दशहरा 2019

अश्विनी माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाने वाला विजयदशमी यानि दशहरा इस बार 08 अक्टूबर मंगलवार को मनाया जा रहा है। इसका विजय मुहूर्त है दोपहर 2 बजकर 2 मिनट से 2 बजकर 45 मिनट तक। दशहरा बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है। इस दिन मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम ने रावण का वध किया था। इसलिए इसे कई स्थानों पर विजयदशमी के रूप में मनाया जाता है, वहीं इसके अलावा कई राज्यों में रावण की पूजा भी की जाती है। इसी दिन मां दुर्गा ने राक्षस महिषासुर पर विजय पाई थी। दशहरे से 14 दिन पहले तक रामलीला दिखाई जाती है, जिसमें भगवान राम के जीवन की लीला होती है, उसे स्टेज पर विभिन्न पात्रों के द्वारा प्रदर्शित की जाता है। आखिरी दिन रावण का वध होता है, जिसके बाद रामलीला खत्म हो जाती है। दशहरे का दिन काफी अच्छा माना जाता है, अगर किसी की शादी का मुहूर्त ना निकल रहा हो, तो वह इस दिन भी शादी कर सकते हैं। अब हम आपको बताते हैं दशहरे की पूजा विधि के बारे में।

दशहरा 2019 - पर्व तिथि व शुभ मुहूर्त

दशहरा पर्व तिथि: 08-अक्टूबर-2019

विजय मुहूर्त: दोपहर 2:05 मिनट से दोपहर 2:52 मिनट तक

अपराह्न मुहूर्त: दोपहर 1:15 मिनट से दोपहर 3:40 मिनट तक

दशहरा पूजा विधि 2019

दशहरे के दौरान सुबह प्रातः काल उठकर के जल्दी स्नान करके आंगन में गोबर के गोल बर्तन बनाएं। इसमें भगवान श्रीराम समेत उनके अनुजों की छवि माने। इन चार बर्तनों में गीला धान और चांदी रखें और इसे किसी कपड़े से ढ़कने के बाद धूपबत्ती, फूलों से पूजा करें और सच्चे मन से भगवान की प्रार्थना करें। पूजा के बाद ब्राह्मण और गरीबों को दान दे भोजन कराएं, इसके बाद स्वयं भोजन करें।

कैसे दशहरा पर्व को मनाये ओर भी ख़ास, परामर्श करें जाने माने ज्योतिषाचार्यो से।

भारत में दशहरा पर्व का महत्व

दशहरे के दिन रावण, मेघनाथ और कुंभकरण के पुतले जगह-जगह जलाए जाते हैं। इसमें हिमाचल प्रदेश का कुल्लू का दशहरा, मैसूर का दशहरा, दिल्ली का दशहरा और अंबाला के बराड़ा का दशहरा बेहद फेमस है। कुल्लू में जैसा दशहरा मनाया जाता है, वैसा शायद ही कहीं मनाया जाता है। इसकी भव्यता देखते ही बनती है। कुल्लू के धालपुर मैदान में 7 दिन तक दशहरे का त्यौहार चलता है। यहां दूर-दूर से लोग मेला देखने के लिए आते हैं, साथ ही स्थानीय देवी देवता भी मेले में शिरकत करते हैं। कर्नाटक के मैसूर में भी दशहरा काफी धूमधाम से मनाया जाता है। रंग-बिरंगे शहर में बड़े हाथियों को सजाया जाता है और झांकियां निकाली जाती हैं। इस दिन चामुंडेश्वरी मंदिर में पूजा - अर्चना कर दशहरे का कार्यक्रम शुरू किया जाता है, जिसके दौरान काफी भीड़ देखी जाती है। दिल्ली के दशहरे की बात ही अनोखी है दिल्ली का दशहरा अपने आप में ही खास है इस दिन यहां पर बड़े-बड़े रावण, कुंभकरण और मेघनाथ के पुतले बनाए जाते हैं। इसकी तैयारी काफी समय पहले ही शुरू कर दी जाती है और उन्हें प्रधानमंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक आग लगाते हैं। दिल्ली में रामलीला मैदान और सुभाष पार्क में बहुत बड़े पुतले जलाए जाते हैं, इसकी भव्यता देखते ही बनती है। अब बात करते हैं अंबाला के बराड़ा के दशहरे की। अंबाला के बराड़ा में अब तक का सबसे ऊंचे रावण का पुतला दहन होता आ रहा है। बराड़ा का रावण पांच बार लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हो चुका है। पिछले साल रावण का पुतला 210 फुट का था, जो कि देश में सबसे ऊंचा रावण का पुतला था। इस बार आप भी तैयार हो जाइए दशहरे का लुफ्त उठाने के लिए और इस दिन को खास बनाने के लिए।

Recently Added Articles
क्रिसमस डे 2019
क्रिसमस डे 2019

क्रिसमस का त्यौहार भारत के साथ-साथ विश्व के अधिकतर देशों में धूमधाम से मनाया जाने वाला है।...

हनुमान जयंती 2020
हनुमान जयंती 2020

हनुमान जयंती एक हिंदू धार्मिक त्यौहार है जो भगवान हनुमान के जन्म का स्मरण कराता है। हिंदू मान्यता के अनुसार...

रावण के करीब आते ही क्यों उठा लेती थीं माता सीता तिनका
रावण के करीब आते ही क्यों उठा लेती थीं माता सीता तिनका

जब भी रावण माता सीता के सामने आता था तो सीता माता एक घास का तिनका अपने सामने ले लेती थी।...

हिन्दू धर्म
हिन्दू धर्म

आपने सुना होगा कि हिन्दू धर्म से बढ़कर कोई धर्म नहीं है। यह सबसे प्राचीन धर्म है, इसकी शुरुआत मनु ऋषि...