जानिये कब है 2019 में मोहिनी एकादशी, मोहिनी एकादशी व्रत कथा

ग्रेगियन कैलेंडर के अनुसार अप्रैल-मई के महीने में पड़ने वाले 'वैशाख'के हिंदू महीने में शुक्ल पक्ष में एकादशी (11 वें दिन) को मोहिनी एकादशी मनाई जाती है। यह एकादशी सभी हिंदू धर्म के अनुयायियों द्वारा मनाई जाती है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इस एकादशी पर सभी के पाप धुल जाते हैं जिन्होंने कभी पाप किया है। हिंदू पौराणिक कथाओं में, मोहिनी भगवान विष्णु के प्रच्छन्न रूप को दिया गया नाम है और जब से भगवान एकादशी के दिन इस रूप में प्रकट हुए, तब से इस दिन को 'मोहिनी एकादशी'के रूप में मनाया जाने लगा। यह एकादशी उत्तरी भारत और आसपास के क्षेत्रों में 'वैशाख'के महीने में मनाई जाती है, हालांकि तमिल कैलेंडर के अनुसार, यह 'चिथिरई'के महीने में, बंगाली कैलेंडर के 'ज्येष्ठो'महीने में और मलयालम कैलेंडर के एडवा महीने में आती है। हिंदू भक्त खुश और समृद्ध जीवन जीने के लिए दिव्य आशीर्वाद लेने के लिए इस एकादशी का पालन करते हैं।

कब है 2019 में मोहिनी एकादशी (Mohini Ekadashi 2019) 

अब हम बात करते है कि 2019 में यह मोहिनी एकादशी कब है। तो बता दें कि इस वर्ष यह 15 मई को पड़ने वाली है। जबकि शुभ मुहूर्त की बात करें तो 16 मई को, व्रत तोड़ने का सही समय 5 बजक्त 35 मिनट से 8 बजकर 15 मिनट है। पारणा तिथि के दिन द्वादशी समाप्त होने का समय 8 बजकर 15 मिनट। जबकि एकादशी तिथि का प्रारम्भ 14 मई को 12 बजकर 59 मिनट पर होगी और समाप्ती 15 मई को 10 बजकर 35 मिनट पर।

मोहिनी एकादशी के दौरान अनुष्ठान, मोहिनी एकादशी व्रत कथा 

1) जाने मोहिनी एकादशी व्रत कथा इस प्रकार से की जाती हैं। इस दिन, लोग पूरे दिन अन्न का एक दाना खाए बिना ही व्रत का पालन करते हैं। मोहिनी एकादशी व्रत एक दिन पहले शुरू होता है, 'दशमी'पर। इस दिन, भक्तजन पवित्र कार्य करते है और सूर्यास्त से पहले एक बार 'सात्विक'भोजन करते है। एकादशी पर पूर्ण उपवास होता है और 'द्वादशी'के सूर्योदय तक जारी रहता है। ऐसा माना जाता है कि मोहिनी एकादशी व्रत को अगले दिन दूध पीना चाहिए।

2) मोहिनी एकादशी व्रत का पालन करने वाले लोग सूर्योदय से पहले उठ जाते है और तिल और कुश से जल्दी स्नान करते है। साथ ही उन्हें 'दशमी'की रात को फर्श पर सोना चाहिए। भक्त दिन भर अपने देवता की पूजा-अर्चना करते हैं और रात भर भजन गाकर और श्रीकृष्ण की स्तुति में मंत्रों का जाप करते रहते हैं।

3) जैसा कि कुछ लोग स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं के कारण उपवास के सख्त नियमों का पालन नहीं कर सकते हैं, वे मोहिनी एकादशी पर आंशिक उपवास या व्रत का पालन कर सकते हैं। फल, सब्जियों और दूध उत्पादों जैसे 'फलाहार'खाने की अनुमति है। मोहिनी एकादशी के दिन किसी भी व्रत का पालन नहीं करने पर भी चावल और सभी प्रकार के अनाज का सेवन वर्जित है।

4) मोहिनी एकादशी के दिन, अन्य सभी एकादशियों की तरह, भगवान विष्णु को समर्पित है। विशेष 'मंडप'भगवान विष्णु की मूर्तियों के साथ तैयार किया जाता है। भक्त भगवान की चंदन, तिल, रंग-बिरंगे फूलों और फलों से पूजा करते हैं। भगवान विष्णु के प्रिय तुलसी के पत्ते अर्पित करना बहुत ही शुभ होता है। कुछ क्षेत्रों में मोहिनी एकादशी के दिन, भगवान राम, भगवान विष्णु के एक अवतार की भी पूजा की जाती है।

 

मोहिनी एकादशी 2019, मोहिनी एकादशी व्रत कथा के राशि प्रभाव के बारे में जानने के लिए हमारे बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से बात करे । अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

Recently Added Articles

बुद्ध पूर्णिमा 2019 - बुद्ध पूर्णिमा मुहूर्त व तिथि
बुद्ध पूर्णिमा 2019 - बुद्ध पूर्णिमा मुहूर्त व तिथि

बुद्ध पूर्णिमा को भगवान श्री गौतम बुद्ध से जोड़कर देखा जाता है। बुद्ध पूर्णिमा के दिन गौतम बुद्ध की जयंती भी होती है।...

चंद्र ग्रहण योग
चंद्र ग्रहण योग

चंद्रमा को मन का स्वामी कहा जाता है, यहीं कारण है कि चंद्रमा ग्रहण कुंडली पर लगने से मन प्रभावित होता है...

गुप्त धाम की रहस्यमयी कहानी
गुप्त धाम की रहस्यमयी कहानी

गुप्त धाम मध्य भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के जांजगीर चाम्पा जिले में स्थित है जबकि यह शिवरीनारायण में पड़ता है।...

लोकसभा चुनाव 2019 ज्योतिषी भविष्यवाणी (Lok Sabha Election 2019 Astrological Predictions)
लोकसभा चुनाव 2019 ज्योतिषी भविष्यवाणी (Lok Sabha Election 2019 Astrological Predictions)

17th Lok Sabha Election 2019 Predictions, लोकसभा चुनाव 2019 ज्योतिषी भविष्यवाणी...