त्रिकोणीय मूंगा

₹ 3000.00 ₹ 3900.00
local_shipping

Worldwide Shipping

100% Purity Guarantee

Online Support 24/7

त्रिकोणीय मूंगा जानकारी

वैदिक ज्योतिष मूंगा रत्न को मंगल ग्रह का प्रतिनिधि मानता है। मूंगा एक ज्वलंत कीमती, चमकीला लाल पत्थर है जो महासागरों में पाया जाता है। मूंगे में खनिज मूल नहीं होता है, मूंगा समुद्र के नीचे जीवित मूंगों से बनता है। जब कोरल पॉलीप्स मर जाते हैं, तो कठोर कंकाल के अवशेष पत्थरों में बन जाते हैं। प्रकृति कई रंगों में मूंगा बनाती है, जिसमें नारंगी से लेकर लाल रंग तक शामिल हैं। यदि मंगल आपका सकारात्मक ग्रह है तो आप मूंगा धारण कर सकते हैं। यह कई रक्त विकारों को ठीक कर सकता है, साहस और आत्मविश्वास दे सकता है। ज्योतिष की दृष्टि से इस महत्वपूर्ण पत्थर को 'मरजान', 'सिंदुजा', 'प्रवल रत्न', 'लता मणि' और 'मंगलमणि' भी कहा जाता है।

मूंगा रत्न किसे धारण करना चाहिए?

मूंगा मंगल से संबंधित है, उग्र लाल ग्रह जो साहस, दृढ़ संकल्प और शारीरिक शक्ति को नियंत्रित करता है, और किसी व्यक्ति की कुंडली में कमजोर मंगल को मजबूत करने के लिए पहना जाता है या अपनी अनुकूल स्थिति का लाभ प्राप्त करता है।
वैदिक ज्योतिषी मेष या मेष और वृश्चिक या वृश्चिक राशि के लिए मूंगा या लाल मूंगा की सलाह देते हैं। पश्चिमी ज्योतिष इस जन्म रत्न को मेष राशि के लिए शुभ मानता है जिसे धनु, कर्क मीन और सिंह राशि के लोगों द्वारा भी इसके लाभ के लिए पहना जा सकता है।

लाभ और कमियां

लाल मूंगा आलस्य को दूर कर इसे धारण करने वाले को शक्तिशाली बना सकता है। जिन लोगों की कुंडली में मांगलिक दोष होता है उनके लिए मूंगा धारण करना लाभकारी होता है। यह पहनने वाले को दृढ़ संकल्प, पहल और फोकस प्रदान करके नेतृत्व कौशल जैसे आक्रामक गुण प्रदान करता है। इसलिए, सेना, सेना, पुलिस, खेल और व्यवसायों में जो मानसिक और शारीरिक लचीलापन पर निर्भर हैं, उन्हें यह रत्न अवश्य पहनना चाहिए। वैदिक ज्योतिष में, मंगल को भूमि और संपत्ति का शासक माना जाता है और इसलिए यह अचल संपत्ति, आंतरिक सजावट, खनन, तेल की हेराफेरी आदि से जुड़े लोगों के लिए सकारात्मक परिणाम लाता है।
पाचन, परिसंचरण और मानसिक स्वास्थ्य को बहाल करने की इसकी क्षमता बेजोड़ है। यह आलस्य को दूर करता है।
यदि कोई किसी विशेषज्ञ को अपनी जन्म कुंडली दिखाए बिना मूंगा पहनता है, तो यह दुर्घटना का कारण बन सकता है। यदि यह आपके अनुकूल नहीं है तो यह उच्च रक्तचाप का कारण बन सकता है। आप इसके प्रभाव में कुछ विनाशकारी कर सकते हैं। यह जीवनसाथी पर भी भारी बोझ डालता है, और पारिवारिक झगड़े और बोलने में कठिनाई पैदा कर सकता है। जब भी शनि और मंगल एक साथ हों तो मूंगा धारण करने से बचने की बहुत सलाह दी जाती है।

हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों से परामर्श करें

1 - आप किसी अनुभवी ज्योतिषी के बताए अनुसार इस रत्न का उचित कैरेट पहन सकते हैं। मूंगा सोने या तांबे की अंगूठी में पहना जाना चाहिए और मंगलवार की सुबह शुक्ल पक्ष के दौरान दाहिने हाथ की अनामिका में पहना जाना चाहिए।
2 - यह एक महंगा पत्थर है और इसका तुरंत असर भी होता है। इसलिए पहले किसी अनुभवी ज्योतिषी से परामर्श करने की सलाह दी जाती है जो आपकी जन्म कुंडली का अध्ययन करे और अत्यधिक सावधानी के साथ इसके उपयोग का सुझाव दे। हमारी साइट के माध्यम से सही और वास्तविक ज्योतिषीय सलाह प्राप्त करें, हम आपकी सुविधा के लिए मूल उच्च गुणवत्ता वाले रत्न भी प्रदान करते हैं।

आज ही विशेषज्ञ की सलाह लें!

पुरुष महिला