>

2024 Devshayani Ekadashi: कब है देवशयनी एकादशी 2024 व्रत और शुभ मुहूर्त

देवशयनी एकादशी को 'देवपद एकादशी', 'पद्मा एकादशी', 'शयनी एकादशी'या 'महा एकादशी'के नाम से भी जाना जाता है, वैष्णवों के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है। यह 11वें दिन मनाया जाता है, यह हिंदू कैलेंडर में 'आषाढ़'के महीने में शुक्ल पक्ष की 'एकादशी'होती है। इस प्रकार इस एकादशी को 'आषाढ़ी एकादशी'भी कहा जाता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर में, यह जून से जुलाई के महीनों के बीच पड़ती है। देवशयनी एकादशी पर, हिंदू अनुयायी पूरे उत्साह और भक्ति के साथ भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं।

परामर्श करे भारत के सुप्रसिद्ध ज्योतिषचार्यो से और जाने आपकी राशि पर देवशयनी एकादशी के शुभ और अशुभ प्रभाव, परामर्श ₹10 प्रति मिनट से शुरू। 

कहा जाता है कि देवशयनी एकादशी उस समय आती है जब भगवान विष्णु क्षीरसागर में शेष नाग पर सोते हैं और इसीलिए इसका नाम हरि शयनी एकादशी पड़ा। भारत के दक्षिणी राज्यों में इसे 'तोली एकादशी'के नाम से भी जाना जाता है। हिंदू कथाओं के अनुसार, भगवान विष्णु चार महीने बाद 'प्रबोधिनी एकादशी'के दिन जागते हैं। स्वामी के इस कालखंड को 'चातुर्मास'के नाम से जाना जाता है और यह वर्षा ऋतु के साथ समाप्‍त होता है। देवशयनी एकादशी या शयनी एकादशी को चातुर्मास अवधि की शुरुआत होती है और इस दिन भक्त भगवान विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए पवित्र उपवास रखते हैं।

kundli

2024 में इस दिन है देवशयनी एकादशी

अगर हम इस साल की बात करें तो देवशयनी एकादशी 17 अक्टूबर को है। इसका पारण (व्रत तोड़ने का) 18 अक्टूबर  समय 5:36 AM से 8:21 AM है। एकादशी तिथि का प्रारम्भ मंगलवार, 16 अक्टूबर को रात 8:35 बजे। हो जायेगा और समाप्ति बुधवार, 17 अक्टूबर को रात 9:03 बजे।

सन् 2024 में, देवशयनी एकादशी बुधवार, 17 अक्टूबर को होगी।

एकादशी तिथि आरंभ: मंगलवार, 16 अक्टूबर को रात 8:35 बजे।

एकादशी तिथि समाप्त: बुधवार, 17 अक्टूबर को रात 9:03 बजे।

देवशयनी एकादशी व्रत का अनुष्ठान

देवशयनी एकादशी पर पवित्र स्नान करना बहुत शुभ माना जाता है। भगवान विष्णु के अवतार श्री राम के सम्मान में गोदावरी नदी में डुबकी लगाने के लिए बड़ी संख्या में भक्त नासिक में इकट्ठा होते हैं। देवशयनी एकादशी के दिन, भक्त चावल, बीन्स, अनाज, विशिष्ट सब्जियों और मसालों जैसे विशिष्ट खाद्य पदार्थों से परहेज करके उपवास रखते हैं। इस दिन उपवास रखने से, भक्तों के जीवन में सभी समस्याओं या तनावों का समाधान हो जाता है।

jyotish-appदेवशयनी एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। भक्तगण भगवान विष्णु की मूर्ति को गदा, चक्र, शंख और चमकीले पीले वस्त्रों से सजाते हैं। प्रसाद के रूप में अगरबत्ती, फूल, सुपारी और भोग भेंट किया जाता है। पूजा अनुष्ठान के बाद, आरती गाई जाती है और प्रसाद अन्य भक्तों के साथ खाया जाता है। इसके अलावा देवशयनी एकादशी पर, इस व्रत के पालनकर्ता को पूरी रात जागना चाहिए और भगवान विष्णु की स्तुति में धार्मिक भजन या गीत का जाप करना चाहिए। 'विष्णु सहस्त्रनाम'जैसी धार्मिक पुस्तकों का पाठ करना भी बहुत शुभ माना जाता है।

परामर्श करे भारत के सुप्रसिद्ध ज्योतिषचार्यो से और जाने आपकी राशि पर देवशयनी एकादशी के शुभ और अशुभ प्रभाव, परामर्श ₹10 प्रति मिनट से शुरू। 


Recently Added Articles
सिंदूर: इसका इतिहास, महत्व और सांस्कृतिक महत्त्व
सिंदूर: इसका इतिहास, महत्व और सांस्कृतिक महत्त्व

सिंदूर भारतीय संस्कृति और परंपरा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो विवाहित स्त्रियों के सौभाग्य और शुभता का प्रतीक माना जाता है...

इन राशि के लोगों के रिश्ते लंबे समय तक चलने की संभावना सबसे ज़्यादा होती है
इन राशि के लोगों के रिश्ते लंबे समय तक चलने की संभावना सबसे ज़्यादा होती है

इन राशियों के जातकों के रिश्ते लंबे समय तक चलने की संभावना सबसे ज़्यादा होती है...

इन राशियों को लगता है अँधेरे से डर
इन राशियों को लगता है अँधेरे से डर

अँधेरे का डर एक आम भय है जिसे बहुत से लोग अनुभव करते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, हमारी राशि हमारे स्वभाव और भावनाओं पर गहरा प्रभाव डालती है।...

क्यों आती हैं जीवन में समस्याएं ?
क्यों आती हैं जीवन में समस्याएं ?

हमारे जीवन में समस्याएं और चुनौतियाँ आना एक सामान्य प्रक्रिया है, जो कभी-कभी हमें निराशा और असमंजस की स्थिति में डाल देती है...