एस्ट्रोस्वामीजी की ओर से नववर्ष 2020 की हार्दिक शुभकामनाये! अभी साइन-अप करे और पायें 100 रु का मुफ्त टॉक-टाइम ऑनलाइन ज्योतिष परामर्श पर!

अपरा एकादशी हिंदुओं के लिए एक उपवास का दिन है जो हिंदू ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की 'एकादशी' (11वें दिन) में मनाया जाता है। यह ग्रेगोरियन कैलेंडर में मई-जून के महीनों में आती है। ऐसा माना जाता है कि अपरा एकादशी व्रत का पालन करने से व्यक्ति के सभी पाप धुल जाते हैं। यह एकादशी अचला एकादशी के नाम से भी लोकप्रिय है। सभी एकादशियों की तरह, अपरा एकादशी भी भगवान विष्णु की पूजा करने के लिए समर्पित है।

हिंदी में 'अपार'शब्द का अर्थ है 'असीम', इस व्रत को मानने से व्यक्ति को असीमित धन की प्राप्ति होती है, इस एकादशी को 'अपरा एकादशी'कहा जाता है। इस एकादशी का एक और अर्थ है कि यह अपने भक्तों को असीमित लाभ देती है। अपरा एकादशी का महत्व 'ब्रह्म पुराण'में बताया गया है। इस एकादशी को पूरे देश में पूरी प्रतिबद्धता के साथ मनाया जाता है। इसे भारत के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न नामों से जाना जाता है। पंजाब, जम्मू और कश्मीर और हरियाणा राज्य में, अपरा एकादशी को 'भद्रकाली एकादशी'के रूप में मनाया जाता है और इस दिन देवी भद्र काली की पूजा की जाती है। उड़ीसा में इसे 'जलक्रीड़ा एकादशी'के रूप में जाना जाता है और इसे भगवान जगन्नाथ के सम्मान में मनाया जाता है।

2019 में कब है अपरा एकादशी और यह है शुभ मुहूर्त (Apara Ekadashi 2019)

इस साल अर्थात 2019 में अपरा एकादशी 30 मई को पड़ने वाली है जिसके व्रत तोड़ने का सही समय 31 मई को 5 बजकर 29 मिनट से 8 बजकर 13 मिनट है। पारणा तिथि के दिन द्वादशी समाप्त होने का समय 17 बजकर 16 मिनट है।

जबकि अगर हम इस एकादशी की प्रारम्भ तिथि जानें तो यह 29 मई को 15 बजकर 21 मिनट पर होगी और समाप्त 30 मई को 16 बजकर 37 मिनट पर।

अपरा एकादशी पर व्रत के बारे में भी जानें (Apara Ekadashi Vrat Katha)

अपरा एकादशी के उपासक को पूजा का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। सभी अनुष्ठानों को पूरी निष्ठा और समर्पण के साथ किया जाना चाहिए। इस व्रत का पालन करने वाले को सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करना चाहिए। भक्त को भगवान विष्णु को तुलसी के पत्ते, फूल, धूप और दीप अर्पित करने चाहिए। इस अवसर के लिए मिठाई तैयार की जाती है और प्रभु को अर्पित की जाती है।

श्रद्धालु अपरा एकादशी व्रत कथा या कथा का भी पाठ करते हैं। फिर आरती की जाती है और अन्य भक्तों के बीच 'प्रसाद'बांटा जाता है। भक्त शाम को भगवान विष्णु के मंदिरों में भी जाते हैं।

इस एकादशी का व्रत 'दशमी'से शुरू होता है। इस दिन भक्तजन केवल एक समय भोजन करते है ताकि एकादशी के दिन पेट खाली रहे। कुछ भक्त कड़े उपवास रखते हैं और बिना कुछ खाए-पिए दिन बिताते हैं। 

जबकि आंशिक व्रत उन लोगों के लिए भी रखा जा सकता है जो सख्त उपवास का पालन करने के लिए अयोग्य हैं। वे पूरे दिन 'फलाहार'कर सकते हैं।

व्रत सूर्योदय से शुरू होता है और 'द्वादशी'के सूर्योदय पर समाप्त होता है। अपरा एकादशी के दिन सभी प्रकार के अनाज और चावल खाना सभी के लिए निषिद्ध है। शरीर पर तेल लगाने की भी अनुमति नहीं है।

इस एकादशी के व्रत का अर्थ केवल खाने को नियंत्रित करना नहीं है, बल्कि मन को सभी नकारात्मक विचारों से मुक्त रखना है। इस व्रत के पालनकर्ता को झूठ नहीं बोलना चाहिए और न ही दूसरों के बारे में बुरा बोलना चाहिए। उनके मन में केवल भगवान विष्णु के बारे में विचार होना चाहिए। इस दिन 'विष्णु सहस्त्रनाम'का पाठ करना शुभ माना जाता है। अपरा एकादशी व्रत के पालनकर्ताओं को भगवान विष्णु के भजन और कीर्तन भी करने चाहिए।

 

अपरा एकादशी 2019 पर कैसे होगा भाग्य उदय सरल ज्योतिषीय उपाय के लिये Astroswamig पर देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

 

Recently Added Articles
Tulsi Vivah 2020 - जाने तुलसी विवाह 2020 में पूजा समय, अब होंगे शुरु मांगलिक काम
Tulsi Vivah 2020 - जाने तुलसी विवाह 2020 में पूजा समय, अब होंगे शुरु मांगलिक काम

हिंदू कैलेंडर में सबसे शुभ दिनों में से एक तुलसी विवाह को माना जाता हैं। हिंदू शास्त्रों में इस तरीके का जिक्र आता है कि तुलसी विवाह का आयोजन घर में क...

Mercury Transit 2019 - वृश्चिक से धनु राशि में बुध गोचर 2019
Mercury Transit 2019 - वृश्चिक से धनु राशि में बुध गोचर 2019

क्या होता है गोचर ? गोचर का सामान्य शब्दों में अगर आपको अर्थ बताएं तो इसका अर्थ गमन यानी कि आगे बढ़ना चलना होता है।...

Mercury Transit 2020 - राशिनुसार जाने बुध गोचर के होने वाले प्रभाव
Mercury Transit 2020 - राशिनुसार जाने बुध गोचर के होने वाले प्रभाव

पौराणिक कथाओं में इस तरीके का जिक्र किया गया है कि बुध ग्रह को देवताओं का ग्रह बताया गया है। बुध ग्रह हमेशा से ही देवताओं के संदेश लेकर एक जगह से दूसर...

भगवान श्री राम की ये निशानियां आज भी हैं मौजूद
भगवान श्री राम की ये निशानियां आज भी हैं मौजूद

भगवान राम और रामायण के कई सारे सबूत हमारे सामने मौजूद हैं। भगवान राम आज भारत में अपने राम मंदिर को लेके अदालत में लड़ते हुए बेशक नजर आ रहे हैं।...


2020 is your year! Get your YEARLY REPORTS now and know what SURPRISES are hidden for you in 2020
Already Have an Account LOGIN