास्तु टिप्स जो हमेशा के लिए ख़त्म कर देगी सास-बहु के झगड़े

सास-बहू का झगड़ा घर घर की कहानी है और हर घर में सास-बहू के झगड़े होते हुए नजर आएंगे। कई घरों में सास-बहू के झगड़े काफी दुखदाई और  दर्दनाक हो जाते हैं ...

Mercury Transit 2020 - राशिनुसार जाने बुध गोचर के होने वाले प्रभाव
Mercury Transit 2020 - राशिनुसार जाने बुध गोचर के होने वाले प्रभाव

पौराणिक कथाओं में इस तरीके का जिक्र किया गया है कि बुध ग्रह को देवताओं का ग्रह बताया गया है। बुध ग्रह हमेशा से ही देवताओं के संदेश लेकर एक जगह से दूसर...

2020 में अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) कब हैं? तारीख व मुहूर्त
2020 में अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) कब हैं? तारीख व मुहूर्त

अक्षय तृतीया जिसे आखा तीज के नाम से भी जाना जाता है, हिंदू समुदायों के लिए अत्यधिक शुभ और पवित्र दिन है।...

2020 में कब है बैसाखी (Vaisakhi) पर्व तिथि
2020 में कब है बैसाखी (Vaisakhi) पर्व तिथि

बैसाखी या वैसाखी, फसल त्यौहार, नए वसंत की शुरुआत को बताने के लिए बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है और हिंदुओं द्वारा नए साल के रूप में अधिकांश भारत में...


2020 is your year! Get your YEARLY REPORTS now and know what SURPRISES are hidden for you in 2020
Already Have an Account LOGIN