एस्ट्रोस्वामीजी की ओर से नववर्ष 2020 की हार्दिक शुभकामनाये! अभी साइन-अप करे और पायें 100 रु का मुफ्त टॉक-टाइम ऑनलाइन ज्योतिष परामर्श पर!

जानिए वाल्मीकि जयंती 2019 के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

वाल्मीकि जयंती महान लेखक और महर्षि वाल्मीकि की की याद में मनाई जाती है। बता दें कि यह तिथि पारंपरिक हिंदू कैलेंडर के अनुसार आश्विन के महीने में 'पूर्णिमा' (पूर्णिमा के दिन) पर पड़ती है जबकि ग्रेगोरियन कैलेंडर में यह सितंबर-अक्टूबर के महीने में मनाई जाती है। महर्षि वाल्मीकि महान हिंदू महाकाव्य रामायण के लेखक थे और 'अड़ी कवि'या संस्कृत साहित्य के पहले कवि के रूप में भी पूजनीय है।

याद हो कि रामायण, भगवान राम की कहानी को चित्रित करते हुए पहली बार उनके द्वारा संस्कृत भाषा में लिखी गई थी और इसमें 24,000 छंद थे जो 7 'कांडों'में विभाजित हैं। इस प्रशंसित संत के सम्मान में वाल्मीकि जयंती मनाई जाती है। यह दिन भारत के उत्तरी क्षेत्रों में समर्पण के साथ मनाया जाता है और इसे 'प्रगति दिवस'के रूप में भी जाना जाता है। अब हम बात करेंगे 2019 की महाकवि वाल्मीकि जयंती के बारे में और यह भी जानेंगे कि इसमें क्या अनुष्ठान होते है।

रामायण के अनुसार, श्री राम ने अपने वनवास काल के दौरान वाल्मीकि से मुलाकात की और उनसे बातचीत की। बाद में, वाल्मीकि ने देवी सीता को शरण दी जब राम वहां से चले गए थे। इसके बाद कुश और लव का जन्म हुआ जिन्हें वाल्मीकि ने दोनों जुड़वा बच्चों को रामायण सिखाई।

बात करे भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषियों से और पाए लव, करियर, फाइनेंस, और हेल्थ पर सटीक ज्योतिषचार्य परामर्श।  अभी बात करने के लिए क्लिक करे

 

महर्षि वाल्मीकि का जीवन परिचय

महर्षि वाल्मीकि अपने प्रारंभिक जीवन में रत्नाकर नाम से डाकू थे, जो लोगों को मारने के बाद लूटते थे। ऐसा माना जाता है कि ऋषि नारद मुनी ने रत्नाकर को सही राह में लाया जो भगवान राम के बहुत बड़े भक्त थे। नारद मुनि की सलाह पर, रत्नाकर ने राम नाम के महान मंत्र का पाठ करके महान तपस्या की। वर्षों ध्यान के बाद, एक दिव्य आवाज से उनकी तपस्या सफलता मिली और उन्हें नया नाम वाल्मीकि मिला।

वाल्मीकि जयंती के दौरान अनुष्ठान

1. वाल्मीकि जयंती पर लोग प्रसिद्ध संत और कवि के प्रति सम्मान व्यक्त करते हैं। कई कस्बों और गांवों में वाल्मीकि के चित्र के साथ जुलूस भी निकालते हैं। हिंदू भक्त इस दिन उनकी श्रद्धापूर्वक पूजा करते हैं। कई स्थानों पर, उनके चित्र की प्रार्थना की जाती है।

2. इस दिन पूरे भारत में भगवान राम के मंदिरों में रामायण के पाठ आयोजित किए जाते हैं। इसके अलावा भारत में महर्षि वाल्मीकि को समर्पित कई मंदिर भी स्थित हैं। 

3. वाल्मीकि जयंती के अवसर पर, इन मंदिरों को भव्य रूप से फूलों से सजाया जाता है। वातावरण को शुद्ध और आनंदित करने के लिए बहुत सारी अगरबत्तियां लगाई जाती हैं। इन मंदिरों में कीर्तन और भजन कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। कई श्रद्धालु इस अवसर पर भगवान राम के मंदिरों में भी जाते हैं और महर्षि वाल्मीकि की याद में रामायण के कुछ श्लोकों का पाठ करते हैं।

4. साथ ही वाल्मीकि जयंती पर गरीबों और जरूरतमंदों को मुफ्त भोजन वितरित किया जाता है। इस दिन दान पुण्य करना बहुत ही फलदायक माना जाता है।

2019 में वाल्मीकि जयंती पर महत्वपूर्ण समय

सूर्योदय - 13 अक्टूबर, 2019 को 6:26 पूर्वाह्न बजे।

सूर्यास्त - 13 अक्टूबर, 2019 को शाम 5:59 बजे।

पूर्णिमा तीथि शुरू होगी - 13 अक्टूबर, 2019 को 12:36 पूर्वाह्न बजे।

पूर्णिमा तीथि समाप्त होगी - 14 अक्टूबर, 2019 को 2:37 पूर्वाह्न बजे।

वाल्मीकि जयंती 2019 का महत्व

वाल्मीकि जयंती का दिन हिंदू धर्म में बहुत धार्मिक महत्व रखता है क्योंकि यह महर्षि वाल्मीकि के अद्वितीय योगदान का जश्न के रूप में जाना जाता है। उन्होंने कुछ अविश्वसनीय रचनाएँ लिखी थीं जिनमें रामायण और कई पुराण शामिल हैं। वाल्मीकि जयंती का उत्सव एक महान संत को श्रद्धांजलि है जिन्होंने अपनी शिक्षा के माध्यम से जनता को सामाजिक न्याय के खिलाफ लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने भगवान राम के मूल्यों का प्रचार किया और उन्हें तपस्या और परोपकार के व्यक्ति के रूप में मान्यता दी।

इस प्रकार इस साल अर्थात 2019 में महाकवि वाल्मीकि जयंती 13 अक्टूबर को देशभर में श्रद्धा के साथ मनाई जाने वाली है। यह 13 को पूर्णिमा के साथ शुरू होगी और 14 अक्टूबर को समाप्त होगी। तो आशा करते है कि आपको वाल्मीकि जयंती के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी।

महर्षि वाल्मीकि जयंती 2019 के बारे में अंग्रेजी अनुवाद के लिए क्लिक करे।

Recently Added Articles
Megha Purnima 2020 - माघ पूर्णिमा पर दान और स्नान का विशेष महत्व
Megha Purnima 2020 - माघ पूर्णिमा पर दान और स्नान का विशेष महत्व

पूर्णिमा का दिन बड़ा ही महत्वपूर्ण और विशेष माना जाता है। वैसे तो साल में बहुत-सी पूर्णिमा आती है लेकिन इन सब में माघ पूर्णिमा सबसे ज्यादा विशेष माना ...

3 उपाय जो शनि के प्रकोप से दिला देंगे आपको तुरंत मुक्ति
3 उपाय जो शनि के प्रकोप से दिला देंगे आपको तुरंत मुक्ति

शनि कई बार आपको अपना शत्रु नजर आता होगा और शनि ग्रह के कारण आपको अक्सर परेशान रहते हुए भी नजर आते होंगे। शनि ग्रह को लेकर कई तरीके की बातें की गई हैं ...

वर्कप्लेस में तरक्की के लिए इन वास्तु उपायों का करें पालन
वर्कप्लेस में तरक्की के लिए इन वास्तु उपायों का करें पालन

वर्कप्लेस छोटा है या बड़ा है इससे कार्य की तरक्की को कोई भी फर्क नहीं पड़ता है बल्कि आपके वर्कप्लेस यानी कि कार्यक्षेत्र के अंदर किन वास्तु उपायों का ...

पौष पूर्णिमा 2020 - पौष पूर्णिमा व्रत और पूजा विधि 2020
पौष पूर्णिमा 2020 - पौष पूर्णिमा व्रत और पूजा विधि 2020

इस साल पौष पूर्णिमा 10 जनवरी 2020 को है। पौष पूर्णिमा माघ मास से पहले आती है और माघ मास में भगवान का विशेष प्रकार से पूजन किया जाता है।...


2020 is your year! Get your YEARLY REPORTS now and know what SURPRISES are hidden for you in 2020
Already Have an Account LOGIN