Chaitra Purnima 2022 - जानें चैत्र पूर्णिमा 2022 व्रत दिनांक और मुहूर्त

पूर्णिमा हमारे जीवन में एक विशेष महत्व रखती हैं क्योंकि पूर्णिमा को एक त्योहार की तरह मनाया जाता है। हर महीने की पूर्णिमा का अलग-अलग महत्व होता है। आज हम आपको चैत्र मास की पूर्णिमा के विशेष महत्व के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे जानना हर किसी के लिए जरूरी है। चैत्र मास (Chaitra Purnima) की पूर्णिमा चैत्र के खत्म होने पर आखिरी दिन मनाई जाती है। यह पूर्णिमा बड़ी ही खास है क्योंकि इस दिन हनुमान जयंती भी मनाई जाती है। बाकी पूर्णिमाओं की तरह इस पूर्णिमा के दिन भी व्रत करने का महत्व है जिसमें कई प्रकार से भगवान की पूजा विधि की जाती है।चैत्र पूर्णिमा, जिसे चैत पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है, हिंदू कैलेंडर में चैत्र (मार्च - अप्रैल) के महीने में पूर्णिमा आती है। चैत्र पूर्णिमा(Chaitra Purnima) का दिन (मार्च-अप्रैल) भी एक पवित्र दिन के रूप में मनाया जाता है। यह वह दिन है जो दक्षिण भारत में चित्रगुप्त को समर्पित है। इस दिन चित्रगुप्त जो यमराज के सहायक हैं, जो पूरी दुनिया में जन्म और मृत्यु के रिकॉर्ड रखते हैं, उनकी पूजा की जाती है। वह चित्रगुप्त हैं जो इस संसार में हमारे अच्छे और बुरे कार्यों का हिसाब भी रखते हैं, जिसके अनुसार हमें पुरस्कृत या दंडित किया जाता है। यह उत्पात पूर्णिमा के दिन चिथिराई नटचतिरम पर होता है। यह रात में स्वामी पोरप्पडू के साथ मनाया जाता है। इस दिन सर्व योनि कर्म पूजा का श्रेष्ठ फल मिलता है। इस पूजा को करने से देवताओं का आशीर्वाद मिलता है और पिछले जन्म के व्यक्ति के कर्मों के बुरे प्रभाव भी क्षमा हो जाते हैं।

चैत्र पूर्णिमा पर राशि अनुसार जाने ज्योतिषीय उपाय श्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों द्वारा। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

चैत्र पूर्णिमा के व्रत का अनुष्ठान

1. चैत्र पूर्णिमा के दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करने का महत्व है।

2. स्नान करने के बाद भगवान हनुमान की पूजा अर्चना की जाती है। इस दिन भगवान के मंदिर में जाने का भी महत्व है।

3. चैत्र पूर्णिमा के दिन पूर्णिमा व्रत और हनुमान व्रत दोनों किए जाते है।

4. इस दिन हनुमान जी के साथ भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है और लोग अपने घर पर भगवान सत्यनारायण की कथा करवाते हैं।

5. चैत्र पूर्णिमा के दिन हवन किया जाता है। जिससे पर्यावरण की शुद्धि हो सके।

6. इस दिन भगवान चंद्रमा को अनुष्ठान के एक भाग से अर्ध देने की धार्मिक प्रथा भी मानी जाती है।

7. लोग चैत्र पूर्णिमा के दिन दान और पुण्य के काम करते हैं। ऐसा करने से सभी प्रकार के दुख दर्द दूर हो जाते है।

8. गरीबों को गेहूं चावल भोजन कपड़े आदि देने से भगवान हनुमान खुश होते हैं।

9. चैत्र पूर्णिमा के दिन हनुमान भगवान को खुश करने के लिए गुड़ और चने से बंदरों को जिमाने चाहिए। साथ ही मंदिर में भी चने की दाल पंडित को दान में देनी चाहिए।

चैत्र पूर्णिमा का महत्व

इस पूर्णिमा को सबसे महत्वपूर्ण पूर्णिमा माना जाता है क्योंकि यह पूर्णिमा हिंदू नव वर्ष के प्रारंभ के पश्चात पहली पूर्णिमा मानी जाती है। चैत्र पूर्णिमा हनुमान जी का जन्म दिवस मनाया जाता है। लोग व्रत रखते हैं भगवान विष्णु और चंद्रमा की पूजा अर्चना करते हैं। कहा जाता है कि चैत्र पूर्णिमा पर दान पुण्य करने से पापों का नाश होता है। इस पूर्णिमा को चैति पूनम भी कहा जाता है क्योंकि इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने ब्रज में रास उत्सव रचाया था जिसे महारास के नाम से जाना जाता है। महारास में हजारों गोपियों ने भाग लिया और हर एक गोपी के साथ भगवान कृष्ण नृत्य किया था।

ऐसे करें भगवान का पूजन

1. चैत्र पूर्णिमा के दिन भगवान हनुमान को खुश करने के लिए उन्हें लड्डुओं का भोग लगाना चाहिए और व्रत करना चाहिए।

2. भगवान विष्णु को खुश करने के लिए सत्यनारायण की कथा करा कर ब्राह्मणों को दान देना चाहिए।

3. पापों के नाश और जीवन में खुशियों के लिए गायत्री मंत्र और ओम नमो नारायण मंत्र का 108 बार जाप करना चाहिए।

4. चैत्र पूर्णिमा पर जरूरतमंद लोगों को दान देने से पुण्य मिलता है।

5. यदि आप भगवान को खुश करना चाहते हैं चैत्र पूर्णिमा का विधिपूर्वक जरूर व्रत करें।

चैत्र पूर्णिमा व्रत मुहूर्त 2022

• वर्ष 2022 में चैत्र पूर्णिमा 16 अप्रैल, शनिवार के दिन मनाई जाएगी।

• पूर्णिमा तिथि 16 अप्रैल, 2022 को 2:25 am बजे शुरू होगी।

• पूर्णिमा तिथि 17 अप्रैल, 2022 को 12:24 am पर समाप्त होगी।

ऐसी मान्यता है कि चैत्र मास की पूर्णिमा को ही श्री राम भक्त हनुमान जी का जन्म हुआ था, इसलिए इस दिन विशेष रूप से उत्तर और मध्य भारत में हनुमान जयंती मनाई जाती है।


Recently Added Articles
Sattila Ekadashi 2022 - षटतिला एकादशी व्रत 2022 तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व
Sattila Ekadashi 2022 - षटतिला एकादशी व्रत 2022 तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व

Sattila Ekadashi 2022: माघ मास के कृष्ण पक्ष में मनाई जाने वाली एकादशी को षटतिला एकादशी कहते हैं।...

माघ पूर्णिमा 2022  - Magha Purnima 2022
माघ पूर्णिमा 2022 - Magha Purnima 2022

हिंदू धर्म में माघ पूर्णिमा का विशेष धार्मिक एवं आध्यात्मिक महत्व है। पूर्णिमा पूर्ण चांद के दिन को कहां गया है।...

Naga Panchami 2022 - कब हैं 2022 में नाग पंचमी तारीख व मुहूर्त?
Naga Panchami 2022 - कब हैं 2022 में नाग पंचमी तारीख व मुहूर्त?

प्रत्येक वर्ष श्रावण शुक्ल पंचमी को पूरे देश में नाग पंचमी का पर्व मनाया जाता है।...

Amalaki Ekadashi 2022 - आमलकी एकादशी व्रत 2022 तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व
Amalaki Ekadashi 2022 - आमलकी एकादशी व्रत 2022 तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व

Amalalki Ekadashi 2022: फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को आमलकी एकादशी के रूप में मनाया जाता है।...