आज के ऑफर : 300Rs तक के रिचार्ज पर 10% EXTRA और 500Rs या उससे ऊपर के रिचार्ज पर 15% EXTRA प्राप्त करें।

इस दिन पड़ने वाली है 2019 में अपरा एकादशी, जान लीजिए शुभ मुहूर्त

अपरा एकादशी हिंदुओं के लिए एक उपवास का दिन है जो हिंदू ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की 'एकादशी' (11वें दिन) में मनाया जाता है। यह ग्रेगोरियन कैलेंडर में मई-जून के महीनों में आती है। ऐसा माना जाता है कि अपरा एकादशी व्रत का पालन करने से व्यक्ति के सभी पाप धुल जाते हैं। यह एकादशी अचला एकादशी के नाम से भी लोकप्रिय है। सभी एकादशियों की तरह, अपरा एकादशी भी भगवान विष्णु की पूजा करने के लिए समर्पित है।

हिंदी में 'अपार'शब्द का अर्थ है 'असीम', इस व्रत को मानने से व्यक्ति को असीमित धन की प्राप्ति होती है, इस एकादशी को 'अपरा एकादशी'कहा जाता है। इस एकादशी का एक और अर्थ है कि यह अपने भक्तों को असीमित लाभ देती है। अपरा एकादशी का महत्व 'ब्रह्म पुराण'में बताया गया है। इस एकादशी को पूरे देश में पूरी प्रतिबद्धता के साथ मनाया जाता है। इसे भारत के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न नामों से जाना जाता है। पंजाब, जम्मू और कश्मीर और हरियाणा राज्य में, अपरा एकादशी को 'भद्रकाली एकादशी'के रूप में मनाया जाता है और इस दिन देवी भद्र काली की पूजा की जाती है। उड़ीसा में इसे 'जलक्रीड़ा एकादशी'के रूप में जाना जाता है और इसे भगवान जगन्नाथ के सम्मान में मनाया जाता है।

2019 में कब है अपरा एकादशी और यह है शुभ मुहूर्त (Apara Ekadashi 2019)

इस साल अर्थात 2019 में अपरा एकादशी 30 मई को पड़ने वाली है जिसके व्रत तोड़ने का सही समय 31 मई को 5 बजकर 29 मिनट से 8 बजकर 13 मिनट है। पारणा तिथि के दिन द्वादशी समाप्त होने का समय 17 बजकर 16 मिनट है।

जबकि अगर हम इस एकादशी की प्रारम्भ तिथि जानें तो यह 29 मई को 15 बजकर 21 मिनट पर होगी और समाप्त 30 मई को 16 बजकर 37 मिनट पर।

अपरा एकादशी पर व्रत के बारे में भी जानें (Apara Ekadashi Vrat Katha)

अपरा एकादशी के उपासक को पूजा का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। सभी अनुष्ठानों को पूरी निष्ठा और समर्पण के साथ किया जाना चाहिए। इस व्रत का पालन करने वाले को सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करना चाहिए। भक्त को भगवान विष्णु को तुलसी के पत्ते, फूल, धूप और दीप अर्पित करने चाहिए। इस अवसर के लिए मिठाई तैयार की जाती है और प्रभु को अर्पित की जाती है।

श्रद्धालु अपरा एकादशी व्रत कथा या कथा का भी पाठ करते हैं। फिर आरती की जाती है और अन्य भक्तों के बीच 'प्रसाद'बांटा जाता है। भक्त शाम को भगवान विष्णु के मंदिरों में भी जाते हैं।

इस एकादशी का व्रत 'दशमी'से शुरू होता है। इस दिन भक्तजन केवल एक समय भोजन करते है ताकि एकादशी के दिन पेट खाली रहे। कुछ भक्त कड़े उपवास रखते हैं और बिना कुछ खाए-पिए दिन बिताते हैं। 

जबकि आंशिक व्रत उन लोगों के लिए भी रखा जा सकता है जो सख्त उपवास का पालन करने के लिए अयोग्य हैं। वे पूरे दिन 'फलाहार'कर सकते हैं।

व्रत सूर्योदय से शुरू होता है और 'द्वादशी'के सूर्योदय पर समाप्त होता है। अपरा एकादशी के दिन सभी प्रकार के अनाज और चावल खाना सभी के लिए निषिद्ध है। शरीर पर तेल लगाने की भी अनुमति नहीं है।

इस एकादशी के व्रत का अर्थ केवल खाने को नियंत्रित करना नहीं है, बल्कि मन को सभी नकारात्मक विचारों से मुक्त रखना है। इस व्रत के पालनकर्ता को झूठ नहीं बोलना चाहिए और न ही दूसरों के बारे में बुरा बोलना चाहिए। उनके मन में केवल भगवान विष्णु के बारे में विचार होना चाहिए। इस दिन 'विष्णु सहस्त्रनाम'का पाठ करना शुभ माना जाता है। अपरा एकादशी व्रत के पालनकर्ताओं को भगवान विष्णु के भजन और कीर्तन भी करने चाहिए।

 

अपरा एकादशी 2019 पर कैसे होगा भाग्य उदय सरल ज्योतिषीय उपाय के लिये Astroswamig पर देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

 


Recently Added Articles
CSK vs MI - 2020 Match Prediction
CSK vs MI - 2020 Match Prediction

IPL 2020 का पहला मैच 29 मार्च को शाम 8 बजे से शुरू हो जायेगा। चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस (CSK VS MI) के बीच यह मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम ...

Navratri 2020 - किस दिन करें देवी के किस स्वरूप की पूजा
Navratri 2020 - किस दिन करें देवी के किस स्वरूप की पूजा

नवरात्रि, नवदुर्गा नौ दिनों का त्योहार है, सभी नौ दिन माता आदि शक्ति के विभिन्न रूपों को समर्पित हैं।...

 CSK VS RR  -  IPL Match Prediction, 5th Match
CSK VS RR - IPL Match Prediction, 5th Match

आईपीएल 2020 की बात करें तो इस बार आईपीएल कहीं ना कहीं कोरोनावायरस के चलते फीका पड़ता हुआ नजर आ रखा है। पिछले मैचों की तुलना में इस बार मैच देखने वाले ...

IPL इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले टॉप-5 बल्लेबाज
IPL इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले टॉप-5 बल्लेबाज

अभी तक आईपीएल (IPL) के 12 साल के इतिहास में बोलिंग और बैटिंग केटेगरी समेत बहुत से रिकॉर्ड बने हैं। एक ओर सर्वाधिक रनों का रिकॉर्ड इंडियन कप्तान विराट ...


2020 आपका साल है! अब अपनी पूरी रिपोर्ट प्राप्त करें और जानें कि 2020 में आपके लिए कौन से नियम छिपे हैं
पहले से ही एक खाता है लॉग इन करें