पितृ पक्ष 2019 – 2019 श्राद्ध

हिंदू कैलेंडर पर आधारित श्राद्ध पक्ष या पितृ पक्ष 13 सितंबर से शुरू होकर इस साल 28 सितंबर को समाप्त हो रहा है। श्राद्ध एक अनुष्ठान है जो मृत आत्मा की शांति के लिए मृत पूर्वजों के बच्चों या रिश्तेदारों द्वारा किया जाता है। 

हमारे पूर्वज हमारे लिए बहुत निकट और प्रिय हैं क्योंकि हमारा जीवन उनके बलिदान की नींव पर मजबूती से टिका हुआ है। पितृ पक्ष वर्ष का वह विशेष समय होता है जब हिंदू अपने पूर्वजों का सम्मान करते हुए कुछ अनुष्ठान करते हैं और स्वयं कुछ कार्य करने के लिए मना करते हैं। ऐसा माना जाता है कि भाद्रपद मास के दौरान, पूर्णिमा से अमावस्या तक 16 दिनों तक हमारे मृत पूर्वजों की आत्माएं ऊर्जा के रूप में पृथ्वी पर आती हैं। ये ऊर्जाएँ उनकी इच्छा के अनुसार हमारे जीवन को प्रभावित कर सकती हैं।

पितृ पक्ष पर्व तिथि मुहूर्त 2019

श्राद्ध पक्ष

पितृ पक्ष तिथि

श्राद्ध का दिन

पूर्णिमा श्राद्ध

13 सितंबर 2019

शुक्रवार

प्रतिपदा श्राद्ध

14 सितंबर 2019

शनिवार

द्वितीया श्राद्ध

15 सितंबर 2019

रविवार

तृतीया श्राद्ध

17 सितंबर 2019

मंगलवार

महा भरणी

18 सितंबर 2019

बुधवार

पंचमी श्राद्ध

19 सितंबर 2019

गुरूवार

षष्ठी श्राद्ध

20 सितंबर 2019

शुक्रवार

सप्तमी श्राद्ध

21 सितंबर 2019

शनिवार

अष्टमी श्राद्ध

22 सितंबर 2019

रविवार

नवमी श्राद्ध

23 सितंबर 2019

सोमवार

दशमी श्राद्ध

24 सितंबर 2019

मंगलवार

एकादशी श्राद्ध

25 सितंबर 2019

बुधवार

द्वादशी श्राद्ध

26 सितंबर 2019

गुरूवार

चतुर्दशी श्राद्ध

27 सितंबर 2019

शुक्रवार

सर्व पितृ अमावस्या

28 सितंबर 2019

शनिवार

  

पितृ पक्ष 2019 में कैसे मिलेगी पितरो को शांति जानिए अभी भारत के जाने माने ज्योतिषाचार्यो से। अभी बात करने के लिए क्लिक करे

इस अवधि के दौरान, ब्राह्मण पुजारियों को भोजन, कपड़े और दान दिए जाते हैं जो श्राद्ध अनुष्ठान करने में मदद करते हैं। गाय, कुत्ते और कौवे जैसे जानवरों को खिलाया जाता है। हिंदू धर्म में, ब्राह्मणों को भगवान का प्राथमिक सेवक माना जाता है और वे एक सामान्य व्यक्ति और सर्वोच्च शक्ति के बीच की कड़ी हैं। वे सभी धार्मिक समारोहों और अनुष्ठानों का एक अभिन्न अंग हैं। ब्राह्मणों को भोजन कराने के पीछे एक प्रसिद्ध कहानी है- प्रसिद्ध महाभारत चरित्र कुंती पुत्री कर्ण ने अपने जीवनकाल में गरीबों और जरूरतमंद लोगों को दान के रूप में बहुत सारी संपत्ति दान की थी लेकिन उन्होंने कभी भी उन्हें भोजन नहीं दिया। जब कर्ण अपनी मृत्यु के बाद स्वर्ग गया, तो उसे कई शानदार और भौतिक सुखों की पेशकश की गई लेकिन उसे कोई भोजन नहीं दिया गया। कर्ण ने इसका कारण समझा और यमराज से अनुरोध किया कि वे ब्राह्मणों और गरीबों को भोजन दान करने के लिए उन्हें 15 दिनों के लिए वापस धरती पर भेज दें। यमराज ने उनके अनुरोध को स्वीकार कर लिया और उन्हें एक 15 दिन के लिए पृथ्वी पर भेज दिया। जब कर्ण वापस आया, तो उसे प्रचुर भोजन के साथ स्वागत किया गया। यह ब्राह्मण भोज का प्रतीक है और गरीब लोगों को भोजन कराना जीवन के बाद तृप्ति पाने के लिए एक प्रभावी अनुष्ठान है।

 

Pitra Dosh - पितृदोष लगने के कारण और निवारण

पितृ पक्ष हमारे मृत पूर्वजों के विषय में सबसे शुभ समय है। विभिन्न अच्छे कार्यों के माध्यम से उन्हें खुश रखना मुक्ती या मोक्ष प्राप्त करने की प्रथाओं में से एक है।

श्राद्ध पक्ष में भूल कर भी ना करे ये काम

श्राद्ध के दौरान कुछ सरल नियमों और लाभों का पालन करें:

1. पितृ पक्ष के दौरान चावल, नॉन-वेज, लहसुन, प्याज और बाहर का खाना खाने से बचें। घर का बना सात्विक भोजन ही खाएं। साथ ही बैंगन को पकाने या खाने से बचें।

2. श्राद्ध भोजन में मसूर, काली उड़द, चना, काला जीरा, काला नमक, काली सरसों और किसी भी अशुद्ध या बासी खाद्य उत्पाद का उपयोग न करें।

3. श्राद्ध कर्म करने वाले व्यक्ति को अपने नाखून नहीं काटने चाहिए। दाढ़ी या बाल भी नहीं कटवाने चाहिए। उसे गंदे कपड़े नहीं पहनने चाहिए।

4. जातक को श्राद्ध अनुष्ठान करते समय बेल्ट, बटुए या जूते जैसे चमड़े से बने उत्पादों का उपयोग नहीं करना चाहिए।

यदि आप श्राद्ध अनुष्ठान कर रहे हैं और मंत्रों का जाप कर रहे हैं, तो किसी के साथ बात करने के लिए जाप को रोकें नहीं। इससे नकारात्मक ऊर्जा आ सकती है।

5. नशा श्राद्ध के दौरान आपके अच्छे कार्यों और दान को नष्ट कर देता है। कई बार लोग तंबाकू चबाते हैं, सिगरेट पीते हैं या शराब का सेवन करते हैं। इस तरह के बुरे व्यवहार में लिप्त न हों। इससे श्राद्ध कर्म करने का फल मिलता है। शारीरिक संबंध बनाने से बचें। ब्रह्मचर्य मोड पर रहें।

6. झूठ मत बोलो या कठोर शब्दों का प्रयोग करो या दूसरों को शाप दो। यदि संभव हो, तो सभी 16 दिनों के लिए घर में चप्पल न पहनें।

7. श्राद्ध पूजा और अनुष्ठान के लिए काले या लाल फूलों और बेहद सुगंधित या गंधहीन फूलों के उपयोग से बचें।

श्राद्ध कर्म करने वाले व्यक्ति द्वारा श्राद्ध के दिन बार-बार भोजन करना भी निषिद्ध है।

8. अनुष्ठान के लिए लोहे के जहाजों का उपयोग न करें। इसके बजाय अपने पूर्वजों को खुश करने के लिए सोने, चांदी, तांबे या पीतल के बर्तन का उपयोग करें। बैठने के किसी भी तरह से लोहे का उपयोग न करें। रेशम, ऊन, लकड़ी आदि के बैठने का उपयोग करें।

9. श्राद्ध काल में नए कपड़े न खरीदें या न पहनें। इस पखवाड़े के दौरान एक नया घर दर्ज न करें, एक नया व्यवसाय या नया उद्यम शुरू करें या जन्मदिन आदि मनाएं। इस अवधि के दौरान घर में नई भौतिकवादी चीजें न डालें, नई कार आदि रखें।

श्राद्ध कर्म शाम, रात, भोर या शाम के दौरान नहीं किया जाना चाहिए। श्राद्ध के दिन कपड़े न धोएं।

10. पितृ पक्ष के दौरान, अपने पिछले कर्मों को शुद्ध करने के लिए ईश्वर और अपने पूर्वजों से ईमानदारी से प्रार्थना करें और अपने जीवन में सुख और समृद्धि लाएं।

श्राद्ध में क्या काम करने चाहिए 

1. यदि कोई व्यक्ति गरीब है, और धन की कमी के बावजूद, वह श्राद्ध करना चाहता है, तो उसे पानी में काले तिल डालना चाहिए और एक ब्राह्मण को काले तिल से भरा मुट्ठी दान करना चाहिए। 

2. श्राद्ध के दिनों में हमें अपने पूर्वजों के लिए श्राद्ध जरूर करना चाहिए। बेहतर होगा कि आप श्राद्ध के दिन अपने पूर्वजों के लिए घर में पूजा का आयोजन करें।

3. रात के हर दिन सुबह और शाम अपने पूर्वजों के लिए पूजा जरूर करनी चाहिए। यदि आप पूजा नहीं कर सकते हैं तो किसी भी तरीके से दिन में थोड़ा समय निकालकर उनको याद करना चाहिए।

4. श्राद्ध के दिनों में गरीब को भोजन जरूर करना चाहिए। साथ ही साथ ब्राह्मण को भी भोजन कराने से विशेष लाभ प्राप्त होता है।

5. श्राद्ध के दिनों में मछलियों को दाना खिलाना या आटा खिलाना और गाय को रोटी खिलाने से हमारे पूर्वजों की आत्माओं को शांति की प्राप्ति होती है।

पितृ पक्ष 2019 अंग्रेजी अनुवाद पढ़ने के लिए क्लिक करे

Recently Added Articles
वसंत पंचमी 2020
वसंत पंचमी 2020

हिन्दू पंचांग के मुताबिक वसंत पंचमी पर्व हर साल माघ मास के शुक्ल पक्ष के पांचवे दिन यानि पंचमी तिथि को मनाया जाता है।...

रावण के करीब आते ही क्यों उठा लेती थीं माता सीता तिनका
रावण के करीब आते ही क्यों उठा लेती थीं माता सीता तिनका

जब भी रावण माता सीता के सामने आता था तो सीता माता एक घास का तिनका अपने सामने ले लेती थी।...

भगवान श्री राम की ये निशानियां आज भी हैं मौजूद
भगवान श्री राम की ये निशानियां आज भी हैं मौजूद

भगवान राम और रामायण के कई सारे सबूत हमारे सामने मौजूद हैं। भगवान राम आज भारत में अपने राम मंदिर को लेके अदालत में लड़ते हुए बेशक नजर आ रहे हैं।...

वास्तु टिप्स जो हमेशा के लिए ख़त्म कर देगी सास-बहु के झगड़े
वास्तु टिप्स जो हमेशा के लिए ख़त्म कर देगी सास-बहु के झगड़े

सास-बहू का झगड़ा घर घर की कहानी है और हर घर में सास-बहू के झगड़े होते हुए नजर आएंगे। कई घरों में सास-बहू के झगड़े काफी दुखदाई और  दर्दनाक हो जाते हैं ...