इस दिन पड़ने वाली है 2019 में अपरा एकादशी, जान लीजिए शुभ मुहूर्त

अपरा एकादशी हिंदुओं के लिए एक उपवास का दिन है जो हिंदू ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की 'एकादशी' (11वें दिन) में मनाया जाता है। यह ग्रेगोरियन कैलेंडर में मई-जून के महीनों में आती है। ऐसा माना जाता है कि अपरा एकादशी व्रत का पालन करने से व्यक्ति के सभी पाप धुल जाते हैं। यह एकादशी अचला एकादशी के नाम से भी लोकप्रिय है। सभी एकादशियों की तरह, अपरा एकादशी भी भगवान विष्णु की पूजा करने के लिए समर्पित है।

हिंदी में 'अपार'शब्द का अर्थ है 'असीम', इस व्रत को मानने से व्यक्ति को असीमित धन की प्राप्ति होती है, इस एकादशी को 'अपरा एकादशी'कहा जाता है। इस एकादशी का एक और अर्थ है कि यह अपने भक्तों को असीमित लाभ देती है। अपरा एकादशी का महत्व 'ब्रह्म पुराण'में बताया गया है। इस एकादशी को पूरे देश में पूरी प्रतिबद्धता के साथ मनाया जाता है। इसे भारत के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न नामों से जाना जाता है। पंजाब, जम्मू और कश्मीर और हरियाणा राज्य में, अपरा एकादशी को 'भद्रकाली एकादशी'के रूप में मनाया जाता है और इस दिन देवी भद्र काली की पूजा की जाती है। उड़ीसा में इसे 'जलक्रीड़ा एकादशी'के रूप में जाना जाता है और इसे भगवान जगन्नाथ के सम्मान में मनाया जाता है।

2019 में कब है अपरा एकादशी और यह है शुभ मुहूर्त (Apara Ekadashi 2019)

इस साल अर्थात 2019 में अपरा एकादशी 30 मई को पड़ने वाली है जिसके व्रत तोड़ने का सही समय 31 मई को 5 बजकर 29 मिनट से 8 बजकर 13 मिनट है। पारणा तिथि के दिन द्वादशी समाप्त होने का समय 17 बजकर 16 मिनट है।

जबकि अगर हम इस एकादशी की प्रारम्भ तिथि जानें तो यह 29 मई को 15 बजकर 21 मिनट पर होगी और समाप्त 30 मई को 16 बजकर 37 मिनट पर।

अपरा एकादशी पर व्रत के बारे में भी जानें (Apara Ekadashi Vrat Katha)

अपरा एकादशी के उपासक को पूजा का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। सभी अनुष्ठानों को पूरी निष्ठा और समर्पण के साथ किया जाना चाहिए। इस व्रत का पालन करने वाले को सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करना चाहिए। भक्त को भगवान विष्णु को तुलसी के पत्ते, फूल, धूप और दीप अर्पित करने चाहिए। इस अवसर के लिए मिठाई तैयार की जाती है और प्रभु को अर्पित की जाती है।

श्रद्धालु अपरा एकादशी व्रत कथा या कथा का भी पाठ करते हैं। फिर आरती की जाती है और अन्य भक्तों के बीच 'प्रसाद'बांटा जाता है। भक्त शाम को भगवान विष्णु के मंदिरों में भी जाते हैं।

इस एकादशी का व्रत 'दशमी'से शुरू होता है। इस दिन भक्तजन केवल एक समय भोजन करते है ताकि एकादशी के दिन पेट खाली रहे। कुछ भक्त कड़े उपवास रखते हैं और बिना कुछ खाए-पिए दिन बिताते हैं। 

जबकि आंशिक व्रत उन लोगों के लिए भी रखा जा सकता है जो सख्त उपवास का पालन करने के लिए अयोग्य हैं। वे पूरे दिन 'फलाहार'कर सकते हैं।

व्रत सूर्योदय से शुरू होता है और 'द्वादशी'के सूर्योदय पर समाप्त होता है। अपरा एकादशी के दिन सभी प्रकार के अनाज और चावल खाना सभी के लिए निषिद्ध है। शरीर पर तेल लगाने की भी अनुमति नहीं है।

इस एकादशी के व्रत का अर्थ केवल खाने को नियंत्रित करना नहीं है, बल्कि मन को सभी नकारात्मक विचारों से मुक्त रखना है। इस व्रत के पालनकर्ता को झूठ नहीं बोलना चाहिए और न ही दूसरों के बारे में बुरा बोलना चाहिए। उनके मन में केवल भगवान विष्णु के बारे में विचार होना चाहिए। इस दिन 'विष्णु सहस्त्रनाम'का पाठ करना शुभ माना जाता है। अपरा एकादशी व्रत के पालनकर्ताओं को भगवान विष्णु के भजन और कीर्तन भी करने चाहिए।

 

अपरा एकादशी 2019 पर कैसे होगा भाग्य उदय सरल ज्योतिषीय उपाय के लिये Astroswamig पर देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

 

Recently Added Articles

कुंडली में सरकारी नौकरी
कुंडली में सरकारी नौकरी

आजकल के युवा सरकारी नौकरी कीचाह रखने लगे हैं क्योंकि वह समझते हैं कि सरकारी नौकरी में उनका भविष्य सुरक्षित हैI...

रामबाण उपाय जो दिला देगा काले जादू से मुक्ति
रामबाण उपाय जो दिला देगा काले जादू से मुक्ति

आज के समय में काला जादू की बात कहना भी बेवकूफी के समान है क्योंकि लोगों का मानना है कि ...

पितृ पक्ष 2019 – 2019 श्राद्ध में क्या करे और क्या ना करे
पितृ पक्ष 2019 – 2019 श्राद्ध में क्या करे और क्या ना करे

हिंदू कैलेंडर पर आधारित श्राद्ध पक्ष या पितृ पक्ष 13 सितंबर से शुरू होकर इस साल 28 सितंबर को समाप्त हो रहा है।...

अंगारक योग
अंगारक योग

अंगारक योग उन कुंडली योगों में शामिल है, जो जिंदगी को दुख देते हैं। किसी की कुंडली में राहु या केतु किसी एक साथ भी...